शब-ए-बारात: ना जाएं कब्रिस्तान, घर पर ही करें इबादत और दुआ, धर्मगुरुओं ने की अपील

8-9 अप्रैल की रात शब-ए-बारात है. इस्लामी कैलेंडर में इस रात को पवित्र माना जाता है और इस मौके पर लोग मस्जिदों में इबादत करते हैं और अपने दिवंगत परिजन और रिश्तेदारों के लिए दुआ मांगने कब्रिस्तान जाते हैं.

muslim religious leaders appeals on shab-e-barat in lockdown
muslim religious leaders appeals on shab-e-barat in lockdown

लेकिन कोरोना वायरस के चलते सभी लोग अपने अपने घरों से ही इबादत करेंगे. देश के प्रमुख मुस्लिम संगठनों और धर्मगुरुओं ने कोरोना वायरस की महामारी के मद्देनजर अपने समुदाय के लोगों से घर पर ही रहने की अपील की है. पहले सुन्नी वक्फ बोर्ड और अब शिया वक्फ बोर्ड ने भी शब-ए-बारात के मौके पर नौ अप्रैल को लोगों से घरों में रहकर इबादत करने के लिए कहा है.

-----

धर्मगुरुओं ने अपील की है कि लोग आज बुधवार रात शब-ए-बारात के मौके पर दुआ के लिए कब्रिस्तान नहीं जाएं और घर पर रहकर ही इबादत और दुआ करें. जमीयत उलेमा-ए-हिन्द के महासचिव मौलाना महमूद मदनी, मुस्लिम इत्तेहाद परिषद के प्रमुख मौलाना तौकीर रजा, दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष जफरुल इस्लाम खान और फतेहपुरी मस्जिद के शाही इमाम मुफ्ती मुकर्रम अहमद की तरफ से अपील जारी की गई है.

वहीं शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने सभी मुतवल्लियों और प्रबंध समितियों को शब-ए-बारात के मौके पर सभी कब्रिस्तानों को आम लोगों के लिए बंद रखने के निर्देश दिए हैं. और कब्रिस्तान में रहने वाले वक्फ कर्मचारियों को सभी कब्रों की साफ-सफाई करने के निर्देश दिए गए हैं. साथ ही सभी कब्रों में एक-एक शमा जरूर जलाने को कहा है.

इससे पहले उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने शब-ए-बारात के मौके पर वक्फ बोर्ड के मुख्य कार्यपालक अधिकारी एसएम शोएब ने वक्फ संपत्तियों के सभी मुतवल्लियों और प्रबंध समितियों को ये निर्देश दिए हैं कि शब-ए-बारात के मौके पर लोगों को कब्रिस्तान, दरगाहों और मजारों पर आने से हर हाल में रोकें.

बतादें कि यूपी में अबतक 332 केस हो गए हैं जिसमें 308 केस एक्टिव हैं. इसमें सबसे ज्यादा 176 जमाती हैं और नोएडा के 58 मरीज शामिल हैं. 21 मरीज ठीक हुए हैं और 3 लोगों की मौत हो चुकी है. ऐसे में लोगों का घर से निकलना एक दूसरे से मिलना सभी के लिए खतरा बन सकता है. लॉकडाउन का उल्लंघन किसी भी स्थिति में न होने पाए इसलिए इन निर्देशों का पालन न करने वाले मुतवल्ली और प्रबंध समिति स्वयं जिम्मेदार होगी.