मोदी जी (Modi ji) का अमेरिका दौरा फीका क्यों रहा ? जहाज की फोटो खिचाई से..छतरी वाले सीन तक पूरा विश्लेषण : संपादकीय व्यंग्य

PRAGYA KA PANNA
PRAGYA KA PANNA

मोदी जी अपने जहाज में पेपर के नीचे से लाइट डालकर क्यों पढ़ रहे थे..बैग बगल की सीट पर रखकर और ताला लगाकार क्यों फोटो खिचा रहे थे..इन सब छोटी-छोटी और हल्की टीका टिप्पणियों के बीच..बड़ी बात ये है कि मोदी जी का ये अमेरिका दौरा इतना फीका क्यों है..भारतीय मीडिया ने पूरी ताकत लगा रखी है लेकिन फिर भी ट्रंप के जमाने वाला जोश खरोश क्यों नहीं आ पाया है..आज इसी पर डीटेल में बात करेंगे..जिन लोगों ने चैनल सब्सक्राइब नहीं किया है वो कर लें..और फेसबुक पर जुकरबर्ग भाईसाहब ने फॉलो करने का बटन बनाया है अगर आप उसको दबा देंगे तो हमसे झट से फ्री में जुड़ जाएंगे..

तो दोस्तों मोदी जी (Modi ji) जिस जहाज से यात्रा कर रहे हैं इसका नाम है..एयर इंडिया वन’ के बी-777..यानी ये आम जहाज नहीं है..ये जहाज भारत से अमेरिका की 15 घंटे की यात्रा बिना कहीं रुके कर सकता है..ये इतिहास में पहली बार हुआ है कि भारत के प्रधानमंत्री को कहीं रास्ते में रुकना नहीं पड़ा वर्ना अमेरिका जाने वाले हर भारतीय प्रधानमंत्री को तेल वेल भराने के लिए जर्मनी में रुकना जरूर पड़ता था..मोदी जी के इस जहाज की तुलना अमेरिकी राष्ट्रपति के जहाज एयरफोर्स वन से की जा रही है..मोदी जी का नया नया जहाज है अमेरिका ने ही बनाया है..बिचारे फोटो फाटो खिचाते हुए अमेरिका जा रहे थे…आलीशान जहाज में सुध बुध खोकर काम करने की इमेज बनाने के चक्कर में कई टेक्निकल गलतियां हो गईं..

जैसे ताला लगा कपड़ों का बैग अपनी बगल सी सीट पर रख लिया..जिससे लगे कि बहुत हड़बड़ी में जा रहे हैं..या फिर काम के चक्कर में बैग अपनी जगह पर नहीं रख पाए..इस जहाज में लैब है..कॉन्फ्रेंस रूम है..सोने का कमरा है..स्टाफ के रहने की व्यवस्था है..डॉक्टर वॉक्टर सब होते हैं..सेना इस जहाज को स्कॉट करती है..मोदी जी कोई भारत पीडब्लू डी विभाग के बाबू थोड़े हैं कि फाइलें अपने साथ बगल में दबाकर लेकर चलते होंगे..इसके लिए पीए वीए रखे होंगे..स्टाफ होगा..जो बताता होगा सर एक साइन यहां..सर एक साइन और..लेकिन नए-नए जहाज में ऐसे बिखरी हुई फाइलों और यात्रा के बैग के साथ फोटो खीचा जाए तो अच्छा रहता है..और फोटोग्राफी कोई मोदी जी को नहीं सिखा सकता..

मोदी जी (Modi ji) बहुत समय बाद अपने नए नए बोईंग कंपनी के विमान से अमेरिका गए हैं..भारत की मोदी मीडिया ने वैसा ही माहौल बनाने की कोशिश की जैसा माहौल भगवान राम के वनवास से लौटने के बाद बना था..लेकिन वो भी बन नहीं पाया..एक तो बिना बारिश के मोदी जी छतरी लेकर जहाज से निकलने का लॉजिक लोगों को समझ में नहीं आया..ऊपर से अंजना जी ने बहुत ही एक्साइटमेंट में ढोल बजा रहे लोगों से पूछा कि मोदी जी के आने का एक्साइटमेंट क्या है तो ढोल वोल बजा रहे आदमी ने कहा हमको तो बुलाया गया है कि आओ सपोर्ट करो..तो हम सपोर्ट कर रहे हैं..हमको तो ढोल बजाने के लिए बुलाया गया है..

देखिए जो लोग अंजना जी को अपशब्द कह रहे हैं तो मैं उनसे कहना चाहती हूं कि अंजना जी की इज्जत करें..जब आप किसी चैनल में नौकरी करते हैं तो चैनल जो कहता है वो करना पड़ता है..तो अंजना जी जो करती हैं वो उनकी ड्यूटी और नौकरी का हिस्सा है..इसलिए प्लीज आप लोग अंजना जी को अपशब्द ना कहें..उनके व्यक्तिगत विचार टीवी की एंकरिंग से अलग हो सकते हैं..दोस्तों फिर किसी ने वीडियो डालकर बताया कि मोदी जी के दौरे की खबर अमेरिकी अखबारों में छपी नहीं है..अंजना जी ने भी वहां के अखबार पलटे तो उनको भी कुछ नहीं मिला..

दोस्तों एक बात और है कि मोदी जी बहुत उत्सुकता से भारतीय मूल की अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस से मिले..मोदी जी ने अपनी एक्साइटमेंट की तस्वीरें ट्विटर पर पोस्ट कीं लेकिन दूसरी तरफ से कलला हैरिस ने हमारे प्रधानमंत्री से मुलाकात की तस्वीरें अपने ट्विटर पर पोस्ट नहीं की..कि मोदी जी से मिलकर बड़ा अच्छा लगा बड़े अच्छे आदमी हैं..जैसा लोग कट्सी में करते हैं..इसका एक कारण हो सकता है कि मोदी जी ट्रंप के सपोर्टर थे..ट्रंप के लिए प्रचार करके आए थे..

अमेरिका में इस बार मोदी जी का इवेंट मैनेजमेंट उतना तगड़ा नहीं था…जितना तगड़ा पहले होता था..हो सकता है कि ये कोरोना के कारण हुआ हो…या हो सकता है इस बार मोदी जी (Modi ji) ने ढंग का पैसा ना खर्च किया हो..या हो सकता है कि मोदी जी तो ट्रंप को जिताने के लिए प्रचार करके आए थे..कहकर आए थे कि अबकी बार ट्रंप सरकार और आ गए बाइडन इसलिए भी मामला थोड़ा स्नाटेदार दिखाई दे रहा हो..खैर जो भी हमारे देश भारत वर्ष का परचम लहराता रहेगा..कोई बाइडन वाइडन कुछ नहीं कर सकता..इस वीडियो में इतना ही..अगर आप फेसबुक पर देख रहे हैं तो पेज तो तुरंत फॉलो कर लीजिए..अगर यूट्यूब पर देख रहे हैं तो सब्सक्राइब कीजिए..मुझे ट्विटर पर @PRAGYALIVE नाम से खोजकर फॉलो कीजिए..इंस्टा का भी लिंक डिसक्रिप्शन में है..चलते हैं राम राम दुआ सलाम जय हिंद..

Disclamer- उपर्योक्त लेख लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार द्वारा लिखा गया है. लेख में सुचनाओं के साथ उनके निजी विचारों का भी मिश्रण है. सूचना वरिष्ठ पत्रकार के द्वारा लिखी गई है. जिसको ज्यों का त्यों प्रस्तुत किया गया है. लेक में विचार और विचारधारा लेखक की अपनी है. लेख का मक्सद किसी व्यक्ति धर्म जाति संप्रदाय या दल को ठेस पहुंचाने का नहीं है. लेख में प्रस्तुत राय और नजरिया लेखक का अपना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *