चंद्रयान-2 लॉन्चिंग के 16 मिनट बाद PM मोदी समेत पूरे देश ने वैज्ञानिकों को दी बधाई, देखें-

इसरो के मून मिशन चंद्रयान-2 के उड़ान भरते ही पूरा देश जैसे खुशी से झूम उठा. पृथ्वी की कक्षा में स्थापित होने के साथ ही यान ने भारत के महत्वाकांक्षी मिशन के पहले चरण को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है. आज से 48वें दिन पर चंद्रयान-2 चांद की सतह पर पहुंच जायेगा.

mission chandrayaan-2 launch of bahubali congratulates isro scientists
mission chandrayaan-2 launch of bahubali congratulates isro scientists

चंद्रयान-2 लांचिंग के बाद इसरो के चीफ के. सिवन ने प्रेस कांफ्रेंस करके कहा कि वक्त रहते तकनीकी जांच की गई. और उसके बाद इस ऐतिहासिक सफर पर चंद्रयान-2 को छोड़ा गया है. सफल लॉन्चिंग के बाद जीएसएलवी-एमके तृतीय-एम1 से चंद्रयान-2 अलग होकर आगे की तरफ बढ़ रहा है. चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग हमारी सोच से बेहतर रही. इसकी सफल लॉन्चिंग से खुशी है. ये वैज्ञानिकों की कड़ी मेहनत का नतीजा है, इसके लिए सभी वैज्ञानिकों को सैल्यूट है.

-----

चंद्रयान-2 को नेतृत्व दो महिला वैज्ञानिकों के हाथ में रहेगा. इसरो के किसी अंतरिक्ष मिशन में ऐसा पहली बार होग. इस मिशन पर देश की ही नहीं बल्कि दुनिया की नज़र है. जैसे ही ‘बाहुबली’ रॉकेट लांच हुआ पूरे देश में तालियों की गड़गड़ाहट गूंज उठीं.

वहीं चंद्रयान-2 की लांचिंग प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी अपने कार्यालय से लाइव देख रहे थे. पीएम मोदी ने पूरी लांचिंग खड़े-खड़े ही देखी. लांचिंग के 16 मिनट बाद जब पृथ्वी की सतह पर जीएसएलवी-एमके तृतीय-एम1 सफलतापूर्वक स्थापित हो गया तब जा कर पीएम मोदी ने ताली बजाई. उसके बाद उन्होंने टवीट कर बधाई भी दी.

उन्होंने लिखा कि यह विशेष क्षण हमारे गौरवशाली इतिहास में दर्ज हो जाएंगे. चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण हमारे वैज्ञानिकों के साहस और 130 करोड़ भारतीयों के विज्ञान के नए स्तरों को निर्धारित करने के संकल्प को दर्शाता है. आज हर भारतीय को गर्व है.

चंद्रयान-2 अद्वितीय है क्योंकि यह चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र पर उतरेगा और जहां अब तक कोई मिशन नहीं गया है. यह अध्ययन कर पता लगाएगा और वहां से नमूने लाएगा. यह मिशन चंद्रमा के बारे में नया जानकारी देगा.

चंद्रयान-2 जैसे प्रयास हमारे होनहार युवाओं को विज्ञान, उच्च गुणवत्ता वाले अनुसंधान और नई खोज की ओर प्रोत्साहित करेंगे.