मुलायम पर मेहरबान हुईं मायावती, गेस्ट हाउस कांड का मुकदमा लेंगी वापस, कोर्ट में लगाई अर्ज़ी

यूपी की सियासत से एक बड़ी खबर आ रही है. समाजवादी पार्टी पर अपनी भड़ास निकालने वाली मायावती गेस्ट हाउस कांड में मुलायम पड़ गई हैं. मायावती के इस फैसले से सभी हैरान हैं.

mayawati take back the case of guest house kand mulayam singh yadav
mayawati take back the case of guest house kand mulayam singh yadav

मायावती ने समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के खिलाफ 1995 में गेस्ट हाउस कांड में मुकदमा दर्ज करवाया था. जो अब वो वापस लेने वाली हैं. मायावती ने अपना केस वापस लेने का फैसला लिया है. माया ने सुप्रीम कोर्ट में मामले को वापस लेने के लिए एक अर्जी भी दी है. इस बात की पुष्टि बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने की है.

लेकिन अभी तक ये साफ़ नहीं हो पाया है कि इस कांड के सभी आरोपियों के नाम मुकदमे से वापस लिए जायेंगे या फिर सिर्फ मुलायम सिंह यादव का ही नाम वापस होगा. वैसे अचानक मुकदमा वापसी की चर्चा फैलते ही सियासी गलियारों में भी तरह-तरह की अटकलें लगनी शुरू हो गई है. इसके सियासी मायने भी निकाले जा रहे हैं.

लोकसभा चुनाव के समय सपा-बसपा में गठबंधन था तब मुलायम के लिए मायावती ने वोट भी मांगा था. मुलायम और मायावती एक मंच पर दिखे थे. सूत्रों के मुताबिक मायावती ने पार्टी कार्यकर्ताओं की एक बैठक में कहा कि अखिलेश यादव ने लोकसभा चुनावों के समय उनसे 24 साल पुराने इस मामले को वापस लेने के लिए अनुरोध किया था.

बतादें कि दो जून 1995 का दिन गेस्ट हाउस कांड के रूप में याद किया जाता है. मायावती पर हमले के विरोध में मुलायम सिंह यादव, शिवपाल सिंह यादव, सपा के वरिष्ठ नेता धनीराम वर्मा, मोहम्मद आजम खां, बेनी प्रसाद वर्मा समेत कई नेताओं के खिलाफ हजरतगंज कोतवाली में तीन मुकदमे दर्ज किए गए थे. तब उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा की गठबंधन वाली सरकार थी.

अभी हालही में हुए विधानसभा उपचुनाव में सपा और बसपा ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था. जिसमें सपा को तीन सीटें मिलीं थीं लेकिन बसपा खाता भी नहीं खोल सकी थी. और मायावती ने अपनी हार का ठीकरा अखिलेश यादव पर ही फोड़ा था. अब ऐसे में मायावती का केस वापस लेना सबके लिए हैरानी की बात है.

193 total views, 6 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *