मायावती ने महिलाओं की इज़्ज़त उछालने वाले ‘आज़म खान’ के लिए मांगे वोट, अखिलेश भी मौजूद

मैनपुरी में मुलायम सिंह यादव के लिए वोट मांगने के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने शनिवार को यूपी के रामपुर में आजम खां (Azam Khan) के समर्थन में रैली को संबोधित किया. और उनके लिए वोट भी मांगे.

mayawati rally in rampur ask vote for azam khan
mayawati rally in rampur ask vote for azam khan

मायावती ने इस दौरान इशारों ही इशारों में बीजेपी कैंडिडेट जया प्रदा पर तंज कसा. उन्होंने कहा कि रामपुर लोकसभा सीट में भी बीजेपी के कई चौकीदार घूम रहे हैं लेकिन इनके सभी चौकीदार कितनी भी ताकत क्यों न लगा लें, सत्ता में वापस आने वाले नहीं हैं. बीजेपी और आरएसएस को मुहतोड़ जवाब आजम देंगे. आजम की रामपुर में ऐतिहासिक जीत होगी. इसके साथ ही मुरादाबाद से एसटी हसन और सम्भल से बर्क भी भारी मतों से जीतेंगे.

मायावती के साथ मंच पर मोहम्मद आजम खान के साथ-साथ समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव, बीएसपी नेता सतीश चंद्र मिश्रा, मायावती के भतीजे आकाश आनंद भी मौजूद थे. माया ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार ने गन्ना भुगतान नहीं किया. योजनाओं का लाभ नहीं मिला. आरक्षण का कोटा आज तक पूरा नहीं हुआ. सरकारी कार्य प्राइवेट सेक्टर को दिए जा रहे हैं, धन्नासेठों को लाभ पहुंचाया जा रहा है.

माया ने सख़्त तेवर में कहा कि चाहे बीजेपी-आरएसएस के लोग आज़म के विरुद्ध कितनी भी शरारतपूर्ण और घिनौने हथकंडे क्यों न इस्तेमाल कर लें, फिर भी जीत हमारे गठबंधन के इन्हीं उम्मीदवार की होगी. बतादें अभी हालही में आज़म खान ने जया प्रदा पर विवादित और शर्मनाक बयान दिया था. साथ ही रामपुर के कलेक्टर को भी मायावती के जूते पुछवाने की धमकी दी थी. तभी से आज़म टारगेट पर हैं.

कांग्रेस पर भी निशाना साधते हुए कहा कि ‘1989 में करप्शन को लेकर और बोफोर्स को लेकर कांग्रेस सत्ता से बाहर हो गई थी. अब राफेल के मामले में बारी भारतीय जनता पार्टी की है. केंद्र की सरकार (एनडीए) ने जिस तरह से नोटबंदी और जीएसटी को जल्दबाजी में लागू किया है, उससे गरीबी और बेरोजगारी और भी बढ़ गई है.

मायावती का आज़म के लिए वोट मांगना ये दर्शाता है कि उनको महिलाओं के सम्मान की ज़रा सी भी चिंता नहीं है.