मायावती ने अखिलेश को दी धमकी..बताया जातिवादी..विधायक कांड से गुस्से में माया..

एक एक करके बसपा के विधायक और नेता सपा में शामिल होते जा रहे हैं..जिस स्पीड से बसपा से नेता जा रहे हैं..उससे लग रहा है कुछ दिन में मायावाती के खेमे में खड़े होने के लिए नेता नहीं बचेंगे..आज की खबर ये है कि साहिबाबाद सीट से पूर्व बसपा विधायक अपने दर्जनों समर्थकों के साथ सपा में शामिल हो गए..लखनऊ में अखिलेश यादव ने खुद सबको सपा की सदस्यता दिलाई..विधानसभा चुनाव में सिर्फ और सिर्फ 6 महीने का समय बचा है..यूपी की सियसत में गदर मचा हुआ है..एक तरफ बीजेपी के भीतर मुख्यमंत्री बनने और बनाने के को लेकर सिर फुटौव्वल चल रही है दूसरी तरफ मायावती और अखिलेश के बीच जंग तेज हो गई है..

दोस्तों बिल्कुल ताजा अपडेट ये है कि कल की 9 बसपा विधायकों से अखिलेश की मुलाकात के बाद…मायावती भन्ना गई हैं..बसपा अध्यक्ष मायावती बहुत गुस्से में हैं.. मायावती ने अखिलेश यादव को धमकी देते हुए कहा है कि अगर सपा ने बसपा से निष्कासित विधायकों को अपनी पार्टी में ज्वाइन कराया तो समाजवादी पार्टी टूट जाएगी..समाजवादी पार्टी के भीतर बगावत हो जाएगी..मायावती ने एक के बाद एक 5 ट्विट किए..

दोस्तों मायावती ने कहा कि सपा का चाल, चरित्र और चेहरा हमेशा से ही दलित विरोधी रहा है..बसपा के निलंबित विधायकों से मिलने का मीडिया में प्रचार करना एक नाटक है..अखिलेश यादव UP में पंचायत चुनाव के बाद जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख के चुनाव के लिए पैतरेबाजी कर रहे हैं..घृणित जोड़तोड़, द्वेष और जातिवाद की संकीर्ण राजनीति में माहिर समाजवादी पार्टी मीडिया के सहारे यह प्रचारित करना चाहती है कि BSP के कुछ विधायक टूट कर सपा में जा रहे हैं, ये घोर छलावा है..

-----

मायावती की BSP में 19 विधायक थे…मायावती ने 9 को पहले ही निकला दिया था..2 को पंचायत चुनाव में निकाल दिया..1 विधानसभा सीट उपचुनाव में हार गई थीं..अब 19 में से केवल 7 विधायक ही मायावती के पास बचे हैं बाकी सबको मायावती ने निकाल दिया है..दोस्तों एक बात बिल्कुल साफ है कि समाजवादी पार्टी ने बसपा के कार्यकर्ताओं को नेताओं को धीरे धीरे अपने खेमे में मिला लिया है..समाजवादी पार्टी बसपा से आए और आने वाले नेताओं को टिकट देगी या नहीं देगी..वो समय बताएगा लेकिन मायावती के लिए राजनीति में ये समय बिल्कुल ठीक नहीं चल रहा है..

-----

एक नजर डालिए मायावती के एक के बाद एक किए गए 5 ट्विटर

1. घृणित जोड़तोड़, द्वेष व जातिवाद आदि की संकीर्ण राजनीति में माहिर समाजवादी पार्टी द्वारा मीडिया के सहारे यह प्रचारित करना कि बीएसपी के कुछ विधायक टूट कर सपा में जा रहे हैं घोर छलावा। 1/5

2. जबकि उन्हें काफी पहले ही सपा व एक उद्योगपति से मिलीभगत के कारण राज्यसभा के चुनाव में एक दलित के बेटे को हराने के आराप में बीएसपी से निलम्बित किया जा चुका है। 2/5

3. सपा अगर इन निलम्बित विधायकों के प्रति थोड़ी भी ईमानदार होती तो अब तक इन्हें अधर में नहीं रखती। क्योंकि इनको यह मालूम है कि बीएसपी के यदि इन विधायकों को लिया तो सपा में बगावत व फूट पड़ेगी, जो बीएसपी में आने को आतुर बैठे हैं।

4. जगजाहिर तौर पर सपा का चाल, चरित्र व चेहरा हमेशा ही दलित-विरोधी रहा है, जिसमें थोड़ा भी सुधार के लिए वह कतई तैयार नहीं। इसी कारण सपा सरकार में बीएसपी सरकार के जनहित के कामों को बन्द किया व खासकर भदोई को नया संत रविदास नगर जिला बनाने को भी बदल डाला, जो अति-निन्दनीय।

5.वैसे बीएसपी के निलम्बित विधायकों से मिलने आदि का मीडिया में प्रचारित करने के लिए कल किया गया सपा का यह नया नाटक यूपी में पंचायत चुनाव के बाद अध्यक्ष व ब्लाक प्रमुख के चुनाव के लिए की गई पैंतरेबाजी ज्यादा लगती है।यूपी में बीएसपी जन आकांक्षाओं की पार्टी बनकर उभरी है जो जारी रहेगा

-----

2 thoughts on “मायावती ने अखिलेश को दी धमकी..बताया जातिवादी..विधायक कांड से गुस्से में माया..

  • June 17, 2021 at 8:27 pm
    Permalink

    Good job didi jee

    Reply
  • June 18, 2021 at 8:25 am
    Permalink

    madam ek 69000 main khaali 7k bachi seato ki Khabar Chalayain kyu ki 3rd list gov jaari nahi kar rahi hai

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *