इंडोनेशिया का प्लेन समुद्र में हुआ क्रैश, भारतीय पायलट समेत 188 यात्री लापता

इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता से पंगकल पिनांग के लिए जा रही लॉयन एयर फ्लाइट JT-610 टेक ऑफ करने के 13 मिनट बाद क्रैश हो गई है. इस विमान में तीन बच्चे सहित 188 लोग सवार थे. दुर्घटना की जगह तक पहुंचे खोजी एवं बचाव के लोगों ने विमान का मलबा भी बरामद किया है. जिसकी कुछ तस्वीरें ट्विटर पर डालीं गईं हैं, जिनमें बुरी तरह टूट चुका एक स्मार्टफोन, किताबें, बैग, विमान के कुछ हिस्से दिख रहे हैं.

lion air flight from jakarta to pangkal pinang goes Crashed
कुछ मलबा बरामद

नहीं पता है कि कोई जीवित बचा है

सभी यात्रियों के मारे जाने की अाशंका है. इंडोनेशिया के अधिकारियों ने घटना स्थल पर राहत और बचाव के लिए ऑपरेशन शुरू कर दिया है. आपदा एजेंसी प्रमुख मोहम्मद सयोगी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, हमें अभी तक नहीं पता है कि कोई जीवित बचा है. विमान के आपातकालीन ट्रांसमीटर से कोई परेशानी का संकेत नहीं आया था. हम उम्मीद करते हैं, प्रार्थना करते हैं लेकिन पुष्टि नहीं कर सकते. कहा जा रहा है कि पश्चिम जावा के पास समुद्र में ये विमान गिरा. ये जगह 30-35 मीटर (98-115 फुट) गहरी है. बोइंग 737-800 विमान सुबह 6 बजकर 20 मिनट पांगकल पिनांग के लिए जकार्ता से रवाना हुआ था.

lion air flight from jakarta to pangkal pinang goes Crashed
दिल्ली के भव्य सुनेजा उड़ा रहे थे फ्लाइट

दिल्ली के भव्य सुनेजा उड़ा रहे थे फ्लाइट

अधिकारियों ने कहा की हम पहले से ही घटना स्थल पर हैं, हमारा हेलिकॉप्टर पानी के इर्द गिर्द सहायता करने के लिए घूम रहा है. हम मलबे को खोजने की कोशिश कर रहे हैं. जानकारी से पता चला है की क्रैश हुए इंडोनेशिया के लॉयन एयर बोइंग 737 विमान को दिल्ली के मयूर विहार के 31 वर्षीय कैप्टन भव्य सुनेजा उड़ा रहे थे. उन्होंने 7 साल पहले साल 2011 में लॉयन एयर को जॉइन किया था.

-----
lion air flight from jakarta to pangkal pinang goes Crashed
पश्चिम जावा के पास समुद्र में ये विमान गिरा

2013 में ‘लायन एयर’ का एक बड़ा हादसा

इससे पहले साल 2013 में भी ‘लायन एयर’ का एक बड़ा हादसा होते होते बच चुका है. जिसमें ‘लायन एयर’ का एक बोइंग 737-800 विमान बाली में उतरते वक्त रनवे से फिसलकर समुद्र में चला गया था. हालांकि, उस समय राहत और बचाव दल तुरंत मौजूद था जिससे विमान में सवार 108 लोगों में से किसी को कोई नुकसान नहीं हुआ था.

-----