13 दिन बाद जुड़वा बच्चों के शव बरामद, इधर ‘UP और MP’ सरकार ने दिया शर्मनाक बयान-

उत्तर प्रदेश से एक सनसनी ख़ेज़ वारदात सामने आ रही है. जिसको सुन किसी को भी यकीन नहीं हो रहा है. 12 फरवरी को मध्य प्रदेश के सतना से चित्रकूट के व्यवसायी के दो जुड़वा बच्चों का अपहरण हुआ था. जिनके आज शव बरामद हुए हैं. जिससे पूरे प्रदेश में हड़कंप मच गया है.

kidnapping of twin brothers in chitrakoot school bus bodies found in a river
kidnapping of twin brothers in chitrakoot school bus bodies found in a river

चित्रकूट की सीमा से सटे मध्य प्रदेश के सतना में सद्गुरु सेवा संघ ट्रस्ट के सद्गुरु पब्लिक स्कूल से 12 फरवरी को आयुर्वेदिक तेल कारोबारी ब्रजेश रावत के दोनों बच्चों शिवांग और देवांग का कट्टे को नोक पर दिन दहाड़े अपहरण हुआ था. और आज ठीक 12 दिन बाद दोनों बच्चों के शव बांदा की यमुना नदी से बरामद किए गए हैं. हत्या करने के बाद अपराधियों ने शव को अवगासी घाट पर फेंक दिए थे. शव के बारे में लोगों को जैसे ही जानकारी मिली सभी वहां पहुँच गए. और दोनों बच्चों के शवों को देखकर पूरे क्षेत्र में तनाव का माहौल बन गया है.

गुस्साए लोगों ने जगह-जगह तोड़फोड़ कर दी जिससे पुलिस को भी माहौल शांत कराने के लिए लाठी चार्ज करना पड़ा. यहां तक की आक्रोशित लोगों पर काबू पाने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले तक छोड़ने पड़े. कानून-व्यवस्था को बनाए रखने के लिए पूरे इलाक़े में भारी पुलिस बल मौके पर तैनात कर दी गई है. बांदा जिले में दोनों बच्चों के शव का पोस्टमार्टम किया जा रहा है. इसके बाद ही कुछ पता चल पायेगा की बच्चों की दर्दनाक मौत कैसे हुई है.

जिले में जगह-जगह पुतले फूंके जा रहे हैं. पुलिस ने माइक से लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है. ख़बर आ रही है कि इस घटना का मास्टरमाइंड ट्रस्ट के पुरोहित का बेटा पदम कांत शुक्ला है. पुलिस ने पदम कांत शुक्ला व उनके दो साथियों को गिरफ्तार कर लिया है.

अपहृत बच्चों को ढूंढने में एमपी यूपी की 26 पुलिस टीम के साथ ही साथ एसटीएफ फेल रही. शवों की हालत देखकर साफ पता लगता है की हत्या तीन से चार दिन पहले हुई है. अपहरणकर्ता इतने क्रूर थे कि दोनों मासूम बच्चों के शवों को जंजीर से बांध कर फेंका गया. एसपी चित्रकूट मनोज कुमार झा ने कहा कि सुबह शव मिले हैं. अपहरणकर्ता हत्यारे भी गिरफ्तार हो चुके हैं. पुलिस की टीमों ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया है. इनमें तीन छात्र भी हैं.

इस बड़ी घटना को लेकर यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने भी सरकार को निशाने पर लिया है. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा है कि, आज बाँदा में दो मज़लूम बच्चों की लाशें मिलीं. उनकी जानें गयीं और एक परिवार का भविष्य उजड़ गया. सरकारों की ज़िम्मेदारी है कि हर नागरिक को सुरक्षित रखे और दुःख है कि हाल यह है कि माँ बाप बच्चों को स्कूल भेजने से भी डरेंगे ! देश की क़ानून व्यवस्था अब इससे ज़्यादा क्या बिगड़ेगी?

मध्य प्रदेश सरकार पर जब बात आई को वहां के सीएम कमलनाथ ने अपना पल्ला झड़ते हुए साफ़ कह दिया की सरकार इसमें कुछ नहीं कर सकती ये पुलिस का मामला है पुलिस ही देखे. मध्य प्रदेश में भी लोग सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर आये हैं. जगह जगह पुतले फूंके जा रहे हैं. वहीं सूत्रों के पता चल रहा है की सीएम कमलनाथ ने पुलिस से कह दिया है की अपनी बंदूकें भर कर रखें, जो भी पत्थर मारे उसको गोली मार दो. कमलनाथ ने ये भी कहा है की यूपी के बदमाशों ने ही मर्डर किया है. वहां अपराधी सक्रीय हैं.

इधर बीजेपी के मंत्री ब्रजेश पाठक ने इस मामले में एक टीवी चैनल पर मध्य प्रदेश को कहा है की अगर मर्डर यूपी में हुआ है तो उनकी पुलिस को किसने रोका है वे यहाँ आएं और आरोपियों को पकड़ें और जाँच करें.