जाली टोपी और लुंगी वाले गुंडे..कट्टरता की क्लास में मौर्या जी (Keshav Prasad Maurya) का न्यू एडमिशन : संपादकीय व्यंग्य

PRAGYA KA PANNA
PRAGYA KA PANNA

नेतागिरी और गिरगिट में बहुत अंतर नहीं होता है..दोनों फटाक से रंग बदलने में माहिर होते हैं..दोनों में सबसे कॉमन चीज ये होती है कि दोनों जब खतरे में होते हैं तभी रंग बदलते हैं..दोनों के रंग बदलने का मक्सद खुद को बचाना होता है..गिरगिट दुश्मन के हमले से खुद को बचाता है..और नेता वोट के हमले से विपक्ष के हमले से हार से रंग बदलकर खुद को बचाता है…यूपी में अब बीजेपी खतरे में है..बीजेपी से ज्यादा बीजेपी के भीतर केशव प्रसाद खतरे में हैं..इसलिए पेश है यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या (Keshav Prasad Maurya) की सभी खतरों से उबारने वाली जालीदार पेशकश..

इस चुनाव में बीजेपी के पास कोई मुद्दा नहीं हैं…5 साल की सरकार मे ऐसा कुछ किया नहीं है जिसके दम पर लोगों के बीच वोट मांगने जा सके..इसलिए मुस्लिम सबसे ज्यादा सॉफ्ट टारगेट हैं..बीजेपी अपने उसी पुराने थके हुए घटिया फार्मूले को फिर से लागू कर रही है..मेरे देश के मेरे हिदू भाई और मुस्लिम भाई इस बात को बखूबी जानते हैं..जो केशव मौर्या (Keshav Prasad Maurya) जालीदार टोपी की नवीनतम खोज लेकर आए हैं..ये यूपी के डिप्टी सीएम भी हैं..PWD मंत्री भी हैं..ये सरकार में सड़कों के गड्ढे भरने के लिए आए थे..लेकिन यही एक काम छोड़कर इन्होंने बाकी सारे काम किए..

खुद को डिप्टी सीएम (Keshav Prasad Maurya) के तौर पर स्थापित करने की कोई बहुत कोशिश की लेकिन किसी ने इनको डिप्टी सीएम माना ही नहीं..वैसे तो पूरा यूपी ही गड्ढे में है..लेकिन सड़कें उस गड्ढे के भीतर भी गड्ढे में हैं..सड़कों का छोड़ दीजिए इनसे ना हो पाएगा…इनसे केवल इतना पूछ लीजिए आपकी पुरानी कॉन्सीट्वेंसी में कितने बच्चों को स्कॉलरशिप मिली है..आपने कितने बच्चों को विदेश में पढ़ने की स्कॉलरशिप दिलवाई…या फिर पूछ लीजिए कि कोरोना में कितने परिवारों तक मदद पहुंचाई..तो ये आपका मुंह ताकने लग जाएंगे..

यूपी के डीप्टी सीएम (Keshav Prasad Maurya) होते हुए भी ये जाली वाली टोपी पर अटके हुए हैं..ये मानकर चल रहे हैं कि ये केवल एक धर्म के लोगों को के डिप्टी सीएम हैं..वर्ना टोपी लुंगी वालों लिए ऐसा बयान नहीं देते..और मेरे साउथ इंडिया के बहनों अगर आप भी देख रहे हैं तो आप भी सुनिए क्योंकि लूंगी भारत में केवल मुसलमान ही नहीं पहनते..

इतनी बात कर ली है तो ये भी जान लीजिए कि केशव प्रसाद मौर्या (Keshav Prasad Maurya) लुंगी तक क्यों उतर आए हैं..तो जवाब है कोई टोपी लुंगी और मुसलमानों को ऐसे ही नहीं गरियाता साहब..कुछ तो मजबूरियां होती हैं..तो दोस्तों जिस बीजेपी में ये डिप्टी सीएम हैं..5 साल तक किसी ने पूछा नहीं किसी ने माना नहीं..किसी ने जाना नहीं..मौर्या साहब अब अपने बॉस योगी आदित्यनाथ के आगे फायर ब्रांड बनने की कोशिश कर रहे हैं..कट्टर हिंदू बनने की कोशिश कर रहे हैं..क्योंकि इनको समझ में आ गया है कि योगी के बराबर के कट्टर नहीं बने तो 2022 में फिर से बर्फ में लगा दिए जाएंगे..इसलिए जालीदार टाोपी..मुथुरा काशी करके..कट्टर बनना सीख रहे हैं..कट्टरता की पाठशाला में मौर्या साहब न्यू एडमिशन हैं..

बीजेपी में कट्टर होने की पहली शर्त है कि मुस्लिमों को टारगेट पर लो…जितने लोग बीजेपी में कट्टर हुए हैं सबका रास्ता एक ही गली से गुजरता है..चाहे मोदी हों..चाहे योगी हों..चाहे आडवाणी हों…तो मौर्या जी (Keshav Prasad Maurya) कट्टर क्लास के नए नए स्टूडेंड हैं..अभी थोड़ा झिझक रहे हैं..जब कट्टरता की थोड़ी बहुत एबी सीडी सीख जाएंगे तब सीधे टारगेट करेंगे..और अपने सबसे बड़े कॉम्पटीटर योगी आदित्यनाथ को कट्टरता के मामले में पीछे करते हुए..आरएसएस की फाइनल मेरिड में अव्वल आएंगे..और जब कट्टरता में अव्वल आ जाएंगे तो यूपी में सीएम पद के दावेदार बन जाएंगे..पिछेली बार कुछ अंक से रह गए थे..तो इस बार मेहनत करनी जरूरी है..

अब ये सड़क देख लीजिए..सड़क फड़क बनवाने की जिम्मेदीरी कट्टरता की क्लास में न्यू एडमिशन ले चुके डिप्टी सीएम की है..इन्की ही विधायक सड़क बनने के बाद सड़क देखने गईं..और सड़क के उद्घाटन के लिए नारियल फोडा तो नारियल नहीं फूटा सड़क टूट गई..सड़क में गड्ढा हो गया..ये गड्ढा भरने की जिम्मेदारी भी केशव के कंधों पर आ गई है..कट्टरता की नई क्लासेज और चुनाव के इस बिजी शेड्यूल में इतने डामर का इंतजाम इस गड्ढे को पाटने के लिए कैसे पर पाएंगे..भले सड़क सिंचाई विभाग ने बनवाई है लेकिन यूपी की सीएम होने के नाते जिम्मेदारी केशव (Keshav Prasad Maurya) की बनती है..बिजनौर की विधायक की बात सुनिए..

दोस्तों यूपी में काम पूछता कौन है…जब सब कुछ हिंदू मुसलमान से ही तय होना है..तो केशव प्रसाद मौर्या (Keshav Prasad Maurya) जी जिस पार्टी में आप हैं वहां मुख्यमंत्री बनने के लिए आप बिल्कुल सही ट्रैक पर हैं..कट्टरता की नई क्लास में आप मन लगाकर पढ़ेंगे तो मुख्यमंत्री को क्या..प्रधानमंत्री भी बन सकते हैं..शर्त एक ही है कि मन लगाकर पढ़िए..लक्ष्य पर ध्यान रखिए..कामयाबी आपके कदम चूमेगी..प्रज्ञा की तरफ से आपको अग्रिम शुभकामनाएं..योगी अयोध्या का मुद्दा उठाते हैं..

आप काशी को मजबूती से पकड़े रहिए..एक सलाह है मंदिर यहीं बनाएंग..टाइप के दो चार नारे अयोध्या आदोलन से चुरा लीजिए आगे बहुत काम आएंगे..मेरे इस वीडियो को स्पेशल गेस्ट लेक्चर मानकर चलिए भविष्य में बहुत काम आएगा..चलते हैं राम राम दुआ सलाम जय हिंद..केशव जी (Keshav Prasad Maurya) अगर आपने भी मुझे अभी तक ट्विटर पर फॉलो नहीं किया है तो कर लीजिए @PRAGALIVE नाम से खोजिए और जुड़ जाईए..

Disclamer- उपर्योक्त लेख लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार द्वारा लिखा गया है. लेख में सुचनाओं के साथ उनके निजी विचारों का भी मिश्रण है. सूचना वरिष्ठ पत्रकार के द्वारा लिखी गई है. जिसको ज्यों का त्यों प्रस्तुत किया गया है. लेक में विचार और विचारधारा लेखक की अपनी है. लेख का मक्सद किसी व्यक्ति धर्म जाति संप्रदाय या दल को ठेस पहुंचाने का नहीं है. लेख में प्रस्तुत राय और नजरिया लेखक का अपना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *