छोटे से चुनाव में शर्मनाक काम, BJP हिंदुस्तान में हुई बदनाम : संपादकीय व्यंग्य

JILA PANCHAYAT CHUNAV MAMTA KISHOR BAGPAT : इससे अच्छा लोकतंत्र तो उन देशों में हैं..जहां तानाशाही घोषित है..हमारे हिंदुस्तान में तानाशाही घोषित नहीं है..लेकिन है..अगर नहीं होती तो..आज मुझे आपको ये सच्ची और शर्म से भरी खबर नहीं बतानी पड़ती..आज की तारीख में कोई पूछे कि अंधेर नगरी किसे कहते हैं..तो आप पूरे कॉन्फीडेंस और गर्व से उत्तर प्रदेश का नाम ले सकते हैं..ना नियम ना कानून..ना संविधान ना लोकतंत्र..यहां है सिर्फ और सिर्फ अंधेर तंत्र…बागपत में RLD से जिला पंचायत अध्यक्ष की एक प्रत्याशी हैं ममता किशोर जो अपना नामांकन करने के बाद राजस्थान चली गईं..उसके बाद पर्चा वापसी के दिन बागपत में उनका पर्चा वापस हो गया..अधिकारियों ने बताया कि ममता चुनाव नहीं लड़ेंगी उन्होंनें अपना पर्चा वापस ले लिया है..जबकि ममता राजस्थान से चिल्ला रही है..कि ओ बाबू..वो यूपी वाले अफसर बाबू…हम ममता किशोर हैं..मैं बागपत से 400 किमी दूर राजस्थान में हूं..जब हम यूपी में हैं ही नहीं तो पर्चा कैसे वापस ले सकते हैं..ये जो खेल खेल रहे हो बंद कर दो तुरंत..नहीं तो आत्मदाह कर लेंगे..

Pragya Ka Panna Editorial
Pragya Ka Panna Editorial

मैं कहती हूं आत्मदाह करने की जरूत नहीं है..यूपी योगी सरकार के ऐसा लग रहा है जैसे सरकारी अफसरों को तन्ख्वाह सरकार से नहीं बीजेपी पार्टी से मिल रही है..बीजेपी को चुनाव जिताने के लिए कार्यकर्ता बनकर घूम रहे हैं..बस गले में भगवा गमछा डालकर नहीं घूम रहे हैं…एक ऐसी महिला प्रत्याशी का पर्चा बिना उसकी मर्जी के वापस किया है तो इस शडयंत्र में जितने लोग शामिल हैं सबके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए..झूठ फरेब की कोई सीमा होती है या नहीं..सियासत में दांव पेंच हमने सुना था लेकिन अंधेरगर्दी पहली बार देख रहे हैं..

बीजेपी ने पहले तो ममता कौशल को डरा धमकाकर बीजेपी ज्वाइन कराई..कहा अगर बीजेपी ज्वाइन नहीं करोगे तो मुकदमें लगवा देंगे..मारे डर के RLD प्रत्याशी ने अपने पति के साथ बीजेपी ज्वाइन कर ली..बाद में पूरी कहानी अगर अपने मुंह से सुनाई कि बागपत के बीजेपी सांसद ने कैसे डराया धमकाया..नहीं आपको झूठ लह रहा है तो सुनते चलिए..क्योंकि सांच को आंच नहीं..

आप भी बीजेपी की कथनी और करनाी देख लीजिए..बीजेपी के सांसद..पंचायत चुनाव के प्रत्याशियों को पुलिस से पकड़वाने की धमकी देकर बीजेपी ज्वाइन करा रहे हैं..क्या ये यूपी का लोकतंत्र है..क्या पुलिस नेताओं के कहने पर मुकदमे लिखती है..घर गिराती है..छापे मारती है…ये सीरिया..लेबनान..अफगानिस्तान..बगदाद है क्या..हम तो बड़ी बड़ी लोकतंत्र की बातें करते हैं..शर्म नहीं आती..जो कैंडिडेट यूपी में है ही नहीं उसके नाम से कोई और औरत पर्चा वापस करके चली जाती है..यूपी के बेशर्म अधिकारियों को कुछ मालूम नहीं पड़ता..

पूरा देश देख रहा है..बागपत की एक महिला प्रत्याशी को रास्ते से हटाने के लिए और बीजेपी को जिताने के लिए..यूपी के पढ़े लिखे चापलूस किस्म के अधिकारियों ने किस तरह की नीच और नाकाबिलेबर्दाश्त हरकत की है..जो औरत यूपी में है ही नहीं उसको ये बता दिया कि उसने अपना पर्चा वापस ले लिया..ममता किशोर के पति राजस्थान से वीडियो जारी करके कह रहे हैं कि वो किसी सूर्या विलास होटल भरतपुर में ठहरे हुए हैं..ऐसे अफसरों को तो कोर्ट में घसीटना चाहिए..कुछ लोगों ने नकली ममता किशोर के फोटो भी जारी किये हैं..कैसे एक नकली औरत नाम वापस लेकर चली गई..सिर्फ अंबेडकर की मूर्तियां लगाने से नहीं होगा..संविधान मानना भी पड़ेगा..चलते हैं राम राम दुआ सलाम जय हिंद..

डिस्क्लेमर- लेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. भाषा में व्यंग्य है. लेखक का मक्सद किसी पार्टी किसी व्यक्ति किसी सरकार किसी धर्म जाति किसी मानव किसी जीव या फिर किसी संवैधानिक पद का अपमान करना या उनके सम्मान को छति पहुंचाने का नहीं है.. इसलिए व्य्ग्य को व्यंग्य की तरह लें..लेख में सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. भाषा में स्थानीय या यूपी की रीजनल भाषा को सरल करके प्रस्तुत किया गया है. समझाने के लिए बात घुमाकर कही गई है.

6 thoughts on “छोटे से चुनाव में शर्मनाक काम, BJP हिंदुस्तान में हुई बदनाम : संपादकीय व्यंग्य

  • June 29, 2021 at 8:47 pm
    Permalink

    PRAGHYA MISHRA CONGRESS KEE SURVENT HAI KYA ,
    POWER HAI NH PRAGHYA MISHRA KEE PASS TOA PUNJAB CONGREES JO FIGHT HO RHA HAI JARAA US
    PAR VIDEO BANAO JEE.
    PUNJAB CONGREE KA JO JHAGRA CHAL RHA HAI SIDHU VS CAPITAN.
    US PAR VIDEO BANAYE PRGHYA JEE.

    Reply
  • June 29, 2021 at 8:48 pm
    Permalink

    PRAGHYA MISHRA CONGRESS KEE SURVENT HAI KYA ,
    POWER HAI NH PRAGHYA MISHRA KEE PASS TOA PUNJAB CONGREES JO FIGHT HO RHA HAI JARAA US
    PAR VIDEO BANAO JEE.
    PUNJAB CONGREE KA JO JHAGRA CHAL RHA HAI SIDHU VS CAPITAN.
    US PAR VIDEO BANAYE PRGHYA JEE.

    Reply
  • June 29, 2021 at 9:44 pm
    Permalink

    फासीवादी ताकतों की यह पहचान है कि काल के जिस दौर में भी इनका उदय हुआ है, ना सिर्फ़, पारदर्शिता, विकेंद्रीकरण इत्यादि जैसी जनकल्याण की लोकनीतियों ने बल्कि स्वयं स्वतन्त्रता ने स्वतः ही तंत्र के आगे घुटने टेक दिये हैं, और इसकी झलक मुसोलिनी के इटली, हिटलर के जर्मनी, इंदिरा के भारत के साथ ही मोदी के “अखंड” भारत के सपनों में भी प्रत्यक्ष है… मुख्यमंत्री अजय बिष्ट जी खुद को योगी कहलवाना पसंद करते हैं और योग चिन्ह की आड़ में बातें सब भाग-घटाने की, वाह जी वाह!!!

    Reply
  • Pingback: Blog :सबसे बड़े लोकतंत्र में आज भी लड़ाई और जोर ज़बरदस्ती से लड़े जा रहे चुनाव – Prime Media Hindustan

    • July 3, 2021 at 11:18 am
      Permalink

      आपने अपने महत्वपूर्ण समय में से टाइम निकालकर अपने विचार रखे इसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद..बेबसाइट के नोटिफिकेशन को जरूर अलाव कीजिए..जिससे नए आर्टिकल का संदेश आपको तुरंत मिल जाए..और जब आपको समय मिले तब पढ़ पाएं अपनी राय रख पाएं..

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *