इसरो ने आसमान से कुंभ को देखा, ऐसा दिखा संगम..

क्या अपने ये सोचा है की कुंभ मेला अंतरिक्ष से देखने में कैसा लगता होगा. कुंभ में देश से ही नहीं बल्कि विदेशों से भी भारी संख्या में लोग यहां गंगा स्नान करने आ रहे हैं. ऐसे में भीड़ के कारण कुम्भ का पूरा नज़ारा देखना संभव नहीं है. लेकिन इसरो (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान) ने कुंभ का नज़ारा देखना और भी आसान कर दिया है.

isro cartosat2 showing images captured kumbh 2019
फोटो सौ: isro-  isro images captured kumbh 2019

इसरो ने रिमोट सेंसिंग सेटेलाइट कार्टोसैट-2 से ली गई 2 तस्वीरों को अपने ट्विटर अकाउंट से अपलोड किया है. किसी ने ये नहीं सोचा होगा की अंतरिक्ष से भी इतना भव्य नज़ारा देखने को मिल सकता है. तस्वीरों में आप तीनों नदियों का संगम देख सकते हैं. और आस पास के मेले के नज़ारे को भी देख सकते है.

कार्टोसैट-2 को पीएसएलवी के जरिए 12 जनवरी 2018 के लॉन्च किया गया था. सैटेलाइट में पैन क्रोमैटिक कैमरा लगा हुआ है जो कि धरती के ब्लैट एंड व्हाइट तस्वीरें लेने में सक्षम है. इस सैटेलाइट के जरिए रोड नेटवर्ट, आबादी का क्षेत्रफल, तटीय इलाके, जल क्षेत्र की जानकारी हासिल की जा सकती है.

आज महाकुंभ में होने वाले विशेष आयोजन:-

  • 4 बजे से सेक्टर-13 स्थित निंबार्कनगर पंडाल में संत मोरारी बापू की कथा का शुभारंभ.
  • 12 बजे सेक्टर-12 स्थित शिविर में प्रेम मई साईं मां का विदेशी भक्तों के साथ सत्संग.
  • 2 बजे से सेक्टर-12 जीयर स्वामी के शिविर में तुलसी पीठाधीश्वर स्वामी रामभद्राचार्य की राम कथा.
  • 10 बजे से सेक्टर-एक में डिजिटल प्रदर्शनी.
  • सेक्टर दो में 10 बजे से हस्त शिल्प प्रदर्शनी.
  • 7 बजे शाम परेड ग्राउंड सेक्टर-गंगा पंडाल में उप शास्त्रीय गायिका कुमुद दीवान का गायन.
  • श्रीराम भारती कला केंद्र नई दिल्ली के कलाकारों की ओर से रामलीला का मंचन.
  • 7 बजे से अक्षयवट के पंडाल में पार्थो बोस कोलकाता का सितार वादन.
  • मनोज जाले का हरियाणवी लोक नृत्य, अभय सिन्हाके बिहारीलोक नृत्य की प्रस्तुतियां होंगी.
  • बाल रामलीला ग्रुप त्रिनिदाद के कलाकारों की ओर से रामलीला का मंचन.
  • 7 बजे से यमुना मंच पर अग्निहोत्री बंधुओं का भजन.
  • दिल्ली के अजय प्रसन्ना का बांसुरी वादन.
  • पद्मश्री अनवर खां का गायन और सुधीर नारायण की गजल प्रस्तुति.

इस बार का कुंभ वाक़ई ख़ास है. अगर आपका भी मन है तो जरूर जाएँ और अपनी ट्रिप को यादगार बनायें. हर तरफ मानवता, सेवा और संस्कार की सीख लेने के लिए भीड़ उमड़ रही है. कहीं रामकथा तो कहीं लीलाओं का मंचन श्रद्धालुओं को भाव-विभाेर कर रहा है.