आतंकी यूसुफ ने कहा- शहादत मिले या हिजरत अपने मंसूबे पर अमल करना है

दिल्ली में पकड़ा गया आईएस का संदिग्ध आतंकी मुस्तकीम खान उर्फ अबू यूसुफ को लेकर एक और बड़ा खुलासा हुआ है. पूछताछ में पता चला है कि वो पिछले दो साल से घर पर विस्फोटक इकट्ठा कर रहा था.

isis terrorist abu yusuf big revealing
isis terrorist abu yusuf big revealing

यूसुफ पूरी तरह से आतंकियों से प्रेरित था. इंटरनेट सर्फिंग के दौरान उसे अफगानिस्तान और कश्मीर के कुछ साथी मिले. यू-ट्यूब के जरिये उसने न सिर्फ आईईडी बम बनाना सीखा बल्कि घटना को अंजाम देने के इरादे से दिल्ली पहुंच भी आ गया था. उनकी पत्नी आयशा ने बड़ा खुलासा करते हुए बताया कि उसने कई बार पति के खतरनाक मंसूबों का विरोध किया, लेकिन उसने अल्लाह का वास्ता देकर उसे चुप करा दिया. इतना ही नहीं, ज्यादा विरोध करने पर वो अभद्रता करता था. इसलिए डर के कारण उसने चुप्पी साध ली.

यूसुफ ने दिल्ली पुलिस को बताया है कि वो इरादा करके घर से निकला था कि अब उसे वापस नहीं आना है. वो फैसला कर चुका था कि उसे शहादत मिले या हिजरत अपने मंसूबे पर अमल करना है. यूसुफ ने कहा कि वो शहादत के रास्ते पर निकला है. बतादें कि अभी यूपी एटीएस को यूसुफ से पूछताछ करने का मौका नहीं मिला है.

दिल्ली के धौलाकुआं से करोलबाग के बीच रास्ते में रिज रोड पर दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल और आतंकी यूसुफ के बीच मुठभेड़ हुई. जिसके बाद आतंकी को गिरफ्तार किया गया था. आतंकी के पास से दो प्रेशर कूकर आईईडी, हथियार और साथ ही कुछ अहम दस्तावेज बरामद हुए थे. दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तारी के तुरंत बाद ही यूसुफ को न्यायालय में पेश कर दिया था और फिर दिल्ली पुलिस उसे लेकर बलरामपुर के लिए निकल गई.

आतंकी अब्दुल युसुफ कश्मीर का रहने वाला बताया जा रहा है. इसके पास के एक बाइक भी मिली है जो गाजियाबाद नंबर की है. उसी से आतंकी कही जा रहा था. यूसुफ कई इलाकों में रेकी कर चुका था. रिपोर्ट्स के मुताबिक एनकाउंटर के दौरान दूसरा आतंकी फरार हो गया, उसकी तलाश में पुलिस कई इलाकों में छापेमारी कर रही है. आतंकियों की मदद करने वालों का भी पता लगाया जा रहा है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *