गणतंत्र दिवस पर दिल्ली के साथ-साथ कुंभ में भी गूंजे देशभक्ति के तराने

भारत देश आज अपना 70वां गणतंत्र दिवस मना रहा है. इस खास मौके पर राजधानी दिल्ली में विशेष समारोह आयोजित किया जा रहा है. सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी. इसके बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राजपथ पर ध्वजारोहण किया. फिर राजपथ पर भारतीय जवानों ने रैलियां शुरू की.

indian army and indian republic day kumbh mela major events 26 january in dehli and prayagraj
indian army and indian republic day kumbh mela major events

इस बार गणतंत्र दिवस परेड में मुख्‍य अतिथि दक्षिण अफ्रीका के राष्‍ट्रपति सिरिल रामाफोसा हैं. इस बार गणतंत्र दिवस परेड में 16 राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों तथा छह केंद्रीय मंत्रालयों की झांकियां पेश की गईं. इन मंत्रालयों की झांकियों में स्‍वच्‍छ भारत अभियान, सौभाग्‍य योजना और किसान गांधी झांकियां शामिल रहीं.

-----

इस बार 146 महिला जवानों की पूरी टुकड़ी और आजाद हिंद फौज के 4 सैनिक पहली बार परेड में शामिल हुए हैं. वायु सेना में 5 जगुआर विमानों ने एयरोहेड फॉर्मेशन बनाई. इसके बाद तीन सुखोई-30 विमानों ने त्रिशूल फॉर्मेशन का प्रदर्शन किया. सुखोई ने 900 किमी/घंटे की रफ्तार से उड़ान भरी. पूरे कार्यक्रम में एमआई-17 हेलिकॉप्टर ने पुष्प वर्षा की. वायुसेना के ध्रुव और रुद्र हेलिकॉप्टर ने फ्लाईपास्ट किया. इन हेलिकॉप्टरों ने आसमान में डायमंड फॉर्मेशन बनाई.

गणतंत्र दिवस के मौके पर दक्षिण कश्मीर में आतंकियों का मुकाबला करते शहीद हुए लांस नायक नजीर अहमद वानी को मरणोपरांत अशोक चक्र से सम्मानित किया गया. वानी की पत्नी ने ये राष्ट्रपति के हाथों ये सम्मान प्राप्त किया.

दिल्ली के साथ साथ प्रयागराज के कुंभ मेले में भी गणतंत्र दिवस पर संतों के शिविरों और सरकारी कार्यालयों में देशभक्ति के तराने गूंजे. 13 अखाड़ों में तिरंगा फहराया गया. जिसमें नागा संन्यासियों ने अस्त्र-शस्त्र का प्रदर्शन भी किया. अखाड़ों और साधु-संतों के शिविरों में सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए.

कुंभ में आज के कार्यक्रम-
  1. डाक विभाग की ओर से महात्मा गांधी पर आधारित फिलेटलिक प्रदर्शनी कुंभपेक्स 2019 का आयोजन किया गया है.
  2. निम्बार्क नगर में कथावाचक संत मोरारी बापू का प्रवचन रोज की तरह जारी रहेगा.
  3. सेक्टर 16 भक्ति वेदांत नगर काशी में कथावाचक राम कमलदास वेदांती की कथा.
  4. अक्षयवट मंच पर ढोलू कुनीथा रवि कर्नाटक भजन- प्रेम प्रकाश दुबे मुंबई नई दिल्ली.