crossorigin="anonymous"> सारे घंटाल मिलकर विश्वगुरू बना ही देंगे : संपादकीय - Ulta Chasma Uc

सारे घंटाल मिलकर विश्वगुरू बना ही देंगे : संपादकीय

अब आओ अब पाकिस्तान से अपने कोरोना की भी बराबरी कर लो..नहीं करोगे..क्यों करनी चाहिए..अब तक तो आप वो डॉक्टर थे जो हर मर्ज का इलाज..पाकिस्तान को बताते थे..बोले देश की इकोनॉमी बहुत खराब कंडीशन में है..वो टीवी से दहाड़ते थे कि पाकिस्तान से तो अच्छी ही है..बोले देश में बेरोजगारी दर बढ़ रही है..वो कहते थे पाकिस्तान से तो अच्छी है..बोले ट्रोलिंग और लिंचिंग बढ़ गई है..उन्होंने कहा तो पाकिस्तान चले जाओ..बरगलाने और बहकाने वाले हद से गुजर गए थे..पाकिस्तान के पीछे छिपकर अपनी नाकामियां छिपाते थे..लेकिन रंगे सियारों की नील कभी ना कभी तो उतरती ही है..और अब उतर गई..

जिन्होंने अपनों को दवाई की कमी से बेड की कमी से खोया है हम सारे देशवासियों की गलती है कि हमने पाकिस्तान से आगे होने की खुशी में अपनी सरकार से कभी अस्पताल नहीं मांगे..मेडिकल सुविधाएं नहीं मांगे..कभी स्कूल नहीं मांगे..मेडिकल स्ट्रक्चर नहीं मांगा..उन्होंने आपको मंदिर मस्जिद में उलझाया आप उलझे रहे..नाकाम सरकारों की कीमत हमेशा जनता को भुगतनी पड़ती है..सरकार का क्या है..आती जाती रहती हैं..आपने हिंदू मुसलमान वाली डिबेटें बहुच चाव से सुनी हैं..इसलिए आपको सुनाई गई हैं..आप बंद करते हिंदू मुसलमान करने वाले चैनल हम मांगते स्वास्थ्य सुविधाओं पर डिबेट लेकिन न हमने ऐसी कभी मांग की ना उन्होंने दी..जब डिमांड ही नहीं थी तो सप्लाई कहां से होती..देश में डिमांड नफरत की थी..उसकी आपूर्ति में पार्टियों की तरफ से कोई कमी रही हो तो बातईये..

क्या ये अब भी शर्म की बात नहीं है कि दिल्ली राज्य को ऑक्सीजन देने की लड़ाई पिछले 15 दिन से कोर्ट में लड़ी जा रही है..हमें शर्म नहीं आनी चाहिए कि अपने ही लोगों को ऑक्सीजन देने के लिए हमारी ही दो सरकारें आपस में लड़ रही हैं..और लोग अस्पतालों में तड़प तड़प कर मर रहे हैं..मोदी सरकार और केजरीवाल सरकार आपस में कोर्ट में लड़ रही हैं..इनको आपकी जान की कितनी फिक्र है..गूगल करके देख लीजिए..जब आपकी दोनों सरकारों को आपकी फिक्र नहीं है तो मैं क्यों बीच में पड़ूं..जब अपना नंबर भी आएगा तो देखा जाएगा..

-----

हां तो मैं कह रही थी कि पाकिस्तान से हर चीज की बराबरी आप करते थे..तो कोरोना के मामले में भी बराबरी करनी चाहिए..इमरान खान फेल है या पास आपको दिखाना चाहिए लेकिन हिदुस्तान की मीडिया ने पाकिस्तान की खबरें दिखाना ही बंद कर दी हैं..जब कोई खबर नहीं दे रहा है तो हमसे ही खबर ले लीजिए..क्योंकि हम वो बातें बताते हैं जो आपको रात 9 बजे नहीं बताया जाता..तो भाईसाहब कोरोना से हाहाकार के मामले में हमारा देश भारत दुनिया में दूसरे नंबर पर है..और मौत के तमाशे में हमसे आगे केवल संयुक्त राज्य अमेरिका है..और पाकिस्तान 29वें नंबर पर है..अंधभक्त खुश हो सकते हैं कि उन्होंने पाकिस्तान को कोरोना के मामले में भी पीछे छोड़ दिया है..first नहीं पाए..तो क्या दूसरा स्थान तो प्राप्त किया है..बस आगे अमेरिका ही बचा है..अब टॉप पर पहुंच जाएंगे..तो वैसे ना सही ऐसे तो विश्वगुरू बन ही जाएंगे..

-----

भारत में अब तक 2 लाख 30 हजार लोग कोरोना से मारे गए हैं..2 करोड़ लोग बीमार हुए..पाकिस्तान देखिए कितना पीछे रह गया..8 लाख 85 हजार बीमार हुए और 18 हजार लोग मारे गए..अब पाकिस्तान को देखकर जीने वाले कहेंगे कि उनकी जनसंख्या देखो..और अपनी देखो..बात आगे बढ़ेगी तो बातें इंफ्रास्ट्रक्चर तक..इकोनॉमी तक..और विश्व गुरू बनने तक चली जाएंगी..56 इंच की छाती के अहंकार तक पहुंच जाएंगी..इसलिए इस बहस का कोई फायदा नहीं है..मेरे ये सब बताने का एक ही मतलब है कि अपने से कमजोर मुल्क का उदाहरण देकर अपनी कमियां मत छिपाईये…अपनी जिम्मेदारियों से मत भागिए..हम भारतवासी आस्थावान हैं अंधभक्त नहीं..अगर हम सफलता को शाबाशी देते हैं तो नाकाम सरकारों को भी सबक सिखाईये..सच्चे नागरिक बनिए..सरकार कोई भी हो..सवाल करिए..शुतुरमुर्ग मत बनिए..यकीन मानिए अगर आपने अस्पताल मांगे होते तो आज हमारी ये हालत नहीं होती..चलते हैं राम राम दुआ सलाम..जय हिंद..सच को सामर्थय दीजिए..ट्विटर पर @pragyalive नाम से मुझे खोजिए और मेरे साथ जुड़िए..संवाद कीजिए..

DISCLAMER- लेख में प्रस्तुत तथ्य/विचार लेखक के अपने हैं. किसी तथ्य के लिए ULTA CHASMA UC उत्तरदायी नहीं है. लेखक एक रिपोर्टर हैं. लेख में अपने समाजिक अनुभव से सीखे गए व्यहवार और लोक भाषा का इस्तेमाल किया है. लेखक का मक्सद किसी व्यक्ति समाज धर्म या सरकार की धवि को धूमिल करना नहीं है. लेख के माध्यम से समाज में सुधार और पारदर्शिता लाना है.

One thought on “सारे घंटाल मिलकर विश्वगुरू बना ही देंगे : संपादकीय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *