4 राज्यों के चमगादड़ों में मिला Bat Coronavirus, वैज्ञानिकों ने किया खुलासा

विश्व भर में फैला कोरोना वायरस आखिर इंसानों तक कैसे पहुंचा ? ये एक हर किसी के मन में बना हुआ है. जिसका जवाब दुनिया भर के वैज्ञानिक ढूंढ रहे हैं. इसमें भारतीय वैज्ञानिकों को बड़ी कामयाबी मिली है.

india icmr study finds presence of bat coronavirus
india icmr study finds presence of bat coronavirus

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) ने पहली बार एक अलग किस्म के कोरोना वायरस की पहचान की है. ये वायरस चमगादड़ में पाया जाने वाला बैट कोरोना वायरस है. देश के 10 में से पांच राज्यों के चमगादड़ों में ये वायरस मिला है. चमगादड़ों की दो प्रजातियों पर अध्ययन के बाद ये बड़ा खुलासा किया गया है. दोनों प्रजाति के 586 चमगादड़ों की जाँच की गई जिसमें से 25 चमगादड़ संक्रमित मिले हैं.

-----

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय और आईसीएमआर ने बुधवार को संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि चमगादड़ से इंसान में इस तरह वायरस आने की घटना बहुत दुर्लभ है. ऐसा 1000 साल में एक बार होता है. इस वायरस को बीटीकोव भी कहते हैं. कोरोना वायरस वाले चमगादड़ की ये दो प्रजातियां देश के चार राज्यों केरल, हिमाचल प्रदेश, पुडुचेरी और तमिलनाडु में पाई गई हैं.

कुछ समय पहले केरल में निपाह वायरस भी चमगादड़ों से आया था. इसीलिए नए संक्रमण का पता लगाने के लिए उन राज्यों में लगातार निगाह रखना जरूरी है, जहां चमगादड़ ज्यादा पाए जाते हैं. चीन में लगभग हर तरह के जंगली जीवों को खाने का प्रचलन है. वहां एक बड़ी आबादी चमगादड़ भी खाती हैं. हालांकि, इस बात के स्पष्ट वैज्ञानिक साक्ष्य नहीं हैं कि ये खतरनाक वायरस, चमगादड़ों के जरिये ही इंसानों तक पहुंचा है.

चमगादड़ों की एक प्रजाति के लिए केरल, चंडीगढ़, कर्नाटक, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, गुजरात, ओडिशा, पुड्डुचेरी, तमिलनाडु और तेलंगाना से 508 नमूने लिए गए थे. दूसरी प्रजाति के 78 चमगादड़ों के नमूने केरल, कर्नाटक, चंडीगढ़, गुजरात, ओडिशा, पंजाब और तेलंगाना से लिए  गए थे. इस दौरान 12 की मौत भी हो गई थी.