जितना विरोध करना है करो, डंके की चोट पर कहता हूँ CAA वापस नहीं होगा: अमित शाह

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह उत्तर प्रदेश के दौरे पर हैं. आज मंगलवार को शाह ने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के समर्थन में राजधानी के बंगला बाजार इलाके के रामकथा पार्क में रैली की. और विपक्ष पर भी हमला बोला.

home minister amit shah visit lucknow caa support rally
home minister amit shah visit lucknow caa support rally

अमित शाह ने भारत माता के जयकारे के साथ अपना संबोधन शुरू किया और सबसे पहले उन्होंने CAA पर हो रहे विरोध को लेकर विपक्षी दलों को घेरा. शाह ने कहा कि मोदी जी CAA लेकर आये और इसके खिलाफ राहुल बाबा एंड कंपनी, ममता, अखिलेश, बहन मायावती ये सारी की सारी ब्रिगेड सीएए के खिलाफ काव-काव-काव करने लगी. इस कानून को लेकर देश को गुमराह किया जा रहा है.सीएए पर विरोधी पार्टियां दुष्प्रचार करके भ्रम फैला रही हैं.

विरोधियों को जवाब देने के लिए भाजपा जन जागरण अभियान चला रही है. ये देश को तोड़ने वालों के खिलाफ जन जागृति का अभियान है. कांग्रेस जब थी, तब तक अयोध्या में श्री राम मंदिर बनने नहीं दिया. मोदी जी को आपने चुना तो तीन महीने में गगनचुम्बी रामलला मंदिर बनने जा रहा है. राजस्थान के पिछले विधानसभा में कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में कहा कि पाकिस्तान से आए हिंदुओं, सिखों को नागरिकता दी जाएगी. अब बताओ आप करो तो सही है और मोदी जी करें, तो विरोध करते हो.

इस बिल को लोकसभा में मैंने पेश किया है. मैं विपक्षियों से कहना चाहता हूं कि आप इस बिल पर सार्वजनिक रूप से चर्चा कर लो. अगर ये कानून किसी भी व्यक्ति की नागरिकता ले सकता है तो उसे साबित करके दिखाओ. देश में CAA के खिलाफ भ्रम फैलाया जा रहा है, दंगे कराए जा रहे हैं. जब देश आजाद हुआ, कांग्रेस के पाप के कारण धर्म के आधार पर भारत मां के दो टुकड़े हो गए. 16 जुलाई 1947 को कांग्रेस पार्टी ने प्रस्ताव पारित कर धर्म के आधार पर विभाजन स्वीकार कर लिया.

मैं आज डंके की चोट पर कहने आया हूं कि जिसको विरोध करना है करे पर CAA वापस नहीं होने वाला है. अफगानिस्तान और पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर जुल्म हो रहा है. ये सिलसिला आजादी के वक्त से चला आ रहा है. और इन आंख के अंधे और कान के बहरे लोगों को वहां अल्पसंख्यकों पर अत्याचार दिखाई नहीं दे रहा है. आफगानिस्तान और पाकिस्तान तो दूर की बात उनको अपने देश कश्मीर में लोगों पर अत्याचार दिखाई नहीं दे रहा है.

3,839 total views, 2 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *