हिस्ट्रीशीटर को पकड़ने गई पुलिस पर गोलियों की बौछार, डीएसपी समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद, CM योगी ने दिया ये आदेश

उत्तरप्रदेश के कानपुर में गुरुवार रात पुलिस के लिए एक काल बन गई. रात एक बजे दबिश देने गई पुलिस टीम पर बदमाशों ने अंधाधुंध गोलियां चला दीं. इस गोलीबारी में सर्कल ऑफिसर (डीएसपी) और 3 सब इंस्पेक्टर समेत 8 पुलिसकर्मियों की मौत हो गई है.

historysheeter fired on police team eight policemen killed in kanpur
historysheeter fired on police team eight policemen killed in kanpur

कई पुलिसकर्मी घायल भी हैं. सूत्रों की मानें तो हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पहले से ही मालूम हो गया था कि रात में उसके घर दबिश पड़ने वाली है. तभी बदमाशों ने घर के सामने जेसीबी खड़ी कर पुलिस का रास्ता रोक दिया था. इसके बाद अचानक छत से फायरिंग शुरू कर दी गई. बदमाश ने पुलिस के कई हथियार भी लूट ले गए. इसी बीच चुपके से विकास दुबे फरार हो गया.

उधर, आईजी मोहित अग्रवाल ने बताया कि घटना के बाद एनकाउंटर में विकास दुबे के 2 साथियों को मार गिराया गया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एसटीएफ की टीम को कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. उन्होंने साफ़ कहा है कि सभी आला अधिकारी जब तक ऑपरेशन विकास दुबे खत्म ना हो जाए तब तक घटनास्थल पर ही कैंप करें. पुलिस ने यूपी के सभी बॉर्डर सील कर दिए हैं.

शहीद पुलिसकर्मी के नाम-
  • बिल्हौर के सीओ देवेंद्र कुमार
  • शिवराजपुर के थाना प्रभारी महेश चंद्र यादव
  • सब इंस्पेक्टर नेबू लाल
  • मंधना के चौकी इंचार्ज अनुप कुमार
  • कॉन्स्टेबल सुल्तान सिंह
  • कॉन्स्टेबल राहुल
  • कॉन्स्टेबल जितेंद्र
  • कॉन्स्टेबल बबलू

इसके अलावा बिठूर थाना प्रभारी कौशलेंद्र प्रताप सिंह समेत 7 पुलिसकर्मियों को गोली लगी है. जिनका इलाज रीजेंसी हॉस्पिटल में चल रहा है. बतादें कि पुलिस टीम पर फायरिंग करने वाले हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर 60 आपराधिक मामले दर्ज हैं. 17 साल पहले उसने 2003 में थाने में घुसकर राज्यमंत्री संतोष शुक्ला की हत्या कर दी थी. इसके बाद उसने राजनीति में एंट्री ली. एसटीएफ ने विकास दुबे को 31 अक्टूबर 2017 को लखनऊ के कृष्णानगर क्षेत्र से विकास को गिरफ्तार किया था. कानपुर पुलिस ने उसके खिलाफ 25 हजार का इनाम घोषित कर रखा था.

एडीजी, लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने कहा कि जो भी लोग इस घृणित कार्य में लिप्त थे, उन पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. उन्हें ढूंढकर कानून के सामने पेश किया जाएगा. हमने इसमें स्पेशलिस्ट टीमों को लगाया है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *