भारत जोड़ने के लिए 3 हजार किमी की यात्रा शंकराचार्य की तरह निकले राहुल गांधी..

PRAGYA KA PANNA
PRAGYA KA PANNA

पूरे भरात में धर्म ध्वजा फहराने के लिए केरल के रहने वाले आदिगुरू शंकराचार्य को कन्याकुमारी से कश्मीर तक की यात्रा करनी पड़ी थी…अब उसी विषाक्त हो चुके भारत में भारत को जोड़ने के लिए राहुल गांधी कन्याकुमार से कश्मीर तक पैदल यात्रा (Rahul Gandhi Bharat Jodo Yatra) कर रहे हैं..लोगों से मिल रहे हैं..हिंदुओं के साथ घूम रहे हैं..मुसलमानों के साथ घूम रहे हैं..सिक्ख इसाई..सबके कंधे पर हाथ रखकर चल रहे हैं..

वो दिखा रहे हैं..वो बता रहे हैं..कि हिंदू मुसलमान में बंट चुका भारत जुड़ सकता है…कन्याकुमार से कश्मीर तक 3 हजार 523 किमी की यात्रा कर रहे हैं..14 दिन हो चुके हैं..285 किलोमीटर से ज्यादा यात्रा (Rahul Gandhi Bharat Jodo Yatra) कर चुके हैं..दिन भर चलते हैं..लोगों को मिलते हैं..रात में गाड़ियों में ही आराम करते हैं..फिर भोर होते ही भारत को जोड़ने के सफर पर चल पड़ते हैं..

भारत देश का मीडिया क्या राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा आपको टीवी पर दिखाता है..क्या आपको बताता है कि एक नेता भारत को एकता के सूत्र में बांधने के लिए पैदल कन्याकुमारी से कश्मीर के लिए निकला है..क्या अपको ये मालूम चलने देता है..कि जिस राहुल गांधी को उसने पप्पू बनाया..जिस राहुल गांधी (Rahul Gandhi Bharat Jodo Yatra) को विदेशी तक कहलवाया..वो राहुल गांधी भारत देश को जोड़ने के लिए 3 हजार से ज्यादा किलोमीटर की यात्रा पर पैदल निकल चुका है..नहीं बताया..14 दिन बाद भी नहीं बताया..क्यों नहीं बताया वो मैं आपको बताती हूं..

आपका गोदी मीडिया चैनल अगर आपको ये बता देगा कि राहुल गांधी कन्याकुमारी से कश्मीर तक भारत को जोड़ने के लिए पैदल यात्रा कर रहे हैं तो आप उस राहुल गांधी को पप्पू कहना बंद कर देंगे..आपको ये लगने लग जाएगा..कि गुरू कहो चाहे जो..बंदा पैदल भारत को जोड़ने की यात्रा पर निकला है..कुछ तो दम है इसके भीतर..आपके घर का गोदी मीडिया राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा फूटे कैमरे से भी नहीं दिखाता है..मालिक के आदेश पर वो चीते दिखाने के लिए जंगल जंगल भागता है..

याद करिए..मोदी जी को हंटर के भेष में फोटो खींचते कैसे दिखा रहा था..कैसे चीतों के पिंजरों पर सेकड़ों कैमरे लगा रहा था..कैसे मोदी जी का चीता प्रवचन सुना रहा था..मैं खरी बात कहती हूं..इसलिए इसमें मैं मोदी जी की तारीफ करूंगी कि उनके भीतर वो टैलेंट है कि बिकाऊ मीडिया को हड्डी फेंककर तुरंत काम पर लगा देते हैं..गोदी मीडिया दूसरे के दरवाजे पर दुम ना हिला पाए..इसका भी ध्यान रखते हैं..

फिर वही बात आती है कि जब आप ये कहते हैं..कि देश में महंगाई में बहुत है जी..लेकिन कोई विकल्प ही नहीं है..जब आप ये कहते हैं..कि करप्शन प्रचार पर है..लेकिन क्या करें जी कोई विकल्प ही नहीं है..जब आप ये कहते हैं कि सरकार (Rahul Gandhi Bharat Jodo Yatra) जो कहती है वो करती ही नहीं है..लेकिन क्या करें जी कोई विकल्प ही नहीं है..तो इसमें आपकी गलती नहीं है..आपकी आंखों पर गुलामी की पट्टी बांध दी गई है..आपके घर के टीवी के जरिए आपको मानसिक गुलाम बना दिया गया है..

आपको गोदी मीडिया के बनाए एक ऐसे अंधेरे कमरे में कैद कर लिया गया है..जिसमें आप वहीं तक देख पाते हैं..जहां तक एक पार्टी विशेष टॉर्च से आपको दिखाती है..आप मानसिक गुलाम बन चुके हैं..आप दक्षिण कोरिया की जनता बन चुके हैं..बस अब वो समय आना बाकी रह गया है..जब आपको टीवी और रेडियो के जरिए ये बताया जाएगा कि आज आपको रोना है..आज आपको हंसना है..अब आपको घंटी बजानी है..अब आपको झंडा लगाना है..सरकस के शेर की तरह अभी आपको आदत डलाई जा रही है..कुछ सालों के बाद आप पूछ दबाकर सलाम करने के आदी हो जाएंगे..

मैं स्वतंत्र पत्रकार हूं..सच को सच कहना जानती हूं..भले मेरे पास बड़े बड़े फंड नहीं हैं..लेकिन सच कहने का बड़ा..जिगरा है..अगर मैं 10 हजार रूपए खाने पीने रहने कैमरा (Rahul Gandhi Bharat Jodo Yatra) और यूनिट पर प्रतिदिन का खर्च निकाल सकती तो जरूर मैं राहुल गांधी की ये यात्रा कवर करती लेकिन कोई बात नहीं अपने न्यूजरूम से ही सही जो सच है वो बता सकती हूं..एक बात और है जिस कांग्रेस पार्टी ने 70 साल तक देश पर राज किया उस पार्टी के पास अपनी बात लोगों तक पहुंचाने के बहुत सीमित माध्यम हैं..

बीजेपी सोशल मीडिया और अन्ना जैसे लोगों के सहारे सत्ता में आई..उसके बाद सबसे पहले मीडिया को गोदी बनाया..पत्रकारों ने जुबान निकालकर तलवे चांट लिए..ये दुर्भाग्यपूर्ण है लेकिन सच के पुजारियों से जूते चंटवाना भी एक कला है..इसकी तारीफ की जानी चाहिए..इसे राजनीतिक तौर पर आप बहुत स्मार्ट मूव कह सकते हैं…

ये बीजेपी की जीत है कि बीजेपी ने समाज में अंधभक्त पैदा किए हैं..एक बार की सच्ची बात बताती हूं..एक शख्स मुझे झांसी में मिले उम्र थी लगभग 60 साल के जिन्होंने पहले तो मोदी जी (Rahul Gandhi Bharat Jodo Yatra) और यूपी सरकार की तारीफ में बड़े बड़े पुल बांधे…ये बताया कि मुसलमानों की चूड़ी बिल्कुल टाइट है..मजा आ रहा है..लेकिन उसके थोड़ी ही देर बाद जब कैमरा बंद हुआ तो…ऐसी बात बोले कि मेरे पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई..उन्होंने मुझसे कहा कि मेरी बिटिया का कुछ दिन पहले रेप हो गया था..फिर थाने में समझौते के तहत बिटिया की शादी रेपिस्ट से ही करा दी थी..लेकिन अब 3-4 महीने हो चुके हैं..

रपिस्ट दामाद बिटिया की विदाई कराने नहीं आ रहा है..बहुत थाना पुलिस कर लिया कोई सुनवाई नहीं है..आप थोड़ा जोर लगा दीजिए..मैं हैरान थी कि यही आदमी अभी दो मिनट पहले बीजेपी सरकार की वंदना कर रहा था..अब इनती दर्द भरी कहानी बता रहा है..उसकी भक्ति उसे अपनी बिटिया के रेप के बावजूद..सरकार की तारीफ करने को बाध्य कर रही है…एक भक्त की औकात नहीं है कि वो भगवान से सवाल पूछ सके..हाल ये होता है कि बेटी का रेप हो जाता है..फिर भी भक्त बाप का मुंह सवाल नहीं कर सकता सिवा तारीफ के..दोस्तों ये बिल्कुल सच्ची घटना है..आप मेरी झांसी में लाल किले वाली रिपोर्ट देखेंगे तो आपको वो बुजुर्ग सरकार के कसीदे पढ़ते दिखाई भी देंगे..

कैमरा खुलते ही लोग बड़ी बड़ी शेखी बघारते हैं..कि हमने शेर पाला है..हमने भालू पाला है चिल्लाते हैं…लेकिन जैसे ही कैमरा हटता है..दीदी बिजली नहीं आ रही है..फलाने ने नाला खोद दिया..फलाने ने जमीन पर कब्जा कर लिया..नगर निगम वाले घूस मांग रहा हैं..थाने में सुनवाई नहीं हो रही है..मुकदमा नहीं लिखा जा रहा है..एक ट्विट कर दीजिए..

एसीपी के बात कर लीजिए..एसपी (Rahul Gandhi Bharat Jodo Yatra) को फोन कर दीजिए..ऐसे मिमिआते हैं..ये तो है भक्तों की हकीकत..फिर से कहती हूं भक्त नहीं नागरिक बनिए..बड़ी मुश्किल से तो बंदर से इंसन बने थे..भक्त बनेंगे तो सरकारी विभाग वाले आपका शोषण करते करते आपको फिर बंदर बना देंगे..फिर आप केवल उछलकूद करने लायक ही बचेंगे..

तो ये मत कहिए कि विकल्प नहीं है..विपक्ष तो सोता रहता है..विपक्ष कुछ करता ही नहीं है..विपक्ष जो कर सकता है..करता है..स्वतंत्र पत्रकार जो सकते हैं करते हैं.. पट्टी आपकी आंखों पर बंधी है..एक आदमी कन्याकुमारी से कश्मीर तक पैदल यात्रा कर रहा है..लेकिन फिर भी आपको नहीं दिखेगा क्योंकि आपको दिखाया नहीं जाएगा..एक आदमी कुछ चीते जंगल में छोड़ता है..तो हफ्ते भर से आप भी गोदी मिडिया के साथ छाती पीट रहे थे…जैसे चीते नहीं देश की बिकी हुई धरोहर कंपनियां वापस सरकार के पास आ गई हों…

सरकारों को उनके कामकाज के हिसाब से तोलिए..हिंदू मुसलमान को लड़वाने के हिसाब से मत तोलिए..अगर आप विकास से खुश होकर वोट करेंगे तो सरकार विकास करेगी..कानून व्यवस्था (Rahul Gandhi Bharat Jodo Yatra) से खुश होकर वोट करेंगे तो सरकार विकास करेगी..अगर आप मुसलमानों की चूड़ी टाइट करने से खुश होंगे तो सरकार को तो यही लगेगा की मुसलमानों का कोई पेच फंसाओ और वोट ले जाओ..एक पारखी राजनेता को करना भी यही चाहिए..

क्योंकि आपको सही राह पर लाने के लिए कोई अपनी सत्ता थोड़ी गवां देगा..तो सरकार को जनता की सेवा करने के हिसाब से तोलिए..भक्त मत बनिए..भक्त बनते ही आप सवाल पूछने का हक खो देते हैं..भक्त बनते ही आप अगले को भगवान बना देते हैं..इतनी जगह रखिए कि सरकारें गलत करें तो उनको टोक सकें..

धेरे में मत रहिए..भक्ति के कुएं से बाहर निकलिए..सही गलत..अच्छे बुरे..में अंतर पहचानने वाले नागरिक बनिए..आप इसलिए नहीं पैदा हुए थे..भक्त बनकर गुलाम बन जाएं..आप भी खास हैं..एकबार अपने भीतर झांकिए..एक बात और कहूंगी..गांधी जी कहते थे..पत्रकार को कभी सत्ता के साथ मिलकर नहीं चलना चाहिए पत्रकार (Rahul Gandhi Bharat Jodo Yatra) भी एक तरह का विपक्ष होता है..सवाल पूछना और समाज को जगाना हमारा काम है..मैं प्रज्ञा मिश्रा अपने काम में ईमानदार हूं..ऐसा नहीं है कि कांग्रेस ने 70 साल में झंडे गाड़ दिए..लेकिन कांग्रेस 70 साल में लोगों को मानसिक गुलाम नहीं बना पाई..इसे कांग्रेस की ही नाकामी कहिए..

Disclamer- उपर्योक्त लेख लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार द्वारा लिखा गया है. लेख में सुचनाओं के साथ उनके निजी विचारों का भी मिश्रण है. सूचना वरिष्ठ पत्रकार के द्वारा लिखी गई है. जिसको ज्यों का त्यों प्रस्तुत किया गया है. लेक में विचार और विचारधारा लेखक की अपनी है. लेख का मक्सद किसी व्यक्ति धर्म जाति संप्रदाय या दल को ठेस पहुंचाने का नहीं है. लेख में प्रस्तुत राय और नजरिया लेखक का अपना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *