नमाज के बाद देश शर्मिंदा हुआ ? पारसी अल्पसंख्यकों से सीखिए

PRAGYA KA PANNA
PRAGYA KA PANNA

भारत में सबसे ज्यादा प्रगति करने वाली कौम पारसी है..क्या पारसी कभी पत्थर चलाने के लिए सड़क पर उतरते हैं..वो पत्थर नहीं चलाते उनका लिंविग स्टेटस देखिएगा कभी..भारत में ईसाईयों (Country Embarrassed after Namaz) की वजह से क्या कभी किसी जवान के मुंह से खून बहने की ऐसी तस्वीर आई है..जवाब है नहीं..अगर इंदिरा गांधी का दौर छोड़ दीजिए तो क्या..तो हर तरह से सम्पन्न..जिस कौम से आजतक आपने किसी को भीख मांगते नहीं देखा होगा..

वो सिख समुदाय (Country Embarrassed after Namaz) कभी पत्थर चलाने के लिए गलियों में सड़कों पर उतरा है क्या..सिक्खों ने आंदोलन किए हैं तो सरकारों को झुकने के लिए मजबूर किया है..अब इसके बाद आईये हिंदू-मुसलमान पर एक बहुसंख्यक समुदाय दूसरा सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समुदाय यहां पहचान किन चीजों से बनी है..बताने की जरूरत तो है नहीं..

ये भीड़ तंत्र नहीं चलेगा..अगर नूपुर शर्मा ने मोहम्मद साहब का मजाक उड़ाया था..तो जो सड़कों पर नमाज के बाद नंगा नाच हुआ है..उसके बाद मुस्लिम पक्ष ने खुद को बैकफुट (Country Embarrassed after Namaz) पर खड़ा कर लिया है..क्या इस जलती हुई पुलिस की गाड़ी..इस जलती हुई बाइक…जवान के मुंह के मुंह से निकलते इस खून से..हजरत मोहम्मद साहब का अपमान सम्मान में बदल गया..क्या बिगाड़ा था इस जवान ने..क्यू कसूर था इसका..है कोई जवाब वीडियो स्किप करने की कोशिश बिल्कुल मत कीजिए..मेरी आंख में आंख डालकर बताईये..नूपुर शर्मा ने जो किया..क्या मुस्लिम समाज उसका जवाब सड़कों पर आग लगाकर देगा.

देखिए भारत चरमपंथी देश नहीं है भारत में सर्व धर्म संभाव है..सभी धर्मों को अपने रीति रिवाजों और रिचवल्स को मानने और मानाने का बाइज्जत अधिकार और आजादी है.. भारत में आंख के बादले आंख का कानून नहीं है..नूपुर शर्मा ने जो कहा था उसके लिए पूरी दुनिया के मुस्लिम देश भारत से नाराजगी जता रहे हैं..भारत की सरकार बैकफुट पर थी..बीजेपी को लेटर लिखकर बताना पड़ा कि बीजेपी में किसी के ईष्ट का अपमान करने की कोई जगह नहीं है..मुस्लिम समुदाय (Country Embarrassed after Namaz) में एक से बढ़कर एक बैरिस्टर हैं..एक से बढ़कर एक वकील हैं..नेता हैं..संगठन हैं..क्या कोई इतना सक्षम नहीं है कि कानूनी लड़ाई लड़ सके..सड़कों पर मुस्लिम पक्ष ने जो किया उससे साही सहानुभूति खत्म कर दी है..

ये जो भारत की सड़कों पर हुआ है..ये नया नहीं है..मुस्लिमों की इमेज बरसों से ऐसी ही बनी है..और ऐसी ही बनाई गई है..बताईये इंटरनेशनल लेवल पर भारत सरकार मुस्लिमों के हितों की रक्षा के लिए कसमें खा रही है..भारत की सरकार को खाड़ी देशों ने अंडर प्रेशर कर रखा है..और सड़कों पर जो कुछ लोगों ने अपनी साइड खुद ही कमजोर (Country Embarrassed after Namaz) बनाई है…

किसी भी धर्म संप्रदाय में सभी लोग एक जैसे नहीं होते..जो लोग मुझे सुन रहे हैं..उनको मालूम है मैं हमेशा सच का साथ देती हूं..और सच के लिए सही के लिए सरकारों से सवाल करती हूं..लेकिन जो आज सड़कों पर किया गया वो ठीक नहीं हुआ..सड़कों पर दंगा फसाद करने वाला हिंदू हो मुसलमान हो..मर्द हो औरत हो..किसी जाति धर्म का हो अपराधी होगा..और देश का कानून उससे वैसा ही सलूक करेगा..

Disclamer- उपर्योक्त लेख लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार द्वारा लिखा गया है. लेख में सुचनाओं के साथ उनके निजी विचारों का भी मिश्रण है. सूचना वरिष्ठ पत्रकार के द्वारा लिखी गई है. जिसको ज्यों का त्यों प्रस्तुत किया गया है. लेक में विचार और विचारधारा लेखक की अपनी है. लेख का मक्सद किसी व्यक्ति धर्म जाति संप्रदाय या दल को ठेस पहुंचाने का नहीं है. लेख में प्रस्तुत राय और नजरिया लेखक का अपना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *