सरकार ने किसानों को भेजा कानून में बदलाव का लिखित प्रस्ताव, अब किसानों की बैठक जारी

किसानों के आंदोलन का आज 14वां दिन है. कल भारत बंद के बाद आज सरकार ने कानूनों में बदलाव का प्रस्ताव किसानों को भेज दिया है. अब सरकार के प्रस्ताव पर फैसला लेने के लिए सिंघु बॉर्डर पर किसानों की चर्चा हो रही है.

Haryana Punjab Farmers Delhi Chalo March protest against farm laws
Haryana Punjab Farmers Delhi Chalo March protest against farm laws

केंद्र सरकार के सूत्रों के अनुसार सरकार अब किसानों की कई मांग मानने को तैयार है. सरकार अलग से एमएसपी कानून ला सकती है. एपीएमसी मंडी एक्ट में बड़े बदलाव किए जा सकते हैं. प्राइवेट प्लेयर्स पर टैक्स लगाने पर भी मंजूरी बनने की खबर है. और किसानों की समस्याओें के निपटारे के लिए अलग फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाए जाएंगे.

दोपहर 3 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस में कैबिनेट के फैसलों की जानकारी दी जाएगी. उम्मीद की जा रही है कि किसानों के मुद्दों पर भी जानकारी दी जा सकती है. लेकिन ऑल इंडिया किसान सभा के महासचिव हन्नान मोला ने कहा था कि सरकार अगर संशोधन की बात कर रही है तो, हमारा जवाब साफ है. संशोधन नहीं बल्कि, कानून वापसी का लिखित भरोसा मिलेगा तो ही विचार करेंगे. सरकार की चिट्ठी हमें पॉजिटिव लगेगी तो कल मीटिंग कर सकते हैं.

उधर किसानों की मांगों के लिए विपक्ष के 5 नेता आज शाम 5 बजे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलेंगे. इनमें राहुल गांधी और शरद पवार भी शामिल होंगे. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि मोदी जी को अपनी जिद छोड़ देनी चाहिए. ये किसानों का मामला है इस तरह की जिद किसी के लिए ठीक नहीं है. तीनों कृषि कानूनों को वापस लिया जाना चाहिए. इसके लिए एक संयुक्त संसदीय समिति की स्थापना करनी चाहिए जो किसानों से बात करने के बाद इस समस्या का हल ढूंढेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *