डॉक्टरों ने सिर्फ 20 गलत इंजेक्शन लगाए हैं..सरकार ने हजारों को तड़पाया है : संपादकीय व्यंग्य

Pragya Ka Panna Editorial
Pragya Ka Panna Editorial
  सिद्धार्थनगर में एक इलाका है बढनी...यहां के अस्पताल में 20 लोगों को वैक्सीन की कॉकटेल डोज लगा दी गई..कॉकटेल का मतलब वो अच्छे से समझते हैं..जो रात को पीला पानी पीने से शौकीन हैं..जो नहीं समझे हैं वो रात में पीला पानी पीने वाले मानव को खोजें और पूछें की कॉकटेल क्या होता है..फिर कमेंट में बताएं..तो डॉक्टरों ने कांड ये किया कि पहली डोज कोविशील्‍ड की लगाई..इसके बाद 14 मई को दूसरी डोज कोवैक्सीन लगा दी गई..डॉक्टरों ने लापरवाही कर दी..जब वैक्‍सीन लगवा चुके लोगों को पता चला कि गड़बड़ हो गई है तो जिंदगी बचाने के लिए वैक्सीन लगवाने गए लोग कांप उठे..छींक भी आती तो मौत समाने खड़ी दिखाई देती..दुर्भाग्य से जो वैक्सीन लगाई गई..उसमें सौभाग्य ये रहा कि किसी को कुछ हुआ नहीं..    

हो सकता है गलती करने वाले डॉक्टरों को कुछ सजी दी जाए..डॉक्टरों ने 20 लोगों को लगभग-लगभग मौत के दर्शन करा दिये थे..ये डॉक्टर इन बीस लोगों के लिए उतने ही जिम्मेदार हैं जितने 25 करोड़ की आबादी के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्मंत्री योगी आदित्यनाथ जिम्मेदार हैं.. सिद्धार्थनगर के डॉक्टरों ने तो चलिए कम से उल्टी सीधी जो भी लगाई वैक्सीन लगाई तो..आदमी भले मर जाए लेकिन कोशिश में तो कोई कमी नहीं रखी..लेकिन यूपी की बीजेपी सरकार ने कोशिश तक नहीं की. बहुत जिम्मेदारी के साथ कह रही हूं. यूपी में 1600 शिक्षकों की मौत की जिम्मेदार सिर्फ सरकार है. और यूपी में कोरोना से जितने भी लोग मारे गए हैं उसमें आधे से ज्यादा लोगों को सरकारी लापरवाही ने मार डाला है..

जब अप्रैल में पंचायत चुनावों में कर्माचारियों कि ड्यूटी लगाई जा रही थी तब यूपी के शहरों में कोरोना चरम पर था. शहरों के श्मसान और अस्पताल पटे पड़े थे.. सरकार से तमाम अपीलें की गईं कि चुनाव रोके जाने चाहिए..ये चुनाव शहर के बाद गांवों को बर्बाद कर देंगे..गांवों में कोरोना फैल जाएगा लेकिन सरकार ने नहीं सुना. कोर्ट में मामला चला गया..सरकार या चुनाव आयोग जो भी कह लीजिए. कोर्ट में लड़े..ऐसा नहीं है कि आदित्यनाथ योगी जी कह देते कि हम चुनाव नहीं करा पाएंगे तो चुनाव आयोग जबरदस्ती कर लेता..

तब जानबूझकर गांवो में मौत फैलने दी गई..सरकार की तरफ से एक बयान नहीं आया कि चुनाव रोके जाने चाहिए या फिर एक बार भी चुनाव आयोग से चुनाव रोकने के लिए नहीं कहा..चलिए कोई बात नहीं शहरों से कोरोना पॉजिटिव निगेटिव सारे लोग पोलिंग बूथ अधिकारी बनकर छींकते खांसते गांव पहुंच गए..एक-एक आदमी के हाथ में स्याही लगाई..शहरों से लोग वोट देने गांव गए.. ये गांवों को मौत की पहली डोज थी..

-----

चलिए यहां तक गावों में लोग कोरोना से मर नहीं रहे थे..लेकिन कोरोना की डोज ले चुके थे. कोरोना चुटकी बजाते ही तो होता नहीं है. थोड़ा समय लेता है. 2 जून को पंचायत चुनाव की काउंटिंग होनी थी. फिर से कहा गया कि काउंटिंग रोकिए. नहीं रोकेंगे तो गांवों में आफत आ जाएगी..अब आप समझिए एक तरफ शहरों में आदमी ऐसे मर रहा था जैसे पेड़ से पके आम टपक रहे हों. चारों तरफ हाहाकार था. लेकिन सरकार का जिगरा देखिए और आपके लिए चिंता देखिए..सरकार को आपके जीने मरने से कोई फर्क नहीं पड़ा. सरकार ने काउंटिंग कराई. वोटों की गिनती करने गए 16 सौ स्कूल टीचर तो ऑन पेपर मर गए हैं.

-----

गांवों का हाल तो आपने अखबारों में और टीवी पर तो देखा ही होगा. घर के घर साफ हो गए..कई घरों में अर्थी को कांधा देने वाले तक नहीं बचे हैं. मां बाप पत्नी भाई बहन सबको अपनी आंखों के सामने अपने घर में मरते देखा है..जो जिंदा थे वो मरने वालों को दफनाते गए लेकिन घर के आखिरी सदस्य को दफनाने वाला कोई नहीं बचा…चंदा लगाकर लाशें ठिकाने लगाई गई हैं..जमीन ज्याजात लेने वाला कोई वारिस तक नहीं रह गया. नहीं मालूम हो तो गूगल कर लीजिए..और गंगा में उतराती लाशों के वीडियो देख लीजिए..रेत में दबी लाशों के वीडियो देख लीजिए..ये थी उत्तर प्रदेश के गांवों को जानबूझकर दी गई मौत की दूसरी डोज..सिद्धार्थनगर के डॉक्टरों ने तो दो ही डोज दी हैं..उसमें भी लोग जिंदा हैं..लेकिन सरकार ने उत्तर प्रदेश को तिल तिल मारा है.

अगली बात बताती हूं. जब यूपी में पंचायत चुनाव की वोटिंग हो चुकी थी काउंटिंग बची थी तो कहा गया माई बाप बहुत ज्यादा कोरोना फैल गया है. लॉकडाउन लगा दीजिए..लोग नहीं मानेंगे लॉकडाउन लगा दीजिए..जब देश में 10 हजार केस थे तब आपने संपूर्ण लॉकडाउन कर दिया था. अब तो यूपी में ही एक दिन के भीतर देश से ज्यादा केस निकल रहे हैं…लॉकडाउन लगाईये..

कोर्ट तक ने कहा हम ऑर्डर देते हैं लॉकडाउन लगाओ..लेकिन यूपी की सरकार कोर्ट में कहकर आ गई कि माई बाप हमको लोगों का रोजगार बचाना है..लॉकडाउन नहीं लगा सकते सब ठीक है. कंट्रोल में है..समझ रहे हैं सरकार को आपके रोजगार से..आपकी दुकान.. आपके बिजनेस से आने वाले टैक्स की चिंता थी..यानी अपने खजाने की चिंता थी..आपकी चिंता नहीं थी. मैं बीच चौराहे पर खड़े होकर कह सकती हूं. कि यूपी को कोरोना के मुंह में यूपी की सरकार ने झोंका है. कोरोना महामारी है मानती हूं..लेकिन इसे इतने बड़े स्तर तक लेकर गई यूपी की सरकार…

उत्तर प्रदेश तड़प रहा था. यूपी के मुख्यमंत्री बंगाल में रैलियां कर रहे थे. पूरा देश कहता रह गया कि चुनाव से जरूरी लोगों की जान है लेकिन यूपी के मुख्यमंत्री भी नहीं माने..आखिर में क्या हुआ.. जब यूपी तड़प रहा था उसे अपने मुख्यमंत्री की जरूरत थी. पहले तो मुख्यमंत्री दिन दिनभर बंगाल में रहते थे. बाद में खुद कोरोना पॉजिटिव होकर क्वारंटीन हो गए. यानी उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री भी बीमार और उत्तर प्रदेश भी बीमार..मैं और ऐसे दसियों सरकारी डोज गिना सकती हूं जो मौत का कॉकटेल बन गए..दवाई

ऑक्सीजन..अस्पताल..श्मसान..एंबुलेंस..सबकी बात करूंगी तो बताते नहीं बनेगा..इसलिए कहती हूं डॉक्टरों ने कॉकटेल वाले इंजेक्शन लगा दिए तो मुझे हैरानी नहीं हुई क्योंकि इससे बड़े-बड़े कांड सरकार खुद करके बैठी है. तो बिचारे डॉक्टरों को क्या कहें. वो कम से कम सही हो या गलत इंजेक्शन लगा तो रहे हैं.

-----

दोस्तों मेरे लिखे संपादकीय व्यंग्य वाले लेख के लिए मेरी वेबसाइट Ultachasmauc.com पर..लेख पढिए और अपनी राय कमेंट में दीजिए..आपके कमेंट का जवाब एक घंटे के भीतर गारंटी के साथ देती हूं. और ट्विटर पर मुझे फॉलो करना बिल्कुल मत भूलिए.. @pragyalive नाम से ट्विटर पर खोजिए..चलते हैं राम राम दुआ सलाम जय हिंद…

सवाल- सिद्धार्थनगर कहां है ? Question- Where is Siddharthnagar?

जवाब- सिद्धार्थनगर उत्तर प्रदेश का एक जिला है Answer- Siddharthnagar is a district of Uttar Pradesh

सवाल- क्या यूपी सरकार ने यूपी पंचायत चुनावों का विरोध किया Question- Did the UP government oppose the UP Panchayat elections

जवाब- नहीं सरकार ने चुनाव टाले जाने या चुनाव को कुछ समय तक रोकने के लिए कुछ नहीं किया Answer- No, the government did nothing to postpone the election or stop the election for some time.

सवाल- पंचायत चुनाव की वजह से कोरोना के चलते यूपी में कितने शिक्षक मारे गए Question- How many teachers were killed in UP due to corona due to panchayat elections

जवाब- 1600 शिक्षक मारे गए. Answer – 1600 teachers were killed.

सवाल- यूपी पंचायत चुनाव कब कराए गए Question- when were the UP Panchayat elections held

जवाब- यूपी पचंयात चुनाव कोरोना के पीक पर कराए गए. Answer- UP digest elections were held on the peak of Corona.

सवाल- कोर्ट ने लॉकडाउन के बारे में यूपी सरकार से क्या कहा Question- What did the court tell the UP government about the lockdown

जवाब- कोर्ट ने यूपी सरकार से लॉकडाउन लगाने के लिए कहा था लेकिन यूपी सरकार नहीं मानी थी. Answer- The court had asked the UP government to impose lockdown but the UP government did not agree.

सवाल- क्या यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को कोरोना हुआ था Question- Was UP Chief Minister Yogi Adityanath corona

जवाब- हां यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को कोरोना हुआ था Answer- Yes, UP Chief Minister Yogi Adityanath was coronated.

सवाल – क्या यूपी के मुुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना से ठीक हो गए थे. Question – Did UP Chief Minister Yogi Adityanath recover from Corona.

जवाब- हां यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ क्वारंटीन पीरियड खत्म करके काम करने लगे थे. Answer- Yes, UP Chief Minister Yogi Adityanath started working after finishing the quarantine period.

सवाल- क्या भारत की गंगा नदी में कोरोना से मरने वालों की डेड बॉडी तैर रही थीं. Question- Was the dead body of those who died of corona floating in the Ganges river of India.

जवाब- हां क्योंकि लाशें कोरोना के समय ही गंगा में बहने लगी थीं इसलिए माना जा सकता है. क्योंकि सरकार ने डेडबॉडीज का कोई टेस्ट नहीं कराया इसलिए माना जाता है कि डेडबॉडी कोरोना की ही थीं. Answer- Yes, because the corpses started flowing in the Ganges at the time of Corona, it can be assumed. Because the government did not conduct any tests on deadbodies, it is believed that the deadbodies were of Corona itself.

सवाल- क्या गंगा किनारे कोरोना से मरने वाले हिंदुओं की लाशें दफ्न की गईं. Question- Whether the dead bodies of Hindus who died from Corona along the Ganges were buried.

जवाब- हां दफ्न लाशों बहुत सी लाशें हिंदुओं की थीं बहुत सी बौद्ध धर्म की और बहुत सी वो हिंदू लाशों भी थीं जो जलाई नहीं भी जा सकती थीं. जिनको दफनाने की प्रथा थी. लेकिन मरे कोरोना से या किसी और कारण से इसका कोई टेस्ट मौजूद नहीं है… Answer- Yes dead bodies were many of the dead Hindus and many were also Hindu bodies which could not be burnt. Those who had the practice of burial. But there is no test of this from Murray Corona or for any other reason…

डिस्क्लेमर : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति Ulta Chasma Uc.Com उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार Ulta Chasma Uc.Com के नहीं हैं, तथा Ulta Chasma Uc.Com उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

63 thoughts on “डॉक्टरों ने सिर्फ 20 गलत इंजेक्शन लगाए हैं..सरकार ने हजारों को तड़पाया है : संपादकीय व्यंग्य

  • May 27, 2021 at 10:30 pm
    Permalink

    Pragya ji . Covid se jyada khatarnak toh mujhe up gov.lg rhi h ..

    I m from Rajasthan

    Reply
    • May 27, 2021 at 10:34 pm
      Permalink

      राजेश जी आपका उल्टा चश्मा यूसी परिवार में स्वागत है

      Reply
      • May 28, 2021 at 3:49 pm
        Permalink

        कोरोन का टेस्ट किसी भी लेब पर नहीं हो रहा बड़ी बड़ी लेब पर भी कोरोन का टेस्ट नहीं हो रहा है
        परगया जी इस लिए कोरोन के केस कम अ रहे है
        आप खुद टेस्ट के लिए जाओ और देखो कही भी टेस्ट नहीं हो रहे
        लाल पेथलेब पर भी नहीं हो रहे और सभी
        प्राइबेट भी बंद हे इह लिए केस कम आ रहे है

        Reply
        • May 28, 2021 at 4:52 pm
          Permalink

          आपकी बात बहुत हद तक सही है

          Reply
      • May 28, 2021 at 4:52 pm
        Permalink

        मेडम जी राजस्थान के बेरोजगार हुए टेक्सी चालकों के बारे में भी कुछ बौलिये,

        मै राजस्थान टेक्सी युनियन मीडिया प्रभारी नायक सूरज
        6375012817

        Reply
        • May 28, 2021 at 5:00 pm
          Permalink

          धन्वाद सर शेयर करिए और दूसरे लोगों से भी सब्सक्राइब करवाईये…

          Reply
      • May 28, 2021 at 11:19 pm
        Permalink

        Didi up government ko kewal apni gaddi bachane aur tax kaise mile bus isi me lgi hai

        Reply
      • May 29, 2021 at 5:27 am
        Permalink

        Kupth kupath rath daurata jo
        Path nidesak oah hai.
        Laz lazati jiski kirti
        Path updesak oh hai.
        Pragya ji
        All ill all well

        Reply
        • May 29, 2021 at 12:23 pm
          Permalink

          धन्यवाद

          Reply
    • May 29, 2021 at 9:18 pm
      Permalink

      Bhut Shi kha pragya mam Apne . Lenin yha Jo sach khega co deshdrohi hi Jayega.
      Take care mam we always with you.. I like your every vedio and edition.

      Reply
      • May 29, 2021 at 9:28 pm
        Permalink

        धन्यवाद उमर जी..आपने अपनी बेशकीमती राय रखी..हम चाहते हैं आप हमारे नियमित पाठक बनें..रोज एक बार वेबसाइट पर लिखे गए नए लेख जरूर पढ़ें..

        Reply
  • May 27, 2021 at 10:53 pm
    Permalink

    Pragya ji sirf UP nhi puri country me jo sarkar h vo sarkar nhi dictator h,jhoot aur dramebaji ke siva kuch nhi ata inko,full mandate isliye diya tha janta ne taki desh surakshit haatho me rhe magar yaha to raksak he bhakshak bane baithe h.

    Reply
    • May 28, 2021 at 11:27 am
      Permalink

      आपकी राय के लिए shukriya

      Reply
  • May 27, 2021 at 11:17 pm
    Permalink

    Ma’am vaccines doctors nahi lagate ….nursing staff lagata hai.

    Reply
  • May 27, 2021 at 11:36 pm
    Permalink

    Pragya ji ye lala ram dev bjp ke dum pr uchal raha h tabhi bol raha h kisi ke baap me dum nhi jo usko jail bhje

    Reply
  • May 28, 2021 at 12:14 am
    Permalink

    हालाँकि आपने बातें तो बड़ी सटीक व सही कही है । लेकिन आपकी बातों मे मात्र एक पक्ष का चेहरा दिखता है । एक पत्रकार के तौर पर आप को ऐसा नही करना चाहिएं । आप ऐसे एकतरफा नहीं हो सकती । आप हमें फैक्ट्स ऐंड फीगर्स बताया करिये । उसमे से सच को ढूँढ़ना और उसको समझना तो हम जानते ही है, ये आप भी जानती है ।

    Reply
  • May 28, 2021 at 12:56 am
    Permalink

    कितने तड़पे कितने मर गये कितने आक्सीजन के बिन । कितने मरने के बाद तरसे हाय लकड़ी के बिन । अपनों को कर दिया पराया और बोला कोरोना अब तू भी अपने दिन गिन ।
    जय हिन्द जय भारत

    Reply
      • May 28, 2021 at 3:29 pm
        Permalink

        Pata nhi aap padoge ya nhi. But ye aakhri umid h meri aap tak baat pahuchane ki, buxwaha forest (Chatterpur mp) mai h 2 lakh 15 hajar pedh kaate jane h diamond k liye and palamau tiger reserve (jharkhand) mai h 3.44 lakh pedh kaate jane h dam k liye. Logo tak baat pahuchani tanki kuch ho sake. Sab log lage huye h or awaj utha rhai govt kuch nhi kar rhi per. Iska bahut harmful effect padega environment or animals pe. Kisi ko koi chinta tak nhi. Bahut se log jante tak nhi h.

        Reply
      • May 28, 2021 at 3:31 pm
        Permalink

        प्रज्ञा जी देश की कोई भी सरकार दूध की धुली नही हैं, लेकिन आप सिर्फ भाजपा को कठघरे पे खड़ा करती है।
        सरकार कोई भी हो सबकी गलत नीतियों का विरोध करें।

        Reply
        • May 28, 2021 at 4:55 pm
          Permalink

          सर पत्रकारिता में सरकार से सवाल करना सिखाया जाता है..जिसकी सरकार होगी..उसी से सवाल होंगे..

          Reply
          • May 28, 2021 at 8:43 pm
            Permalink

            कभी एक – आध सवाल दिल्ली के मुख्यमंत्री जी से भी पूछ लिजीये जिनके खुद के मंत्री ऑक्सीजन की काला बाज़ारी करते हुए पकड़े गए थे।

  • May 28, 2021 at 5:49 am
    Permalink

    Prayaji
    मुद्दा अच्छे से समझाया
    धन्यवाद

    Reply
    • May 28, 2021 at 11:31 am
      Permalink

      सर इससे जुड़ा कोई विडीओ बनाऊँगी तो ज़रूर आपकी बात का ख़याल रखा जाएगा

      Reply
    • May 28, 2021 at 11:30 am
      Permalink

      ये क्या hai

      Reply
  • May 28, 2021 at 7:50 am
    Permalink

    कोर्ट किसी सर्विस मैटर्स पर ऑर्डर करता है तब सरकार को उस ऑर्डर के पालन करने में विलंब करने अथवा अवमानना करके लटकाने में देर नहीं लगती। लेकिन चुनाव पर कोर्ट के आदेश का त्वरित रूप से पालन किया गया। जबकि सरकार चाहती तो कर्मचारियों व जनता के जीवन की रक्षा हेतु अगर चुनाव प्रक्रिया को स्वयं टाल देती, तो बाद में जनहित को देखते हुए कोर्ट भी माफ कर देता।
    लेकिन सरकार को जिला पंचायत और ब्लॉक प्रमुखी की कुर्सियां दिख रहीं है इसलिए अर्थियों का ख्याल नही आया।
    दुखद

    Reply
  • May 28, 2021 at 8:36 am
    Permalink

    मेरे अंकल और आंटी को 18 से 44 वर्ष वाला वैक्सीन लगा दिया, Registration 45प्लस का हुआ था, ये भारतीयों का दुर्भाग्य है।।

    Reply
    • May 28, 2021 at 11:30 am
      Permalink

      डॉक्टर से सम्पर्क कीजिए

      Reply
  • May 28, 2021 at 8:46 am
    Permalink

    👌 आपकी लेखनी और जज्बे का कोई जवाब नहीं, आपके लिए यही दुआ है कि एक दिन आपका नाम पत्रकारिता की दुनिया में, विश्व में सबसे टॉप पर हो 💐💐

    Reply
  • May 28, 2021 at 8:46 am
    Permalink

    Pta nahi desh me aur kya kya kregi ye sarkar.

    Reply
  • May 28, 2021 at 8:52 am
    Permalink

    Pragya ji aap bahut nidar hokar apni nhi sabhi logo ki dil ki baat kehti h,ye vo schchaai h jise bde bde log neta bhi kehne ki himmat nhi kr pa rahe h, is bjp ne poora bharat kobarbadi ki kagaar pr la diya h,pr ik din aap jaisi patrkar ki mehnat rang layegi or bharat ke log is sarkaar ko ukhaad faikenge,,

    Reply
  • May 28, 2021 at 12:55 pm
    Permalink

    Pragya ji aap ka utube video channel ko ban kar dene ka bahut afsos hua. Yahan Government ko ulte chashme se seedha such jo deekhaai dene laga na…..

    Reply
    • May 28, 2021 at 12:58 pm
      Permalink

      जी आपके..समर्थन के लिए धन्यवाद

      Reply
      • May 28, 2021 at 2:03 pm
        Permalink

        Prgaya जी नमस्कार
        आज हमारा प्यारा हिंदुस्तान हमारा अपना हिंदुस्तान अपने दौर के सबसे बुरे दिनों से गुज़र रहा है। आज सरकारें मदारी बनी हुई हैं और जनता को मदारी का बन्दर बना रक्खा है, हमनें तो वो दौर नहीं देखा है लेकिन शायद अंग्रेजों का दौर इससे अच्छा था। प्रज्ञा जी बहुत शुक्रिया हमारी आवाज़ उठाने के लिए। हमारे लिये आप हमारी सोच हैं हमारे पास शब्द नहीं है आप का शुक्रिया करने के लिए ईस्वर आपको हमेशा खुश रक्खे।

        Reply
        • May 28, 2021 at 2:27 pm
          Permalink

          आपकी राय और बेशकीमती सयम के लिए शुक्रिया

          Reply
  • May 28, 2021 at 2:06 pm
    Permalink

    हैलो प्रज्ञा जी, दुआ सलाम..राम राम
    मेरा एक सवाल है_
    up के शिक्षक संघ ने कहा है 1600+ शिक्षक की मौत corona से हुई है, और सरकार ने ये आंकड़ा 3 का बताया है.
    कुछ दिन पहले इलाहबाद हाईकोर्ट ने up सरकार को आदेश दिया की ऐसे शिक्षक के परिजनों को कम से कम १ करोड़ का मुआवजा दिया जाना चाइए।
    तो क्या ये सिर्फ 3 लोगो को ही मिलेगा..
    और अगर किसी शिक्षक की मौत हुई हो और टेस्ट नही हुआ तो ये अब कैसे साबित होगा की उसकी मौत corona से ही हुई थी।।

    Reply
    • May 28, 2021 at 2:26 pm
      Permalink

      जो शिक्षक चुनाव ड्यूटी में थे और उनकी मौत हुई है तो सरकार ने अब उनके घर वालों को नौकरी देने की बात कही है..कोई शासनादेश अभी नहीं पहुंचा है..जैसे कोरोना से मरने वालों के अंतिम संस्कार के लिए 5 हजार रूपए दिए जाने की बात कही गई थी लेकिन अभी तक किसी को मिले नहीं हैं..

      Reply
      • May 28, 2021 at 3:44 pm
        Permalink

        हाजी मुआवजे की बात तो बहुत सुनी है,
        परंतु ये पता केसे चलेगा की आखिर कितने शिक्षक मरे है, बहुत लोगो के तो टेस्ट भी नही हुए होंगे, वो तो घर से सीधे समशान गए??
        शिक्षको की मौत की संख्या और सरकारी आंकड़ों में बहुत बड़ी भिन्नता है न??

        Reply
  • May 28, 2021 at 2:24 pm
    Permalink

    जब भी वैक्सीन की कमी पे सवाल किया जाता है तो नेतागण और उनके सुतुरमुर्ग अनुयाई रेत से मुंह निकाल के कहते है की हमारी आबादी देखी है कितनी है?
    आपका क्या तर्क है इसपे??

    Reply
    • May 28, 2021 at 2:31 pm
      Permalink

      आपकी राय और बेशकीमती सयम के लिए शुक्रिया

      Reply
    • May 28, 2021 at 5:23 pm
      Permalink

      Pragya ji aapke sare sampad dekhe h aur samjhe h. Bahut Sahi vyang Kiya hai. News channel se jyada apka vyang accha aur Sahi lagta hai. Hum roj apka news dekhte h. Keep doing well. Ram ram Dua Salam ! 🌺🌺🌺🌺🌺🌺

      Mera sawal h Kya covidshield vaccine safe h ya Pfizer ka wait karna chahiye. Humne kahi pada tha ki covidshield vaccine lene walo ki death ho gyi hai. Kya yeh baat sach h?

      Reply
  • May 28, 2021 at 4:59 pm
    Permalink

    Pragya ji aap bahut achi journalist ho aap ko upper wala sach dikhane ki aur himmat de aur aapki hamesha hifazat kare aur aap ko khush rakhe aur har tarah ki aafat se bachaye. Mai aapki video ka roz wait karta hun. Pragya ji aap ki mother ab kaisi hain suna tha ke unki tabyat kharab hai.

    Reply
  • May 28, 2021 at 6:15 pm
    Permalink

    Madam u r doing great job.I follow u on all platforms. Dont stop n keep reporting.
    Kuch Sudhir chaudhri aur sambit patra ke news bhi laiye…dono desh ko bahot gumrah kar rahe hai

    Reply
    • May 28, 2021 at 9:44 pm
      Permalink

      Abhi app achha video bannane lgi she or ek dum point pe bat kriti mene 2020 me jab alka video you tube le dekhta tha tb me aap ko ignor kr dusra new chanel lgata tha jaise aaj tk NDTV ab me you tube me aaj tak new chanel ko ignor keta he or aap ka chanel dekhta hu aap acchi new banti he job hme pasand ati he good 👍job thank you 🙏 hum original new btane ke liye

      Reply
      • May 28, 2021 at 10:17 pm
        Permalink

        धन्यावाद हमेशा साथ रहिए हम सब एक परिवार हैं..

        Reply
    • May 28, 2021 at 8:14 pm
      Permalink

      एकदम ठीक

      Reply
  • May 28, 2021 at 9:09 pm
    Permalink

    प्रग्या जी आप निडर पत्रकार है
    आप का सवाल उठाने का तरीका अलग है
    आप एशेही हमेशा रहीयेगा
    🙏🙏Thank you🙏🙏

    Reply
    • May 28, 2021 at 10:17 pm
      Permalink

      जरूर

      Reply
  • May 29, 2021 at 1:21 pm
    Permalink

    Aap ke liye bahut sari dua, hak aur insaaf ki awaz bani rahiye pura hindustan aap ke saath khada hai… Chand godi media aur godi bhakto ko chor kar… Ram naam dua salam… Jai Hind

    Reply
    • May 29, 2021 at 1:29 pm
      Permalink

      राम राम दुआ सलाम जय हिंद

      Reply
  • May 29, 2021 at 2:17 pm
    Permalink

    aapka jo pragya ka panna cahnnel hai uske video ke start me sound aata hai ….wo irritating hai..usko badal kr koi dusra sound rakhiya..aur usko loud krke ek baar dekh lijiye ki awaaz khi phat to nhi rhi….kyuki ye wli phat jaati hai aur crystal clear nhi rhti.. .earphone log lagate hai toh isliye bta rhe..

    Reply
    • May 29, 2021 at 3:12 pm
      Permalink

      ये मैं टीम को जरूर बताऊंगी

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *