मुफ्त में करें ‘ताजमहल’ का दीदार, सिर्फ दो दिन होगी फ्री एंट्री, इस दिन पहुंचें-

आगरा का ताजमहल कौन नहीं देखना और घूमना चाहता है. पर क्या अपने ये सोचा है की आपको ताजमहल घूमने का मौका फ्री में मिल सकता है. ये बात बिलकुल सही है. मुगल बादशाह शाहजहां का तीन दिवसीय उर्स दो से चार अप्रैल के बीच होगा.

free entry in taj mahal mughal emperor shah jahan urs
free entry in taj mahal mughal emperor shah jahan urs

इस उर्स में दो और तीन अप्रैल को दोपहर दो बजे के बाद और चार अप्रैल को पूरे दिन प्रवेश नि:शुल्क रहेगा. आखिरी दिन ही चादरपोशी की जाएगी. आपको बतादें ताजमहल की बुनियाद एक लकड़ी पर टिकी हुई है. ये लकड़ी पानी से और मजबूत होती है, यही कारण था कि इसे यमुना के किनारे बनाया गया. इसकी ऊंचाई करीब 73 m है. ताजमहल दिन के अलग-अलग समय में अलग-अलग रंगों में दिखाई देता है, सुबह के समय वह हल्का सा गुलाबी और शाम में दुधेरी सफ़ेद जैसा और रात में हल्का सुनहरा दिखाई देता है.

हर साल ताजमहल को लगभग 9 से 10 मिलियन लोग देखने आते हैं. शाहजहां का उर्स रजब की 25, 26, 27 तारीख को मनाया जाता है, जो अप्रैल में दो से चार तारीख तक है. उत्तर प्रदेश अमन कमेटी, शाहजहां उर्स कमेटी, खुद्दाम ए रोजा कमेटी की संयुक्त बैठक आठ मार्च को होगी, जिसमें व्यवस्थाएं तय करने के साथ जिम्मेदारी दी जाएंगी. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने उर्स के लिए अधिसूचना जारी कर दी है.

अधीक्षण पुरातत्वविद वसंत कुमार स्वर्णकार ने बताया कि उर्स में कोई झंडा, बैनर, पोस्टर, किताब, 36 इंच से बड़ा ढोल, बैंड बाजा, लाइटर, चाकू आदि चीजें नहीं जाएंगी. उर्स के दौरान आने वाले जायरीनों की सुरक्षा और अन्य व्यवस्थाओं के लिए जल्द ही निर्देश जारी किए जाएंगे.

तीन दिवसीय उर्स के दौरान दो अप्रैल को दो बजे गुस्ल की रस्म के साथ शाहजहां का उर्स शुरू हो जाएगा. तीन अप्रैल को दोपहर दो बजे संदल चढ़ाया जाएगा. चार अप्रैल को सुबह कुल शरीफ के बाद कुरआनख्वानी और फातिहा पढ़ा जाएगा. शाम को ताज परिसर में लंगर बांटा जाएगा.