बड़ी खबर: भारत में कोरोना वायरस से पहली मौत की पुष्टि, मरीजों की संख्या हुई 76

कोरोना वायरस के कारण देश में पहली मौत हो गई है. इस मामले की पुष्टि हो गई है. कर्नाटक के स्वास्थ्य विभाग के आयुक्त ने इस संबंध में जानकारी दी है. कर्नाटक में एक 76 वर्षीय व्यक्ति की कोरोना वायरस से मौत हो गई है.

first death due to coronavirus in india
first death due to coronavirus in india

जांच रिपोर्ट आने के बाद इसकी पुष्टि हुई है. जिसके बाद कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री बी श्रीरामुलु ने गुरुवार को ट्वीट कर बताया कि कलबर्गी का जो व्यक्ति कोविड-19 का संदिग्ध मरीज था, उसके इस वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हो गई है. वो व्यक्ति सऊदी अरब से लौटा था और मंगलवार की रात उसकी मौत हो चुकी है. वहीं पुणे में कोरोनावायरस से संक्रमित एक और मरीज की पुष्टि हुई है. इसके बाद इससे संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 76 हो गई है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों से सावधानी बरतने को अपील की है. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि कोरोनावायरस के कारण स्थिति को लेकर सरकार पूरी तरह सतर्क है. सभी मंत्रालयों और राज्यों में, सभी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कई कदम उठाए गए हैं. केंद्र सरकार का कोई भी मंत्री आगामी दिनों में विदेश यात्रा नहीं करेगा. मैं अपने देशवासियों से आग्रह करता हूं कि वे गैर-जरूरी यात्रा से भी बचें. हम बड़ी सभाओं को टालकर प्रसार की श्रृंखला को तोड़ सकते हैं और सभी की सुरक्षा सुनिश्चित कर सकते हैं.

वहीं भारत सरकार ने अब तक कोरोनावायरस प्रभावित देशों से 948 यात्रियों को निकाला है. इनमें से 900 भारतीय हैं, जबकि 48 दूसरे देशों के नागरिक हैं. इन देशों में मालदीव, म्यांमार, बांग्लादेश, चीन, अमेरिका, मैडागास्कर, श्रीलंका, नेपाल, दक्षिण अफ्रीका और पेरू शामिल हैं. बतादें कि दुनियाभर के 107 देशों में 1,17,339 मामलों की पुष्टि हुई है. जिसमें 4,251 लोगों की मौत हो गई है.

कनाडा से लखनऊ आई महिला डॉक्टर में कोरोनावायरस के संक्रमण के लक्षण मिले हैं. उन्हें केजीएमयू में गहन चिकित्सा कक्ष में रखा गया है. उधर भारत ने 31 मार्च तक सभी विदेशी शिप की एंट्री बैन कर दी है। इसी के तहत मंगलौर में एक यूरोपियन कंपनी का जहाज वापस भेज दिया गया। रविवार को यूरोपियन कंपनी एमएससी क्रूज की शिप लिरिका को मंगलौर तट पर एंट्री नहीं दी गई.

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने स्वास्थ्य और शोध विभाग के साथ मिलकर संक्रमण की जांच के लिए देशभर में 52 लैब बनाई हैं. सरकार द्वारा लगाई वीजा पाबंदियों के चलते 15 अप्रैल तक कोई भी विदेशी खिलाड़ी आईपीएल के लिए उपलब्ध नहीं रहेगा. ऐसे में अब आईपीएल पर भी रोक लगाई जा सकती है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *