चुनाव से पहले BJP कार्यकर्ताओं पर दर्ज सभी फर्जी मुक़दमे वापस होंगे..

UP फतह करने के लिए योगी सरकार ने अपनी पूरी ताकत लगा दी है. संगठन और कार्यकर्ताओं की नाराजगी दूर करने के लिए BJP बीजेपी आलाकमान लगातार सक्रिय बने हुए हैं और अब BJP सरकार ने एक और बड़ा फैसला ले लिया है.

fake cases filed against bjp workers will be withdrawn
fake cases filed against bjp workers will be withdrawn

फर्जी आपराधिक मुक़दमे वापस होंगे

BJP कार्यकर्ताओं पर दर्ज सभी फर्जी आपराधिक मुक़दमे वापस लिए जाएंगे. यूपी में सपा और बसपा शासन के दौरान BJP बीजेपी कार्यकर्ताओं के खिलाफ बड़ी संख्या में मुक़दमे दर्ज किए गए थे जिन्हें अब वापस लेने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. हाल ही में इस फैसले पर मुहर लगाईं गई है. फैसले के तुरंत बाद ही इस फैसले पर अमल भी शुरू हो गया है. मुक़दमे वापस लेने की प्रक्रिया जुलाई से शुरू हो जाएगी.

-----

सफलता के लिए कार्यकर्ताओ का खुश रहना जरुरी

-----

दरअसल BJP बीजेपी बूथ मैनेजमेंट पर खासा जोर देती रही है और अगर बूथ स्तर पर कार्यकर्ता निराश रहेगा तो चुनाव में सफलता हासिल कर पाना मुश्किल होगा. इसलिए BJP बीजेपी एक भी मौका नहीं छोड़ना चाहती है. पार्टी आलाकमान को भी लगता है कि कार्यकर्ताओ की नाराजगी दूर करना बहुत जरूरी है. आपको बता दें कि योगी सरकार बनने के बाद से अब तक लगभग पांच हजार से ज्यादा मुकदमे वापस लिए जा चुके हैं. जिनमे सीएम, डिप्टी सीएम और मंत्रियों के खिलाफ दर्ज मुकदमे भी शामिल है. और अब चुनाव से पहले बाकी बचे मुकदमो को भी वापस ले लिया जायेगा.

खाली पदों पर कार्यकर्ताओं की नियुक्ति

इतना ही नहीं BJP बीजेपी संगठन में खाली पड़े पदों को भरने की भी कवायद शुरू हो गई है. आयोग बोर्ड और निगमो में खाली पदों पर कार्यकर्ताओं को नियुक्त करने का सिलसिला भी शुरू हो गया है. पार्टी के नेताओं का मानना है कि मुकदमे वापसी का पार्टी को पश्चिमी उतर प्रदेश में सबसे ज्यादा लाभ मिलेगा. BJP बीजेपी सरकार और संगठन ने पार्टी, RSS व विचार परिवार के संगठनों से जुड़े वकीलों की जिला अदालतों में सरकारी वकील के पद पर नियुक्ति की भी कवायद तेज कर दी है. आने वाले दिनों में सरकारी वकीलों की भी नियुक्ति की जाएगी.

ये भी पढ़ें –

संकट के बड़े भंवर में फंसती जा रही है बीजेपी : संपादकीय व्यंग्य

-----

योगी से फिर बगावत..2 मौर्या मंत्रियों ने शुरू की धुआंधार बल्लेबाजी..AK शर्मा रिटायरहर्ट : संपादकीय व्यंग्य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *