BJP उम्मीदवार की कार में EVM बरामद, 4 चुनाव अधिकारी सस्पेंड, कांग्रेस ने उठाए सवाल

असम विधानसभा चुनाव में आये दिन कुछ न कुछ बवाल हो रहा है लेकिन अब EVM विवाद की एंट्री हो गई है. दूसरे फेज की वोटिंग के बाद सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ. इसमें चुनाव अधिकारी बीजेपी नेता की कार में EVM ले जाते दिख रहे हैं.

evms found patharkandi bjp candidate car in assam

असम के करीमगंज में बीजेपी उम्मीदवार की कार से ईवीएम मिलने के मामले में चुनाव आयोग ने वहां के जिला निर्वाचन अधिकारी से रिपोर्ट मांगी है. जिस गाड़ी में ईवीएम मिली थी वो कार पाथरकांडी से बीजेपी उम्मीदवार कृष्णेंदु पाल की बताई जा रही है. जानकारी के मुताबिक, ईवीएम लावारिस बोलेरो में मिली थी. इस पर चुनाव आयोग ने बड़ी अनुशासनात्मक कार्रवाई की है.

घटना सामने आने के बाद चुनाव आयोग ने 4 अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया है. चुनाव आयोग की रिपोर्ट में बताया गया है कि पोलिंग पार्टी 149-इंदिरा एमवी स्कूल ऑफ एलएसी 1 रतबारी (SC) का रास्त में एक्सीडेंट हो गया था. उस पोलिंग पार्टी में एक पीठासीन अधिकारी और 3 मतदान कर्मी शामिल थे. उनके साथ एक कांस्टेबल और एक होमगार्ड शामिल पुलिस कर्मी भी थे. जिसके बाद पीठासीन अधिकारी ने बीजेपी विधायक की गाड़ी में लिफ्ट लेने की बात कही है.

चुनाव आयोग के सूत्रों के मुताबिक, लिफ्ट लेकर जब बीजेपी विधायक की गाड़ी से पोलिंग पार्टी लौट रही थी तभी स्थानीय लोगों ने देख लिया और गाड़ी रोक दिया. पोलिंग पार्टी के सदस्यों को स्थानीय लोगों ने गाड़ी से निकाल दिया और भीड़ हिंसात्मक भी होने लगी. जो ईवीएम बीजेपी विधायक की गाड़ी से मिला है वोटिंग के बाद की है. ईवीएम का सील नहीं टूटा है.

-----

उधर, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि इस मामले पर निर्वाचन आयोग को निर्णायक कदम उठाने चाहिए और सभी राष्ट्रीय दलों को ईवीएम के उपयोग का गंभीर पुनर्मूल्यांकन करने की जरूत है. जब भी चुनाव होते हैं तो प्राइवेट गाड़ियों में EVM ले जाने के मामले सामने आते हैं. इनमें कई चीजें कॉमन होती हैं. ये गाड़ियां आमतौर पर भाजपा नेताओं या उनके सहयोगियों की होती हैं. ऐसे मामलों को इकलौती घटना बताया जाता है और भूल मानकर खारिज कर दिया जाता है.