CM योगी ने श्रीराम का राज्याभिषेक कर 236 करोड़ की परियोजनाओ का किया लोकार्पण और शिलान्यास

अयोध्या की पावन धरती पर जब प्रभु श्रीराम और माता सीता का पुष्पक विमान के प्रतीक हेलीकाप्टर से रामकथा पार्क में उतरे तो लोगों को त्रेतायुग जैसा अहसास हुआ.

deepotsav in ayodhya CM yogi lord rama darshan

रामकथा पार्क में प्रभु श्रीराम और माता सीता के उतरते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भगवान राम के स्वरूप का तिलक कर युगों पूर्व राम राज्याभिषेक की स्मृति को जीवंत किया. राम के राजतिलक और सरयू में तैरती दीपोत्सव की अनुपम छटा देख राज्यपाल आनंदीबेन भी अभिभूत थीं. लंका विजय के बाद अनुज लक्ष्मण और पत्नी जानकी के साथ भगवान के अयोध्या वापस आने का प्रसंग जीवंत हुआ.

इस दौरान मुख्यमंत्री ने 236 करोड़ की 11 विकास योजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास भी किया जिसमें 52 करोड़ रामकी पैड़ी में अविरल जल प्रवाह के लिए, 35.64 करोड़ गुप्तारघाट के विकास एवं निर्माण में, 19.41 करोड़ बंधा तिराहा पर भजन संध्या स्थल का उद्घाटन में, 16.17 करोड़ फोर लेन का चौड़ीकरण के लिए, अयोध्या जिला की ही बीकापुर विधानसभा क्षेत्र में 7.75 करोड़ से राजकीय महाविद्यालय की स्थापना के लिए, 1.65 करोड़ गोसाईंगंज विस क्षेत्र में लघु सेतु के निर्माण के लिए जैसी अन्य परियोजनाएं हैं.

सीएम योगी ने कहा कि हमारी सात पवित्र नगरियों में तीन पवित्र नगरी अयोध्या, काशी और मथुरा हमारे उत्तर प्रदेश में हैं. दीपोत्सव के मौके पर डाक टिकट भी जारी किया गया. प्रदेश के चीफ पोस्ट मास्टर जनरल कौशलेंद्र कुमार की ओर से प्रस्तुत टिकट का मुख्यमंत्री सहित प्रदेश सरकार के अनेक शीर्ष प्रतिनिधियों ने विमोचन किया.

अयोध्या में आयोजित इस दीपोत्सव के मौके पर राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति राज्यमंत्री प्रहलाद सिंह पटेल, उप मुख्यमंत्री केशवप्रसाद मौर्य एवं डॉ. दिनेश शर्मा, प्रदेश के समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री, पर्यटन मंत्री नीलकंठ तिवारी, कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही, जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह, प्रदेश भाजपाध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह, सांसद लल्लू सिंह , महापौर रिषिकेश उपाध्याय, विधायक वेदप्रकाश गुप्त, रामचंद्र यादव, शोभा सिंह , इंद्रप्रताप तिवारी, गोरखनाथ बाबा आदि सहित बड़ी संख्या में संत मौजूद रहे.

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *