आगरा के बाद ‘लखनऊ’ के हनुमान मंदिर पर ‘दलितों’ का कब्ज़ा, कहा- अब दलितों का है मंदिर

Ulta Chasma Uc  :  भगवान के नाम पर लगी आग अब फैलती ही जा रही है. जिसका कारण हैं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, जिन्होंने राम भक्त हनुमान को एक दलित बता दिया था. योगी में एक चुनावी रैली में ये बयान दिया था. जिसके बाद से अब ये एक मुद्दा बन चुका है. और दलित समाज के लोग अब हर हनुमान मंदिर को अपना कह कर उसपर कब्ज़ा कर रहे हैं. शुरुआत आगरा से हो चुकी है. जहां प्रसिद्ध लंगड़े की चौकी हनुमान मंदिर पर दलित समाज ने कब्ज़ा कर वहां हनुमान चालीसा भी पढ़ी.

Dalits Possession Lucknow Hanuman Temple, After Agra
आगरा के मंदिर पर कब्ज़ा

पूजा-पाठ करने के बाद दलितों ने हनुमान की जाति बताने के लिए योगी आदित्यनाथ को धन्यवाद भी बोला. इसके बाद अब ये आग लखनऊ भी पहुँच चुकी है. लखनऊ के हज़रतगंज में स्थित हनुमान मंदिर पर भी दलितों ने अपना कब्ज़ा कर लिया है. यहाँ उन्होंने पुजा पाठ की. दलितों ने कहा हनुमान जी दलित हैं इसलिए अब हनुमान मंदिर दलितों का है.

अब अगर ऐसे ही चलता रहा तो आने वाले समय में ये एक बड़ा आंदोलन भी बन सकता है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अपना पद देखते हुए ऐसे बयानों से बचना चाहिए. ख़ास कर भगवान को लेकर क्युकि भगवान सबके लिए एक हैं चाहे वो किसी भी जाती धर्म का हो. आगामी चुनाव में बीजेपी को इससे नुक्सान भी हो सकता है.

-----
Dalits Possession Lucknow Hanuman Temple, After Agra
Dalits Possession Lucknow Hanuman Temple, After Agra

सूत्रों के मुताबिक मंदिरों पर कब्ज़ा करने दलितों के साथ कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता भी शामिल हो रहे हैं. इससे आशंका जताई जा रही है की योगी के इस बयान पर कांग्रेस यूपी में नई सियासत शुरू करने का प्लान बना रही है. इतना ही नहीं हर सियासी दल योगी के हनुमान वाले बयान की आलोचना कर रहा है. ख़ुद बीजेपी ने योगी से बयान से किनारा कर लिया है.

-----

राज्यपाल ने तो उन्हें अलट बिहारी वाजपेयी से सीख लेने की नसीहत तक दे दी थी. वहीँ बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय ने कहा योगी जी के बयान का गलत मतलब निकाला गया है. उनके कहने का कुछ और ही मतलब था. पूरा बात समझे बिना ही मामले को तूल दे दिया गया.

Web Title :  Dalits Possession Lucknow Hanuman Temple, After Agra

HINDI NEWS से जुड़े अपडेट और व्यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ FACEBOOK और TWITTER हैंडल के अलावा GOOGLE+ पर जुड़ें.