उत्तर प्रदेश में कांग्रेस (Congress) का माहौल बनने से समाजवादी पार्टी को होगा नुकसान..

लखीमपुर में बवाल के बाद कांग्रेस (Congress) काफ ऐक्टिव है..कई सालों से अपनी पार्टी में जान फूंकने में जुटी प्रियंका गांधी पहली बार कुछ असर छोड़ती दिख रही हैं..इसके अलावा कांग्रेस शासित राज्य पंजाब, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के नेता भी इस मुद्दे को लेकर सक्रिय हैं..पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी राहुल गांधी के साथ लखीमपुर गए थे..कांग्रेस पार्टी लखीमपुर वाले मुद्दे को लेकर पूरे देश में ही अपना माहौल बनाने की कोशिश कर रही है..कई सालों के बाद अब यूपी में कांग्रेस अब कुछ चर्चा में दिखाई दे रही है..कांग्रेस की सबसे ज्यादा विपक्षी पार्टी समाजवादी पार्टी से भी ज्यादा कांग्रेस पार्टी की चर्चा हो रही है..

यूपी में अगले साल यानी 2022 में चुनाव होने वाला है..और कुछ ही महीनों में प्रियंका गांधी और राहुल गांधी ने पार्टी में जोश भरने का काम किया है..लेकिन इसके बाद भी सवाल ये है कि कांग्रेस (Congress) ने जो माहौल बनाया है उसका कितना फायदा कांग्रेस को 2022 विधानसभा चुनाव में होगा..इतने काम के बाद अब कांग्रेस पार्टी को लग रहा है उनकी पार्टी को कुछ फायदा तो जरुर होगा..

बड़े राजनीति के जानाकार ये बता रहें हैं कि अगर उत्तर प्रदेश में कांग्रेस (Congress) उभरती है तो इसका भाजपा से ज्याद नुकसान समाजवादी पार्टी को होगा..क्योंकि कांग्रेस पार्टी जिन वोटों में मजबूत होगी वहां पर समाजवादी पार्टी का वोट कटेगा..और इस स्थिति में भाजपा को फायदा हो सकता है..जहां पर दोनों पार्टियां बहुत ही कम अंतर के बीच पिछड़ रही हो..समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के बीच वोटों के बटवारे से भाजपा को फायदा मिल सकता है..क्योंकि 2022 विधानसभा चुनाव में बीजेपी का सीधा मुकाबला समाजवादी पार्टी से ही होगा ये उम्मीद जताई जा रही है..

कांग्रेस का खुद का जीतना मुश्किल है..लेकिन समाजवादी पार्टी का काम बिगाड़ने के लिए ठीक

2017 वाला विधानसभा चुनाव राहुल गाधी और अखिलेश यादव ने मिलकर लड़ा था..इस गठबंधन में अखिलेश यादव ने 100 सीटों पर कांग्रेस को लड़ने का मौका दिया था..लेकिन वो 7 सीटों पर ही जीत हासिल कर पाई थी..इसी वजह से इस बार समाजवादी पार्टी ने अकेले ही लड़ने का फैसला कर लिया..लेकिन अगर इस बार कांग्रेस पार्टी (Congress) का फायदा होता है तो सबसे ज्यादा अखिलेश यादव की ही वोट कटेंगीं..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *