आजादी में BJP-संघ के घर से ‘एक कुत्ता’ भी कुर्बान नहीं हुआ: मल्लिकार्जुन खड़गे

कांग्रेस महासचिव मल्लिकार्जुन खड़गे गुरुवार को महाराष्ट्र के जलगांव जिले में अपनी पार्टी की जन संघर्ष यात्रा के दूसरे चरण की शुरूआत के लिए आयोजित एक रैली को संबोधित कर रहे थे. यहां मल्लिकार्जुन खड़गे ने संघ और बीजेपी पर निशाना साधते हुए विवादित बयान दिया है. खड़गे ने कहा कि देश को आज़ादी दिलाने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के घर के ‘एक कुत्ते’ ने भी अपना बलिदान नहीं दिया है.

इंदिरा और राजीव की तारीफ

मल्लिकार्जुन खड़गे ने आगे कहा, कांग्रेस के लोगों ने देश के लिए अपना जीवन बलिदान कर दिया. देश की एकता-अखंडता के लिए इंदिरा गांधी ने अपना बलिदान दे दिया. राजीव गांधी ने भी देश के लिए अपना जीवन कुर्बान कर दिया. क्या भाजपा और संघ (नेताओं) के घर का एक कुत्ता भी कुर्बान हुआ. मुझे बताइये उनका कौन है ऐसा जो जेल गया हो. ऐसा नहीं है की खड़गे ने पहली बार ऐसा बयान दिया है इससे पहले भी इस तरह की विवादित टिप्पणी कई बार कर चुके हैं.

पहले भी दे चुके हैं ऐसे बयान

फरवरी में भी मल्लिकार्जुन खड़गे ने लोकसभा में कहा था, ‘गांधीजी, इंदिराजी ने देश की एकता के लिए अपना जीवन कुर्बान कर दिया, आपकी ओर से किसने किया? एक कुत्‍ता भी नहीं. मल्लिकार्जुन खड़गे पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा था की एक ‘चायवाला’ देश का प्रधानमंत्री इसलिए बन सका, क्योंकि कांग्रेस ने लोकतंत्र कायम रखा.

नौ अक्‍टूबर से दूसरा फेज शुरू

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने हालही में मल्लिकार्जुन खड़गे को महाराष्ट्र कांग्रेस का महासचिव बनाया था. मल्लिकार्जुन खड़गे तीन महीने में 150 विधानसभा क्षेत्र में जाएंगे. पहला फेज पूरा हो चुका है जिसकी यात्रा आठ सितम्‍बर को समाप्‍त हो चुकी है. वहीं दूसरा फेज उत्‍तरी महाराष्ट्र में नौ अक्‍टूबर से शुरू होने वाला है.

प्रधानमंत्री कर चुके हैं पलटवार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मल्लिकार्जुन खड़गे के बयान पर पलटवार करते हुए कहा, ‘कांग्रेस ने भगत सिंह और चंद्रशेखर आजाद जैसे स्‍वतंत्रता सैनानियों के योगदान पर कभी कुछ नहीं कहा. उन्‍हें लगता है कि केवल एक परिवार ने हमें आजादी दिलाई.’ पीएम मोदी ने कहा था सिर्फ एक परिवार को फायदा देने के लिए इमरजेंसी देश पर थोपी गई. हमेशा सत्ता में बने रहने की भूख के कारण लोकतंत्र की हत्या की गई. देश के महान नेताओं को जेल की सलाखों के पीछे पहुंचा दिया गया.