असम की तरह उत्तर प्रदेश और हरियाणा में भी लागू होगा NRC, CM योगी ने दिए संकेत

असम के बाद अब हरियाणा और उत्तर प्रदेश में भी राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर यानी एनआरसी लागू हो सकता है. हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसके संकेत दिए हैं.

cm yogi said nrc implement in uttar pradesh
cm yogi said nrc implement in uttar pradesh

CM योगी आदित्यनाथ ने असम में NRC के फैसले को बेहद जरुरी और साहसिक कदम बताया है. उन्होंने कहा कि अगर जरुरत पड़ी तो हम उप्र में भी NRC लागू करेंगे. CM योगी ने अपने एक इंटरव्यू में इस बात के संकेत दिए हैं. उन्होंने ये भी कहा कि असम में जिस तरह से एनआरसी लागू किया गया वो हमारे लिए एक अच्छा उदाहरण बन सकता है. हम वहां के अनुभव को देखते हुए उप्र में भी इसे लागू कर सकते हैं. ये कदम राष्ट्र सुरक्षा के लिए बेहद जरुरी है. इससे गरीबों के अधिकारों को छीन रहे घुसपैठियों को रोकने में मदद मिलेगी.

वहीं हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर ने भी कहा कि परिवार पहचान पत्र पर हरियाणा सरकार तेजी से कार्य कर रही है. इसके आंकड़ों का उपयोग राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर में भी किया जाएगा. हरियाणा में सोशल ऑडिट सिस्टम भी लागू होगा. इसके तहत समाज के बुद्धिजीवी विकास कार्यों का ऑडिट कर सकेंगे. इसमें रिटायर्ड लोगों, अध्यापकों, इंजीनियरों और विशेषज्ञों को शामिल किया जाएगा.

इससे पहले दिल्ली में भी NRC की मांग भाजपा सांसद मनोज तिवारी ने उठाई थी. मनोज तिवारी ने वाराणसी में कहा था कि, इस देश के संसाधनों पर यहां के लोगों का हक है. जो घुसपैठिए हैं, उन्हें हम ट्रेन में बिठाकर उनके देश भेजेंगे. असम में एनआरसी की अंतिम सूची 31 अगस्त को जारी कर दी गई थी. सूची में 19 लाख 6 हजार 657 लोग बाहर थे. इसमें वे लोग भी शामिल हैं, जिन्होंने कोई दावा पेश नहीं किया था.

1,132 total views, 1 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *