UP में पढ़े रहे कश्मीरी छात्रों से CM योगी ने की मुलाकात, सुरक्षा और सुविधा देने का किया वादा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज शनिवार को अपने सरकारी आवास पर अलीगढ़, गाजियाबाद और नोएडा से आए कश्मीरी छात्रों से मुलाकात की और उनकी मांगें सुनी.

cm yogi interacting with students from jammu kashmir
cm yogi interacting with students from jammu kashmir

सीएम योगी ने प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के साथ अलीगढ़ से आए कश्मीरी छात्रों का स्वागत किया. उन सभी से अनुच्छेद 370 हटाने पर राय जानी और उनको उत्तर प्रदेश में सुरक्षा और सुविधा देने का वादा किया है. सीएम योगी ने कहा कि विकास से ही जीवन में समृद्धि और खुशहाली आती है. जम्मू कश्मीर अब विकास के रास्ते पर आगे बढ़ेगा. हो सकता है कि आने वाले समय में आप उप्र के प्रशासिनक अंग का हिस्सा बनें. हम एक लोकतांत्रिक समाज में रहते हैं जहां सूचनाओं का आदान प्रदान जरूरी होता है. हमारे जीवन में समृद्धि तभी आएगी जब हम विकास को प्राथमिकता देंगे.

सीएम ने आश्वासन दिया कि मेरे साथ जो भी बात आप करेंगे, वह गोपनीय रहेगी. संवाद के द्वारा हम अच्छा माहौल बना सकते है. आज आप पढ़ाई कर रहे हैं, कल आप प्रशासनिक नौकरी के लिए भी आ सकते हैं. इसलिए जरूरी है कि उत्तर प्रदेश को आप जानें. लोकतांत्रिक माहौल में संवाद सबसे अधिक जरूरी है. लोकतंत्र का मतलब सबका विकास है.

सीएम योगी ने कहा कि आज हो रहे संवाद में जो बात निकलेगी, उसको हम जम्मू कश्मीर के शासन से बात कर समस्याओं का समाधान निकाल सकते हैं. जरूरी है कि उत्तर प्रदेश को आप जानें, लोकतंत्र का मतलब सबका विकास है. राज्य स्तर की जो समस्या होगी उसे हम सुलझाने का प्रयास करेंगे. साथ ही अन्य स्तर पर भी प्रयास किए जाएंगे. प्रदेश के अलग-अलग स्थानों पर बच्चे हैं. उनके साथ समय-समय पर मैं संवाद करूंगा. सभी लोग अपनी बात रखने में कोई संकोच न करें.

दरसअल, केंद्र सरकार अब जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाये जाने के बाद वहां बेहतर माहौल बनाने में सरकार जुटी है. प्रधानमंत्री नरेेंद्र मोदी ने सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास का संकल्प जारी किया है. इसी को लेकर योगी सरकार ने कश्मीरी छात्रों से संवाद करने का प्लान तैयार किया था. बतादें कि जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद से एएमयू में पढ़ रहे कश्मीरी छात्रों के तेवर तल्ख हैं. राज्यपाल की बकरीद की दावत ठुकराकर एवं केंद्र सरकार के प्रतिनिधि से मिलने से इंकार कर वे अपने तेवर दिखा चुके हैं. तीन बार आंदोलन भी कर चुके हैं.

187 total views, 1 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *