UP के 16 जिले 25 मार्च तक लाॅकडाउन, लगीं ये पाबंदियां, सरकारी बसें और मेट्रो बंद, मिलेंगी ये सुविधाएँ

जनता कर्फ्यू पर लोगों ने मिलकर कोरोना वायरस की जंग लड़ी. 5 बजे जनता ने तालियों और घंटियां बजा कर मीडिया, डॉक्टरों का आभार जताया. जिसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के 16 जिलों में लाॅकडाउन करने की घोषणा कर दी है.

cm yogi adityanath announcement 16 district lockdown
cm yogi adityanath announcement 16 district lockdown

कोरोना वायरस की चुनौतियों से निपटने के लिए सीएम योगी ने लखनऊ समेत अलीगढ़, गौतमबुद्ध नगर (नोएडा), कानपुर, वाराणसी, मेरठ, आजमगढ़, गाजियाबाद, गोरखपुर, लखीमपुर खीरी, आगरा, प्रयागराज, सहारनपुर, बरेली, मुरादाबाद और पीलीभीत जिले 25 मार्च, 2020 तक के लिए लाॅकडाउन कर दिया है. इन जिलों में सोमवार सुबह छह बजे से लाॅकडाउन की घोषणा की गई है.

ये लॉक डाउन पहले चरण का है जो कि 23 से 25 मार्च तक रहेगा. इन जिलों की समीक्षा की जाएगी और जरूरत पड़ने पर लॉकडाउन आगे बढ़ाया जाएगा. दूसरे चरण में कुछ और जिलों में भी लॉक डाउन किया जा सकता है. मुख्यमंत्री ने कहा जिन जिलों में लॉक डाउन हुआ है, वहां किसी तरह की गतिविधि नहीं हो सकेगी. पुलिस, प्रशासनिक अफसर लगातार पेट्रोलिंग करेंगे. वैश्विक महामारी का खतरा अभी टला नहीं है.

उन्होंने कहा जरा सी लापरवाही खतरनाक हो सकती है. यूपी में स्थिति नियंत्रण में है. जागरूकता के अभियान भी चलाए जा रहे हैं. इस दौरान आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सरकारी कार्यालय, शैक्षणिक संस्थान, अर्द्ध सरकारी उपक्रम, स्वायत्तशासी संस्थाएं, राजकीय निगम, व्यापारिक प्रतिष्ठान, निजी कार्यालय, मॉल्स, दुकानें, रेस्टोरेंट, फैक्ट्रियां, गोदाम, वर्कशॉप, सभी बसें, प्रइवेट टैक्सी और आटो रिक्शा पूरी तरह से बंद रहेंगे.

जनता की सहायता के लिए पूरे प्रदेश में उप्र पुलिस की पीआरवी 112 के लगभग 3000 फोर-व्हीलर, 1500 टू-व्हीलर सुरक्षा के साथ-साथ आवश्यक सामग्री पहुंचाने में भी मदद करेंगे. स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए हमारी 108 की 2200 एम्ब्यूलेंसे हैं. 102 की 2270 एम्ब्यूलेंसे हैं. एडवांस लाइफ सपोर्ट एम्ब्यूलेंसे 250 हैं. ये भी पूरे प्रदेश में जनता को इमरजेंसी स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए तैनात रहेंगी.

सभी चिकित्सा संस्थानों में एवं अस्पतालों में ओपीडी बंद कर दी गई हैं. सोमवार से सभी अस्पतालों में सिर्फ इमरजेंसी में ही मरीजों का इलाज किया जाएगा. इसके लिए इमरजेंसी की व्यवस्थाएं बढ़ा दी गई हैं. केजीएमयू, पीजीआई, लोहिया संस्थान, लोकबंधु, सिविल, बलरामपुर अस्पताल सहित अन्य अस्पतालों में इमरजेंसी सेवाएं 24 घंटे चलती रहेंगी. इमरजेंसी में आने वाले मरीजों को तत्काल भर्ती कर लिया जाएगा.

बतादें कि उत्तर प्रदेश में रविवार को कोरोना वायरस से संक्रमित दो नए मरीज पाए गए हैं. ये दोनों मरीज नोएडा के हैं. यूपी में अब कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 29 हो गई हैं. इनमें से 11 ठीक हो चुके हैं.

लॉकडाउन क्या होता है, ये कब किया जाता है क्या आप जानते हैं ? तो आइये हम आपको बताते हैं. दरअसल लॉकडाउन किसी तरह के खतरे से इंसान और किसी इलाके को बचाने के लिए किया जाता है. लॉकडाउन एक इमर्जेंसी की तरह होती है. किसी क्षेत्र में लॉकडाउन हो जाता है तो उस क्षेत्र के लोगों को घरों से निकलने की अनुमति नहीं होती है. वे सिर्फ आवश्यक चीजों के लिए ही बाहर निकल सकते है. अगर किसी को दवा या अनाज की जरूरत है तो बाहर जा सकता है या फिर अस्पताल और बैंक के काम के लिए अनुमति मिल सकती है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *