आज आपके पास आखिरी दिन, 1 अप्रैल से बदल जाएगी आपकी जिंदगी, पढ़ें नए नियम-

आज 31 मार्च वित्तीय वर्ष 2018-2019 का आखिरी दिन है. इसके साथ ही कुछ ऐसे काम भी हैं जो आपको आज ही पूरे करने हैं. और आज के बाद यानि कल 1 अप्रैल से आपके लिए कुछ चीजें सस्ती और कुछ चीजें महंगी हो सकती हैं.

change will be your life from april 1

-----

इसलिए सरकार ने सभी कार्यालय दोनों दिन खुले रखे हैं. कल शनिवार को छुट्टी थी मगर सभी सरकार कामकाज हो रहे थे. उसी तरह आज भी रविवार है और आज भी सभी कार्य हो रहे हैं. आज ही आपके पास मौका है.

पैन कार्ड- पैन कार्ड को आधार से लिंक कराने की आखिरी तारीख 31 मार्च है. अगर अपने ऐसा नहीं किया तो एक अप्रैल से पैन कार्ड रद्द हो जाएगा और आप आईटीआर भी दाखिल नहीं कर सकेंगे.

बैंक विलय- एक अप्रैल से देना बैंक और विजया बैंक का बैंक ऑफ बड़ौदा में आधिकारिक रूप से विलय हो जाएगा. इन बैंकों के ग्राहक अब बैंक ऑफ बड़ौदा के ग्राहक कहलाएंगे और बीएओ इन लाखों ग्राहकों को नई चेकबुक व कार्ड जारी करने की प्रक्रिया शुरू करेगा.

प्रीपेड मीटर- पूरे देश में बिजली उपभोक्ताओं को बिजली के प्रीपेड मीटर लेने का विकल्प खुल जायेगा. इससे ग्राहक को जितनी भी बिजली खर्च करनी हो, उसका पहले से भुगतान कर सकेंगे. ख़ास बात ये है कि इन मीटरों को ऑनलाइन भी आप रीचार्ज कर सकते हैं.

हवाई यात्रा आसान- दिल्ली में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के टर्मिनल द्वितीय पर घरेलू यात्रियों को बिना चेक-इन क्षेत्र में गए, बोर्डिंग क्षेत्र में जाने की अनुमति मिलेगी. यहां उनकी जांच होगी. इससे चेकिंग के दौरान भीड़ और लाइनों से बचा जा सकेगा.

घर होगा सस्ता- एक अप्रैल से घर खरीदना सस्ता हो जाएगा. ऐसा इसलिए क्योंकि रियल एस्टेट सेक्टर के लिए नई दरें 1 अप्रैल से लागू होंगी.

वाहन महंगा- 1 अप्रैल से वाहन खरीदना महंगा हो जाएगा. कुछ कंपनियों ने अप्रैल से कार की कीमतों में बढ़ोतरी का ऐलान किया है. वहीं वाहनों में इस्तेमाल होने वाली CNG महंगी होने की आशंका है.

PF ट्रांसफर- 1 अप्रैल से कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) बड़ा बदलाव लागू कर सकता है. नए नियम के तहत अब नौकरी बदलने पर आपका पीएफ अपने आप ट्रांसफर हो जाएगा.

टीवी चैनल पैक- ट्राई के नियमों के अनुसार 31 मार्च तक टीवी चैनल पैक का चुनाव करने का आखिरी मौका है. अगर अपने देरी कर दी तो एक अप्रैल से डीटीएच व केवल सेवाएं प्रभावित होंगी. लोगों को इसके लिए परेशानी भी होगी और ज्यादा शुल्क भी चुकाना पड़ सकता है.