CRPF जवानों पर सबसे बड़ा आतंकी हमला, अबतक 45 जवान शहीद, देखें नामों की लिस्ट-

आज जम्मु कश्मीर में उरी से भी बड़ा फिदायीनी हमला हो गया. जिसमें अबतक सीआरपीएफ के 45 जवान शहीद हो चुके हैं. और 20 जवान घायल बताये जा रहे हैं. ये आतंकी हमला जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे पर दोपहर बाद 3:15 बजे हुआ है.

central reserve police force jawans killed in blast jammu and kashmir pulvama
central reserve police force jawans killed in blast jammu and kashmir pulvama

आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने इस बड़े हमले की जिम्मेदारी ली है. और साथ ही उसने भारतीय जवानों के काफिले पर फिदायीन हमला करने वाले आतंकी आदिल ऊफ वकास का वीडिया जारी किया है. वीडियो में वह ग्रेनेड और राइफलें लेकर हरे झंडे के आगे खड़ा है.

-----

आतंकी आदिल वीडियो में कह रहा है कि जब तक ये वीडियो आप लोगों तक पहुंचेगा उस समय मैं जन्नत में मजे लूट रहा होऊंगा. उसने कहा कि मैंने जैश-ए-मोहम्मद में आतंकी के रूप में एक साल बिताया है. ये मेरा कश्मीर के लोगों के लिए आखिरी मैसेज है.

आदिल हुसैन के वीडियो के बाद पता चला कि आतंकी आदिल 19 मार्च 2016 को पुलवामा के गुंडीबाग से गायब हो गया था. उसके साथ उसके दो दोस्त तौसीफ और वसीम भी गायब हो गए थे. तौसीफ का बड़ा भाई मंजूर अहमद डार भी आतंकी था जो 2016 में मारा गया था. आतंकी आदिल एक स्थानीय मस्जिद में अजान भी दिया करता था.

सीआरपीएफ का 78 वाहनों का काफिला 2500 जवानों को लेकर जम्मू से श्रीनगर आ रहा था. इनमें ज्यादातर अपनी छुट्टी बिताकर ड्यूटी ज्वाइन करने जा रहे थे. मगर किसी को क्या पता था कि आज वे देश के लिए शहीद हो जायेंगे. जैसे ही ये काफिला दक्षिण कश्मीर में जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर गोरीपोरा (अवंतीपोर) के पास पहुंचा तो अचानक एक कार तेजी से काफिले में घुसी.

इस कार में आतंकी आदिल हुसैन बैठा था. उसने आत्मघाती कार ले जाकर सीआरपीएफ जवानों की एक बस के साथ टक्कर मार दी. इसके बाद वहां जोरदार धमाका हुआ और कार के साथ सीआरपीएफ जवानों से भरी एक बस के परखच्चे उड़ गये. पूरी सड़क पर लाशों का ढेर लग गया. साथ ही सड़क पर लोगों के रोने चिल्लाने की आवाजें आने लगी.

इस बड़े धमाके के बाद काफिले में शामिल अन्य वाहन तुरंत अपनी जगह रुक गए और साथियों को बचाने के लिए कुछ जवान जब बाहर निकले तो वहीं एक जगह छिपे बैठे आतंकियों ने उन जवानों पर फायरिंग शुरू कर दी. जिसका जवानों ने तुंरत मुंहतोड़ जवाब दिया. जवाबी फायर पर आतंकी वहां से भाग निकले.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद इस हमले को गंभीरता से लिया है. पीएम मोदी ने कहा है की जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जायेगा. प्रधानमंत्री खुद हर स्तर पर जानकारी ले रहे हैं और सुरक्षा मामलों की कैबिनेट बैठक में अहम निर्णय लिए जाने के आसार हैं. इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह समेत अन्य सदस्य इसमें शामिल होंगे. यह बैठक संभवत: सुबह 9.15 बजे होगी। वहीं, एनआईए की एक टीम शुक्रवार को सुबह घटनास्थल पर जाकर जांच शुरू करेगी.

देश के लिए शहीद 42 जवानों की लिस्ट-

  1.  जयमाल सिंह- 76 बटालियन
  2.  नसीर अहमद- 76 बटालियन
  3. सुखविंदर सिंह- 76 बटालियन
  4. रोहिताश लांबा- 76 बटालियन
  5. तिकल राज- 76 बटालियन
  6. भागीरथ सिंह- 45 बटालियन
  7. बीरेंद्र सिंह- 45 बटालियन
  8. अवधेष कुमार यादव- 45 बटालियन
  9. नितिन सिंह राठौर- 3 बटालियन
  10. रतन कुमार ठाकुर- 45 बटालियन
  11. सुरेंद्र यादव- 45 बटालियन
  12. संजय कुमार सिंह- 176 बटालियन
  13. रामवकील- 176 बटालियन
  14. धरमचंद्रा- 176 बटालियन
  15. बेलकर ठाका- 176 बटालियन
  16. श्याम बाबू- 115 बटालियन
  17. अजीत कुमार आजाद- 115 बटालियन
  18. प्रदीप सिंह- 115 बटालियन
  19. संजय राजपूत- 115 बटालियन
  20. कौशल कुमार रावत- 115 बटालियन
  21. जीत राम- 92 बटालियन
  22. अमित कुमार- 92 बटालियन
  23. विजय कुमार मौर्या- 92 बटालियन
  24. कुलविंदर सिंह- 92 बटालियन
  25. विजय सोरंग- 82 बटालियन
  26. वसंत कुमार वीवी- 82 बटालियन
  27. गुरु एच- 82 बटालियन
  28. सुभम अनिरंग जी- 82 बटालियन
  29. अमर कुमार- 75 बटालियन
  30. अजय कुमार- 75 बटालियन
  31. मनिंदर सिंह- 75 बटालियन
  32. रमेश यादव- 61 बटालियन
  33. परशाना कुमार साहू- 61 बटालियन
  34. हेम राज मीना- 61 बटालियन
  35. बबला शंत्रा- 35 बटालियन
  36. अश्वनी कुमार कोची- 35 बटालियन
  37. प्रदीप कुमार- 21 बटालियन
  38. सुधीर कुमार बंशल- 21 बटालियन
  39. रविंदर सिंह- 98 बटालियन
  40. एम बाशुमातारे- 98 बटालियन
  41. महेश कुमार- 118 बटालियन
  42. एलएल गुलजार- 118 बटालियन