-----

Profile Wikipedia

देखिए जो मूर्ख ये कहते हैं कि मैं सरकार के खिलाफ हूं..वो सच में मूर्ख हैं..योगी आदित्यनाथ जी जितने सबके मुख्यमंत्री हैं उतने मेरे भी हैं..और हां 5 कालिदास मार्ग पर मुझे तुमसे ज्यादा ही उंची कुर्सी मिलेगी..देखिए हर मुख्यमंत्री चाहता है कि उसके शासन काल की लोग तारीफ करें..लेकिन अगल बगल के लोग अपनी उंची करने में लगे रहते हैं..

 

समाज में भौकाल झड़ते हैं कि मुख्यमंत्री बिना उनकी सलाह के कुछ नहीं कर सकते..मुख्यमंत्री को उठना बैठना चलना बोलना वो बताते हैं..मुख्यमंत्री को वही पता चलता है जो वो अपने श्री मुख से बताते हैं..खैर भाईयों आज बात करूंगी उस कल्चर पर जो मुख्यमंत्री की आंखों पर पट्टी बांध देता है..जो मुख्यमंत्री पर अद्रश्य सेंसरशिप लगा देता है..

कुछ सवाल हैं उसके जवाब सोचिएगा..क्यों मुख्यमंत्री को वही चैनल दिखाये जाते हैं जहां चाटुकारीय भजन बजते रहते हैं..क्यों अखबार के वही वही पन्ने खोलकर सामने रखे जाते हैं..जहां पर सरकारी वाहवाही छपी होती है..हर बात को मुख्यमंत्री के सामने ऐसे पेश करना कि ये विपक्ष की साजिश है ये कल्चर बहुत खतरनाक है..अरे भाई आपका उत्तर प्रदेश है..

 

हर अप्रिय घटना विपक्ष की साजिश नहीं हो सकती..घटनाओं में अगर विपक्ष पीड़ित की तरफ होता है तो आप दीन दुखियों का साथ नहीं छोड़ सकते..दुखी इंसान के कंधे पर विपत्ति में जो भी हाथ रखता है दुखियारा इंसान उसे ही अपना दोस्त समझने लगता है..तो आपको ये सोचना चाहिए कि यूपी के दुखियारों तक पहुंचने में आप फिसड्डी क्यों रहते हैं..

 

मुख्यमंत्री के अगल बगल वाले लोग मुख्यमंत्री के आंख नाक कान होते हैं ना..होते हैं ना..लेकिन ट्वीटर पर या फेसबुक पर..जहां भी कोई सरकार की बुराई करता है..बुरे पहलू को सामने रखता है..तो आप उसको ब्ल़क कर देते हैं..सपाई घोषित कर देते हैं बसपाई या कांग्रेसी घोषित कर देते हैं..या फिर ब्लॉक कर देते हैं..ब्लॉक करने से काम नहीं चलेगा..

कोई शिकायत कर रहा है तो समस्या सुनिए..उसकी बात सुनिए..जायज है तो उसक समाधान करिए..वो अपके ही उत्तर प्रदेश का नागरिक है..आप लोग टेलॉकॉम कंपनियों से सीखिए जहां शिकायती कस्टमर की शिकायत दूर की जाती है..उसका कॉल नहीं ब्लॉक किया जाता..सरकार की बदनामी इसीलिए होती है क्योंकि शिकायक करने वाले को तो आप या तो भगा देते हो या फिर ब्लॉक कर देते हैं..

 

अब शिकायत करने वाले के पास दो चारे बचते हैं..या तो सिम वाली कंपनी बदल दे या फिर कहीं बैठकर या सोशल मीडिया पर आपकी बुराई करके अपनी भड़ास निकाले..आप अपनी रियाया को कस्टमर समझिए उसकी शिकायतों का निवारण करो..ब्लॉक करोगे तो वो अपनी भड़ास कहीं और निकालेगा..या फिर सेवा प्रदाता कंपनी को चेंज कर देगा..आप महान तभी बनेंगे..जब सबको एक सूत्र में गुनेंगे..सबकी सुनेंगे..