सारे नाई, बार्बर, पार्लर और सैलून खबरदार बड़ी घटना कर रही है इंतजार- व्यंग्य

लॉकडाउन के बाद नाई की दुकानों पर लगेगी भारी भीड़..इसे व्यंग्य में बांधा गया है..

कोरोना के खौफ से लोगों के रौंगटे खड़े हैं.स्कूल कॉलेज दुकान धंधा सब बंद हैं. कोरोना लोगों का बाल भी बांका ना कर पाए इसलिए लोग घरों में दुबके हुए हैं. लेकिन घरों में लोग अपने बाल बांका कराने के लिए तड़फड़ा रहे हैं. लॉकडाउन के बाद इंसान के बाल ही उसको टोले वाले नाई की दुकान तक ले जाएंगे.

जब से कोरोना फैला है. भारत वर्ष की सभी गलियों की बार्बर शॉप या सैलून या नाई की दुकान बंद हैं. तब से मुहल्ले के समाचारों पर ब्रेक लग गया है. देश दुनिया का हाल सब पता है. ट्रंप से लेकर पुतिन और शी जिनपिंग तक की जानकारी आ रही है लेकिन गुप्ता जी बिटिया का शर्मा जी के लौंड से चल रहा नैन मकक्का कहां तक पहुंचा इन सूचनाओं पर ब्रेक लग गया है. वर्मा जी का लौंड भाग गया था उसका भी कोई अपडेट नहीं आया. मिश्राइन की बहुरिया माईके से क्या क्या लाई थी. वो खबर भी रूकी हुई है.

गली का नाई घर में है. हो सकता है उसके बुलेटिन में मोहल्ला समाचार हों लेकिन उसके प्रसारण पर अभी रोक है. लॉकडाउन के खत्म होने के बाद संवाददाता, बिल्लू बार्बर के गली टोला समाचार फिर से प्रसारित होने लगेंगे. मोहल्ले की हर खबर का फ्री सूचना केंद्र फिर से शुरू हो जाएगा.

pic from- needpix
pic from- needpix

कोई दाढ़ी बनवाने के लिए मचल रहा है कोई बाल कटवाने के लिए. किसी को मूछें सेट करानी हैं. किसी को डाई लगवानी. किसी के फेशियल कराने का समय हो गया है. 21 दिन में तो बड़े से बड़ा वेल सूटेड बिजनेज टाईकून भी दाढ़ी की दुकान बनकर बाहर आएगा. तब मार्केट में एक ही दुकान होगी जहां सबसे ज्यादा भीड़ लगने वाली है.

जैसे ही लॉकडाउन खत्म होगा वैसे ही नाई के दर पर सबके सिर झुके होंगे. यहां कालाबाजारी की सभी संभावनाएं नगण्य होती हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *