अमेरिका भारत को देगा 24 ‘रोमियो हेलिकॉप्टर’, चीन-पाक के उड़े होश, जानें इसकी ख़ासियत-

सुरक्षा से जुड़ी भारत के लिए एक अच्छी ख़बर सामने आ रही है. अमेरिका ने भारत को 24 एमएच-60आर रोमियो सीहॉक हेलिकॉप्टरों को बेचे जाने को मंजूरी दे दी है. भारत को पिछले एक दशक से ज्यादा समय से इन हंटर हेलीकॉप्टरों की जरूरत थी.

america approves sale 24 mh-60 romeo seahawk helicopters to india
mh-60 romeo seahawk helicopters

अमेरिका ने 2.4 अरब डॉलर की अनुमानित कीमत पर भारत को 24 बहुउपयोगी एमएच-60 ‘रोमियो’ सी हॉक हेलीकॉप्टर की बिक्री को मंजूरी दी है. दरअसल भारतीय नौसेना के लिए 24 हेलिकॉप्टर की तुरंत आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए भारत ने अमेरिका को खत भी लिखा था. भारतीय नौसेना में ‘रोमियो’ के शामिल होने की खबर से चीन की चिंताएं बढ़ गई हैं.

-----

बतादें अमेरिका का मल्टी-रोल एमएच-60 ‘रोमियो’ सीहॉक एक हेलीकॉप्‍टर है. अब ये हेलीकॉप्‍टर भारतीय नौसेना के बेड़े में भी दिखेगा. इसकी आधिकारिक जानकारी अमेरिकी विदेश विभाग ने दी है. इससे भारतीय रक्षा बलों की सतह रोधी और पनड़ुब्‍बी रोधी मिशन में अभूतपूर्व क्षमता की वृद्धि होगी. रक्षा उद्योग से जुड़े सूत्रों के अनुसार इस सौदे की कीमत 200 करोड़ डॉलर यानी करीब 14,400 करोड़ रुपये हो सकती है.

america approves sale 24 mh-60 romeo seahawk helicopters to india
mh-60 romeo seahawk helicopters

ये रोमियो हेलिकॉप्टर दुश्मन की पनडुब्बियों को नष्ट करने के अलावा जहाजों को खदेड़ने और समुद्र में सर्च-बचाव अभियान में कारगर साबित होंगे. इन हेलिकॉप्टरों को लॉकहीड-मार्टिन कंपनी ने बनाया है. ट्रम्प प्रशासन ने भारत को 24 हेलिकॉप्टर बेचे जाने का नोटिफिकेशन जारी किया है. भारत, अमेरिका का बड़ा डिफेंस पार्टनर है. इस डील से इंडो-पैसिफिक और दक्षिण एशिया में स्थायित्व-शांति बनाए रखने में भी मदद मिलेगी.

  1. हेलिकॉप्टर पनडुब्बियों और पोतों पर अचूक निशाना साधने में सक्षम हैं.
  2. ये हेलीकॉप्टर समुद्र में तलाश एवं बचाव कार्यों में भी उपयोगी हैं.
  3. ये दुश्मन की नावों को ट्रैक करने और लड़ाकू प्रणालियों- सेंसर, मिसाइल और टॉरपीडो से लैस हैं.
  4. ये हेलिकॉप्टर अमेरिकी नौसेना में एंटी-सबमरीन और एंटी-सरफेस वेपन के रूप में तैनात हैं.
  5. सीहॉक हेलिकॉप्टर एंटी-सबमरीन के अलावा निगरानी, सूचना, युद्धक सर्च और बचाव, गनफायर और लॉजिस्टिक सपोर्ट में कारगर हैं.
  6. इसे जंगी जहाज, क्रूजर्स और एयरक्राफ्ट करियर से ऑपरेट किया जा सकता है.