माया के लिए अखिलेश ने तोड़ा कांग्रेस से गठबंधन, बुआ नहीं तो गठबंधन नहीं

Ulta Chasma Uc  :   समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव मध्यप्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों में लगे हुए हैं. अखिलेश ने वहां अपनी पार्टी का घोषणापत्र भी जारी कर दिया है. उसके बाद मध्यप्रदेश में गठबंधन न होने पर अखिलेश ने कांग्रेस को ज़िम्मेदार ठहराते हुए तंज कसा. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने उन्हें कुछ सीट देने की पेशकश की थी, लेकिन बीएसपी इस गठबंधन से पीछे हट गई इसी वजह से उन्होंने भी कांग्रेस का प्रस्ताव अस्वीकार कर दिया.

Akhilesh Yadav Did Not Want Alliance With Congress
अखिलेश यादव, राहुल गाँधी, मायावती
कांग्रेस को बड़ी पार्टी होने का घमंड

अखिलेश ने कहा कि कांग्रेस को बड़ी पार्टी होने का घमंड है. कांग्रेस नेताओं को लगता है कि उनकी पार्टी बड़ी है, हम कुछ भी नहीं. चलो कम से कम अलग पार्टी बनाने का मौका तो मिला. देश में तीसरे मोर्चे की जरूरत है. हमने स्पष्ट कर दिया था कि यदि राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य को देखते हुए वह बसपा को साथ लेकर नहीं चलते तो इसका मतलब यही है कि वह गठबंधन में रुचि ही नहीं रखते हैं.

कांग्रेस की स्थिति बहुत कमजोर
-----

अखिलेश ने कहा, ‘यह अच्छा हुआ कि उन्होंने हमें या बसपा को नहीं चुना, अब हमारे पास उनकी गलितयां सामने लाने का मौका है. मायावती ने भी कांग्रेस पर तंज कस्ते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस की स्थिति बहुत कमजोर है, इसलिए उसने बसपा से गठबंधन का प्रस्ताव रखा था. गठबंधन की आड़ में कांग्रेस सोची समझी रणनीति व षडयंत्र कर रही थी. जिसकी वजह से कांग्रेस ने हमें बहुत ही कम सीटें दीं. ताकि बसपा को आसानी से खत्म किया जा सके. कांग्रेस हम लोगों से घबराई हुई थी. अब कोई साथ नहीं है इसलिए खिसियाई बिल्ली की तरह खंभे नोच रही है.

सपा ने राजस्थान के विधानसभा चुनाव में पांच प्रत्याशियों को मैदान में उतार दिया है. जिसमें तिजारा से फजल हुसैन, बानसुर से मुकेश यादव, अलवर ग्रामीण से श्यामलाल, राजगढ़-लक्ष्मणगढ़ से सूरजभान धानका और नगर से नेम सिंह फौजदार को टिकट दिया है.

Web Title :  Akhilesh Yadav Did Not Want Alliance With Congress

HINDI NEWS से जुड़े अपडेट और व्यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ FACEBOOK और TWITTER हैंडल के अलावा GOOGLE+ पर जुड़ें.