समर्थन देने के बाद भी कांग्रेस के ‘जश्न’ में नहीं पहुंचे ‘अखिलेश-माया’, विपक्षी एकता को झटका ?

Ulta Chasma Uc  :  आज कांग्रेस पार्टी ने अपने जीते हुए तीन राज्यों राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्रियों के लिए शपथ ग्रहण समारोह रखा है. शपथ ग्रहण समारोह में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह समेत कई कांग्रेस के बड़े नेता नजर आए. यहाँ विपक्ष के भी कई दिग्गज नेता नजर आए. लेकिन यूपी की दो बड़ी राजनीतिक पार्टी सपा और बीएसपी ने कांग्रेस के इस जश्न से किनारा कर लिया.

akhilesh yadav and mayawati will not participate in congress oath ceremony
akhilesh yadav and mayawati will not participate in congress oath ceremony

शपथ ग्रहण समारोह में कई पार्टियों के नेता शामिल हुए लेकिन बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव शामिल नहीं हुए. दोनों ने अभी तक इसका कोई वाजिब कारण भी नहीं बताया है. वहीँ तृणमूल कांग्रेस प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी शपथ ग्रहण समारोह में नहीं आएँगी. ममता बनर्जी ने कहा है कि वह पारिवारिक मजबूरियों के चलते शामिल नहीं हो पाएंगी, लेकिन उनकी तरफ से उनके प्रतिनिधि वहां मौजूद होंगे.

25 पार्टियों को न्योता भेजा

शपथ ग्रहण कार्यक्रम के लिए कांग्रेस ने 25 पार्टियों को न्योता भेजा है. जिसके जरिए कांग्रेस बीजेपी को ‘विपक्षी एकता’ का बल दिखाने की कोशिश करेगी. मगर ऐसे मौके पर अखिलेश-माया का दूरी बनाना ये संकेत दे रहा है कि 2019 लोकसभा चुनाव में महागठबंधन में दरार आ सकती है. बता दें कि कांग्रेस अपना पहला शपथ ग्रहण समारोह जयपुर में करेगी, उसके बाद भोपाल और फिर रायपुर में कार्यक्रम होगा. अशोक गहलोत ने राजस्थान के मुख्यमंत्री पद और सचिन पायलट ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ले ली है.

-----
कांग्रेस को दिया था समर्थन

अभी हालही में 5 राज्यों में हुए चुनाव में कांग्रेस ने एक बड़ी जीत दर्ज की है. जिसके बाद पहले मायावती और फिर अखिलेश दोनों ने कांग्रेस को समर्थन देने का ऐलान किया था. अब कांग्रेस के बुलावे पर उनका न जाना इसके कई राजनीतिक मायने निकल रहे हैं. हालाँकि इससे पहले दोनों के कार्यक्रम में शामिल होने की उम्मीद जताई जा रही थी.

-----
नहीं पसंद हैं राहुल गाँधी

तीन राज्‍यों में विधानसभा चुनाव जीतने के बाद कांग्रेस को बल तो जरूर मिला है. इसी को देखते हुए कुछ नेता राहुल गांधी के नेतृत्‍व के भरोसे 2019 लोकसभा चुनाव लड़ने की सलाह भी दी है. लेकिन ज्‍यादातर विपक्षी नेताओं को राहुल गांधी स्‍वीकार नहीं हैं. अखिलेश यादव और मायावती का न आना ये भी एक कारण हो सकता है.

web title- akhilesh yadav and mayawati will not participate in congress oath ceremony

HINDI NEWS से जुड़े अपडेट और व्यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ FACEBOOK और TWITTER हैंडल के अलावा GOOGLE+ पर जुड़ें.