राजस्थान में अखिलेश ने तोड़ा राहुल से गठबंधन, सिर्फ तीन सीट दे रही थी कांग्रेस

Ulta Chasma Uc  :   उत्तर प्रदेश की राजनीति दिन पर दिन एक नया मोड़ ले रही है, आगामी चुनावों को देखते हुए रोज़ कोई का कोई बड़ा फैसला या बयान सामने आ रहा है. तो वहीं कांग्रेस भी अकेली पड़ती साफ नज़र आ रही है. प्रदेश की राजनीति में अहम भूमिका निभाने वाले सपा व बसपा की कांग्रेस के साथ तल्खी बढ़ती जा रही है. अभी हालही में छत्तीसगढ़ में एक चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए अखिलेश यादव ने कांग्रेस पर भी तंज कसा था.

जिसमें अखिलेश ने कहा की अगर ‘साइकल (एसपी चुनाव चिन्ह) को रोकोगे तो आपका हाथ (कांग्रेस का चुनाव चिन्ह) हैंडल से हटा दिया जाएगा. अखिलेश के इस बयान से ये साफ़ अनुमान लगाया जा सकता है की 2019 में सपा और कांग्रेस के गठबंधन में काफी कठिनाइयां आ सकती हैं.

Akhilesh breaks alliance with Rahul in Rajasthan
Akhilesh breaks alliance with Rahul in Rajasthan

इसी के चलते राजस्थान में भी अखिलेश की सख़्ती देखने को मिली. यहाँ भी सीटों को लेकर माहौल गरमा गया. कांग्रेस ने राजस्थान में अन्य विपक्षी दलों के लिए सिर्फ पांच सीट ही छोड़ी है. जिसमें सपा को तीन सीट दी जा रही थीं. जिससे नाराज़ अखिलेश यादव ने गठबंधन से खुद को अलग कर लिया. और अकेले चुनाव लड़ने का फैसला कर लिया.

तीनों पार्टियां हुईं अलग

अब तीनों पार्टियां कांग्रेस-सपा-बसपा अकेले अकेले ही चुनाव लड़ेंगे. क्यूकी मायावती पहले ही राजस्थान चुनाव को लेकर ऐलान कर चुकीं हैं की सपा और कांग्रेस किसी से गठबंधन नहीं होगा. मायावती छत्तीसगढ़ में अजीत जोगी की जनता कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है तो मध्य प्रदेश में अपने बूते पर चुनाव मैदान में है.

मायावती ने अपने तल्ख तेवर दिखाते हुए कांग्रेस व भाजपा को सांपनाथ और नागनाथ की संज्ञा दी थी. जिसके बाद अखिलेश ने भी कांग्रेस पर तंज कस्ते हुए साइकल से हाथ हटा देने की बात कही थी. इन सभी बयानों को देखा जाए तो ये अनुमान लगाया जा सकता है की 2019 लोकसभा चुनाव में होने वाले महागठबंधन से कांग्रेस बाहर हो सकती है.

Web Title :  Akhilesh breaks alliance with Rahul in Rajasthan

HINDI NEWS से जुड़े अपडेट और व्यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ FACEBOOK और TWITTER हैंडल के अलावा GOOGLE+ पर जुड़ें.