ABP Cvoter Survey: ABP न्यूज के सर्वे में बीजेपी को क्यों जिताया जा रहा है ? : संपादकीय व्यंग्य..

PRAGYA KA PANNA
PRAGYA KA PANNA

हमारा सर्वे तो आप लोग देखते ही रहते हैं..बिल्कुर खुल्म खुल्ला..जो जैसा कह रहा है..जैसे बता रहा है..अपनी समस्या सुना रहा है..वैसा हम दिखा रहे हैं..उत्तर प्रदेश में हम लोग कुछ ही दिन में घूमने वाले हैं..आपको पूरा उत्तर प्रदेश हम दिखाने वाले हैं..इस बार उल्टा चश्मा और प्रज्ञा के पन्ना पर नजर बनाकर रखिए..ये गारंटी है कि हमसे ज्यादा अच्छा और हमसे ज्यादा सच्चा कोई ना तो बता पाएगा ना ही दिखा पाएगा ये गारंटी है..ये तो हो गई हमारी बात अब मुद्दे की बात ये है कि 2022 इलेक्शन के पहले सी वोटर और एबीपी न्यूज (ABP News) का सर्वे आ गया है जिसके मुताबिक यूपी में बीजेपी (BJP) फुल बहुमत से ज्यादा सीटों के साथ सरकार बनाएगी..2022 में इतने हाथ पैर मारने के बाद भी ज्यादा से ज्यादा 117 से ज्यादा सीटें नहीं पाएगी..उत्तराखंड में भी बीजपी सरकार आ रही है..पंजाब में केजरीवाल मुख्यमंत्री बनें ना बनें..आम आदमी पार्टी की सरकार बनेगी..बाकी जगह जैसे गोवा में भी बीजेपी (BJP) मणिपुर में भी बीजेपी की ही सरकार बनेगी..

हालांकि चुनाव में बहुत समय है..वोटरों का मूड और मानसिकता तब तक 75 बार पलटा खाएगी..लेकिन आज की नेशनल मीडिया की बड़ी खबर यही है कि देश के सबसे ज्यादा सीटों वाले सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में 2022 में बीजेपी (BJP) की ही सरकार वापस आ रही है..सी वोटर और एबीपी न्यूज के सर्वे में बीजेपी (BJP) गठबंधन को 42 फीसदी वोट मिलेंगे..यानी इस बार से एक फीसदी वोट ज्यादा मिलेंगे..समाजवादी पार्टी के गठबंधन को 30 फीसदी वोट मिलेंगे..यानी 7 फीसदी ज्याद वोट मिलेंगे लेकिन सीटें केवल 109 से 117 के बीच ही मिलेंगी.. बीजेपी 2022 में 259-267 सीटें ले जा सकती है..बीएसपी को 12 से 16 सीटें ही मिल सकती हैं..यानी बसपा ब्राह्मण सम्मेलन में जो खर्चा कर रही है वो सब बेकार चला जाएगा..सी वोटर और एबीपी न्यूज (ABP News) के सर्वे के मुताबिक कांग्रेस को भी ज्याद मेहनत करने की जरूरत नहीं है सीटें केवल 3 से 7 ही आएंगी.. अन्य को 6 सीटें तक मिल सकती हैं..

ये तो हुई सर्वे की बात..अब हम बात कर लेते हैं कि अगर बीजेपी (BJP) जीतेगी तो क्यों जीतेगी और सपा अगर फिर से हारेगी तो क्यों हारेगी..तो सबसे पहले सपा की सर्वे में हार के कारणों पर चर्चा कर लेते हैं..

1- समाजवादी पार्टी अपनी 2017 वाली बीमारी अब तक ठीक नहीं कर पाई है..शिवपाल यादव अलग अलग मंचों से पारिवारिक दुखड़ा सुना रहे हैं..सपा और प्रसपा दोनों के नेता चुनाव जीत पाएंगे कि नहीं इससे ज्यााद चर्चा इस बात की है कि चाचा भतीजा मिल पाएंगे की नहीं..मतलब 2017 की रिवांड टेप बज रहा है..सपा के यादव वोटर भी इसी आस और चकल्लस में हैं..घर की लड़ाई अखिलेश यादव के काम पर हावी है…

-----

2- एबीपी न्यूज (ABP News) और सी वोटर का जो सर्वे आया है वो प्रि मेच्योर सर्वे है..अभी बहुत जल्दी है..अभी सपा अपने छोटे दलो के साथ ठीक से गठबंधन भी नहीं कर पाई है..बहुत कुछ समीकरण बनने बिगड़ने बाकी हैं..ओम प्रकाश राजभर किधर जाएंगे..शिवपाल किधर जाएंगे..ओवैसी किधर जाएंगे..चंद्रशेखर रावण किधर जाएंगे..इस सब से भी वोट प्रभावित होगा…

3- बीजेपी (BJP) के जीतने की वजह उसका मैनेजमेंट होगा..RSS होगा..बीजेपी का संगठन होगा..एंटीएंकंबैसी फैक्टर ना पैदा कर पाने की विपक्ष की नाकामी होगी..महंगाई बेरोजगारी के मुद्दे उठाने में फेल विपक्ष ही बीजेपी को जिताएगा..आम आदमी को ऐसी कोई बहुत तकलीफ नहीं है…आम आदमी के हिसाब से महंगाी एडजस्टेबल है..आम आदमी मार बिलबिला गया हो ऐसा नहीं है..आम आदमी राशन से खुश है..शौचालय से खुश है..प्रधानमंत्री आवास से खुश है..किसान निधि सम्मान से खुश है..जिसको मिल रहा है वो मौज में है..और जिनके होटल बंद हुए..स्कूल बंद हुए..नौकरी गईं..वो सब एडजस्ट करने वाले लोग हैं..एक मुश्त वोट जहां से मिलना है..

बीजेपी (BJP) को वहां जो पहुंचाना है पहुंचा रही है..अगर आप मुझसे पूछें कि प्रज्ञा आपकी इस सर्वे को लेकर क्या राय है..तो आज की तारीख में जितना मैं लोगों के बीच निकलती हूं..उस हिसाब से आज की तारीख में ये सर्वे मेरे नजरिए से शहरी इलाकों में बिल्कुल सही हैं..मैं कुछ दिनों बाद गांवों की तरफ निकलने वाली हूं..तो गांवों के मन में क्या है वो भी बताऊंगी..देखिए वोटिंग इस बार भी धर्म के आधार पर ही होगी..कोई ये अंदाजा लगाए कि इस बार आएगा सावन झूमके तो वो उसकी गलत फहमी हो सकती है..मैं अभी तक शहरी वोटरों के हिसाब से बात कर रही हूं..विपक्ष की जो हालत है..और जो अब तक का काम करने का पैटर्न है उस हिबास से भी शहरी इलाकों में ये सर्वे ठीक साबित हो सकता है…फिर कहती हूं..यूपी की सरकार बदलने और पलटने का माद्दा सिर्फ गांवों में है…और गांव कुछ दिन बाद मैं घूमूंगी तब आपको बताऊंगी..

4- 2022 में सी वोटर और एबीपी न्यूज (ABP News) के सर्वे में जीत का कारण एक ये ही हो सकता है कि जिस मुस्लिम वोट को विपक्ष अपना समझता है वो वोटिंग के समय सपा बसपा कांग्रेस में राशन की तरह बंटता है..यूपी में अब तक का वोटिंग पैटर्न भी यही कहता है..और इस बार ओवैसी साहब हर सीट से 200-500 मुस्लिम वोट तो काटेंगे ही..

5- तो कुल मिलाकर एबीपी न्यूज (ABP News) और सी वोटर के सर्वे में बीजेपी (BJP) की संभावित जीत का कारण बीजेपी नहीं है..एक दम लाचार..अपनी पारिवारिक समस्याओं से जूझता..विपक्ष ही हो सकता है..बाकी मैं आपको यूपी की हर विधानसभा सीट से लोगों का मूड बताऊंगी..दिखाऊंगी..जिसमें कुछ छिपा हुआ नहीं होगा..क्योंकि जब मैंने चुनाव की नब्ज टटोलने वाले यूपी के एकलौते सरल संपूर्ण सौहर्दपूर्ण सर्वे कटिंग चाय की शुरूआत 2017 में की थी..तो इसी लक्ष्य के साथ की थी कि एक ऐसा सर्वे होना चाहिए जो लोगों को दिखाई दे..जहां भीड़ बुलाकर बात ना हो..लोगों के पास जाकर उनसे बात हो..तो कुछ ही दिनों में हम लोग बहुत बड़े स्तर पर निकलने वाले हैं..सर्वे का स्तर इतना बड़ा होगा..हर जगह आपको सच्चाई दिखाई जाएगी…

Disclamer- उपर्योक्त लेख लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार द्वारा लिखा गया है. लेख में सुचनाओं के साथ उनके निजी विचारों का भी मिश्रण है. सूचना वरिष्ठ पत्रकार के द्वारा लिखी गई है. जिसको ज्यों का त्यों प्रस्तुत किया गया है. लेक में विचार और विचारधारा लेखक की अपनी है. लेख का मक्सद किसी व्यक्ति धर्म जाति संप्रदाय या दल को ठेस पहुंचाने का नहीं है. लेख में प्रस्तुत राय और नजरिया लेखक का अपना है..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *