प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा को लोकायुक्त का नोटिस, वेंटिलेटर घोटाले में मांगा जवाब

AAM ADAMI PARTY : आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह लगातर यूपी सरकार हमलावर होते नजर आ रहे हैं… सभाजीत सिंह ने यूपी सरकार पर कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के चलते बच्चों के लिए खरीदे गए वेंटिलेटर समेत तमाम चिकित्सीय उपकरण की खरीद में घोटाले आरोप लगाया था. उन्होंने कहा था कि यूपी सरकार ने बच्चों के लिए खरीदे गए वेंटिलेटर की कीमत 22 लाख रूपए बताई थी. जबकि बच्चों के लिए खरीदे गए वेंटिलेटर की 8 लाख रूपए हैं…

इस मामले को आम आदमी पार्टी ने 6 जुलाई को पार्टी की जिला इकाई और सभी फ्रंटल संगठनों के पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं के मिलकर लखनऊ में सरकार के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया था. प्रदर्शन कर सभाजीत सिंह ने कहा था कि आम आदमी पार्टी महामारी के दौर में बच्‍चों के नाम पर इस तरह के भ्रष्‍टाचार कतई बर्दाश्‍त नहीं करेगी. योगी सरकार मासूमों के लिए वेंटिलेटर की पूरी खरीद महाराष्‍ट्र की एक ब्लैक लिस्टेड कंपनी से बिना टेंडर किए किया हैं.

http://ultachasmauc.com/asaduddin-owaisi/

जो वेंटीलेटर 8 लाख रूपए का सरकार ने उन्हें ब्लैक लिस्टेड़ कंपनी से 22 लाख रूपए में किया हैं. साथ ही कई चिकित्सकीय उपकरणों को दो से तीन गुना कीमत पर खरीद में 5880 लाख रुपए का घोटला किया हैं.

वेंटिलेटर घोटले में आप प्रवक्ता वैभव महेश्वरी ने मामले की लिखित शिकायत लोकायुक्त से की थी. शिकायत के बाद लोकायुक्त ने मामले को संज्ञान में लेकर प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा यूपी को नोटिस जारी कर जवाब मांगा हैं.. लोकायुक्त ने मामले में कहा कि प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा उत्तर प्रदेश 23 सितम्बर तक जानकारी के साथ ही मामले से अवगत कराने की बात कही हैं.

http://ultachasmauc.com/what-is-the-purpose-of-taliban-al-qaeda-and-islamic-state/

संजय सिंह ने यूपी सरकार पर लगाया था आरोप

AAP सांसद संजय सिंह इन मेडिकल उपकरणों की खरीद में एक बड़ा घोटाला होने का दावा किया था. संजय सिंह ने कहा था कि “योगी सरकार ने जिस वेंटिलेटर को 22 लाख में खरीदा है. एमपी सरकार ने महज 10.27 लाख में खरीदा है. जो वेंटिलेटर यूनिवर्सल बाजार में 9 लाख में उपलब्ध है, उसे योगी सरकार 17 लाख में खरीदा.बाईपैप की खरीद 273000 में की गई, जबकि बाजार में इसकी कीमत लगभग 1 लाख ही थी.”

संजय सिंह ने कहा था कि “इन्फ्यूजन मशीन, पोर्टेबल टेबल एक्स रे मशीन आदि दर्जन भर से ज्यादा उपकरण दो से 3 गुना कीमत पर खरीदे गए. पहली लहर के दौरान 27 मार्च, 2020 योगी सरकार ने 200 वेंटिलेटर 1700000 रुपए की दर से खरीदे मगर यही वेंटिलेटर मध्यप्रदेश सरकार को महज 10 लाख 27 हजार रूपये में मिल जाता है. RTPCR मशीन मध्य प्रदेश की सरकार को 14 लाख रूपये में मिल जाती है, तो वही मशीन योगी सरकार में आगरा और बदायूं जिले में 49 लाख रूपये में खरीदी गई.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *