देश के 93.5% लोगों को मोदी सरकार पर भरोसा, कोरोना की जंग में जीतेगा भारत

देश में कोरोना से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में केंद्र सरकार बेहतर काम कर रही है. इस समय देश में 23,039 कोरोना के मरीज हैं. इसमें एक्टिव केस 17,306 हैं. 5,012 मरीज ठीक हो कर घर जा चुके हैं और 721 मरीजों की मौत हो गई है.

93 % indians believe modi govt will handle coronavirus
93 % indians believe modi govt will handle coronavirus

आईएएनएस-सी वोटर कोविड-19 ट्रैकर सर्वे की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कोरोना से निपटने के लिए देश की जनता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पूरा भरोसा जताया है. सर्वे के मुताबिक, जब पीएम मोदी ने 25 मार्च को लॉकडाउन का ऐलान किया था तब देश के 76.8% लोगों को मोदी सरकार पर भरोसा था. लेकिन अब 21 अप्रैल तक के सर्वे में ये बढ़कर 93.5% हो गया है.

-----

सर्वे के दौरान लोगों ने कहा कि उन्हें लगता है कि सरकार कोरोनावायरस से अच्छी तरह से निपट रही है. बतादें कि पीएम मोदी खुद देश की जनता को लगातार सम्बोधित कर रहे हैं. नए नए संदेश और तरीके बता रहे हैं. ताकि लोग इस खतरनाक वायरस को समझें और अपने घरों में रहें. देश की जनता को किसी भी तरह की परेशानी न हो इसका भी पूरा ख़याल मोदी सरकार रख रही है.

माइक्रोसॉफ्ट के फाउंडर बिल गेट्स ने भी कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लिए गए फैसलों की सराहना की थी. उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में आपकी सरकार ने डिजिटल क्षमताओं का पूरा इस्तेमाल किया है. भारत में लॉकडाउन का फैसला एक सही कदम है. उन्होंने आगे कहा कि हम आपके नेतृत्व और आपकी और आपकी सरकार के सक्रिय कदमों की सराहना करते हैं.

मोदी सरकार के इन कदमों से भारत में कोविड-19 संक्रमण की दर को बढ़ने से रोकने में कामयाबी मिली है. इसमें नेशनल लॉकडाउन, हॉटस्पॉट इलाकों में टेस्टिंग पर फोकस करना, क्वारैंटाइन सुविधाओं समेत स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाना, इन्हें मजबूत करने जैसे कई फैसले सराहनीय हैं.

इससे पहले पीएम मोदी ने अंग्रेजी वर्णमाला के वॉवेल्स ए, ई, आई, ओ और यू के जरिए युवाओं को टिप्स दिए थे. उन्होंने कहा- मैं इसे वॉवेल्स ऑफ न्यू नॉर्मल कहता हूं, क्योंकि अंग्रेजी भाषा में वॉवेल्स की तरह ही ये भी कोविड-19 के बाद दुनिया के नए बिजनेस मॉडल के अनिवार्य अंग बन जाएंगे.

A = एडॉप्टीबिल्टी यानी अनुकूलता
E = एफिशिएंसी यानी दक्षता
I = इन्क्लूसिविटी यानी समावेशिता
O = अपॉर्च्युनिटी यानी अवसर
U = यूनिवर्सलिज्म यानी सार्वभौमिकता

उन्होंने कहा था कि आज दुनिया नए कारोबारी मॉडल तलाश रही है और युवा राष्ट्र अपनी नवोन्मेषी उत्साह के लिए जाना जाता है और ये नई कार्य संस्कृति प्रदान करने का मार्ग प्रशस्त करता है. भारत भौतिक और आभाषी तत्वों का सही मिश्रण है और ये कोविड-19 के बाद की दुनिया में जटिल आधुनिक एवं बहुराष्ट्रीय आपूर्ति श्रृंखला के केंद्र के रूप में उभर सकता है.

सम्पूर्ण लॉकडाउन में जनता को ज्यादा दिक्कत न हो इसके लिए सरकार ने 20 अप्रैल से कई चीजों में छूट भी दे दी है. पीएम मोदी देश के साथ साथ विदेशों का भी पूरा ख़याल रख रहे हैं. अपने सभी मित्र देशों को इस वायरस से लड़ने में मदद कर रहे हैं. जिससे देश ही नहीं बल्कि पूरा विश्व आज भारत और पीएम मोदी की तारीफ कर रहा है.