पूरा समुद्र में तैरकर लड़का पहुंच गया दूसरे देश, सच्ची घटना..

पड़ोसी देश मोरक्को से स्पेन में कम से कम 5,000 प्रवासी मंगलवार को पहुंचे हैं. इनमें से लगभग एक हजार नाबालिग हैं. वे उत्तरी अफ्रीकी एन्क्लेव सेउटा पहुंचे हैं. लेकिन इस दौरान ऐसा कुछ देखने को मिला जिससे आप भी भावुक हो जाएंगे.

तैरते हुए स्पेन पहुंचा

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हुआ. इस वीडियो में एक एक लड़का प्लास्टिक की खाली बोतलों को अपनी कमर और कपड़ों से बांधकर समंदर में तैरने की कोशिश कर रहा है. इस वीडियो में वो रो रहा है, चिल्ला रहा है और अपनी बेबसी जाहिर कर रहा है. उसकी बेबसी उसके चेहरे पर साफ झलक रही है. बताया गया कि यह प्रवासी लड़का स्पेन-मोरक्को सीमा से तैरते हुए स्पेन के उत्तरी अफ्रीकी क्षेत्र सेउटा पहुंचा है.

मैं वापस नहीं जाना चाहता

ये वीडियो भावुक कर देने वाला है. किसी तरह जब ये बच्चा किनारे पहुंचा और मौजूद दीवार को फांदकर के शहर की ओर भागने लगा तो सैनिकों ने उसे रोक लिया. ‘रॉयटर्स‘ की रिपोर्ट के मुताबिक वो लड़का कहता सुनाई दे रहा है कि ‘मैं वापस नहीं जाना चाहता. मेरा मोरक्को में कोई नहीं है. मैं वापस जाने के बजाय ठंड से मरना पसंद करूंगा. तब जवान ने आगे कहा, ‘मैंने कभी इतने नौजवान युवक को ऐसा कहते नहीं सुना’.

-----

करीब 8,000 लोग मोरक्को से एन्क्लेव पहुंचे

बता दें, ये लड़का उन 8 हजार प्रवासियों में से एक है जो मोरक्को छोड़कर सेउटा आ गए हैं. स्पेन के अधिकारियों ने मुताबिक, बीते दो दिनों में करीब 8,000 लोग मोरक्को से एन्क्लेव में पहुंचे हैं. इसे रोकने के लिए स्पेन ने अब सैनिकों को बॉर्डर पर तैनात कर दिया है. स्पेन सरकार ने बताया कि प्रवासियों में सबसे ज्यादा 1,500 किशोर शामिल हैं, जो या तो सीमा की बाड़ के चारों ओर तैरते रहे या कम ज्वार वाले इलाके में चले गए.

-----

स्पेन मोरक्को के लोगों को शरणार्थी नहीं मानता

दरअसल, स्पेन मोरक्को के रहने वालों को शरणार्थी का दर्जा नहीं देता है. सिर्फ बिना अभिभावकों के आए नाबालिग ही सरकार की देख-रेख में देश में रह सकते हैं. सरकारी रिपोर्ट में कहा गया है कि समुद्र के रास्ते प्रवेश करने की कोशिश कर रहे लोगों की संख्या में कमी आई है. कुछ प्रवासी स्वेच्छा से मोरक्को लौट रहे हैं जबकि कुछ लोगों को सैनिकों द्वारा ले जाते हुए देखा जा सकता है.

पोलिसारियो फ्रंट के नेता का स्पेन में इलाज

कहा जा रहा है कि ये माइग्रेशन मैड्रिड और रबात के बीच राजनयिक तनाव को लेकर शुरू हुआ. ये तनाव तब सामने आया जब पोलिसारियो फ्रंट के नेता ब्राहिम गली अप्रैल में उत्तरी स्पेन पहुंचे और उनका COVID-19 का इलाज अस्पताल में किया जा रहा था. दरअसल पोलिसारियो फ्रंट ने मोरक्को से पश्चिमी सहारा की स्वतंत्रता के लिए लंबे समय से लड़ाई लड़ी है. इसे लेकर विश्लेषकों ने चेतावनी दी है कि अवैध आप्रवास के खिलाफ लड़ाई में मैड्रिड और रबात के बीच द्विपक्षीय सहयोग को खतरा हो सकता है.

क्या है इस विवाद का इतिहास ?

मतलब साफ़ है कि यहाँ भी जमीन को लेकर विवाद चल रहा है. इसकी शुरुआत 1884 से हुई थी. जब कथित कॉन्गो सम्मेलन के अनुसार अफ्रीका के बड़े हिस्सों को यूरोप की तत्कालीन साम्राज्यावादी ताकतों के बीच बांट दिया गया था. और पश्चिमी सहारा कहा जाने वाला इलाका तब स्पेन के प्रभाव में आ गया था. फिर 1976 में स्पेन उस इलाके से पीछे हटने लगा. तब मोरक्को और मॉरिटेनिया दोनों ने इस इलाके पर अपने दावे शुरू दिए थे. लेकिन 1979 में मॉरिटेनिया ने भी अपना दावा छोड़ दिया और मोरक्को ने अकेले पश्चिमी सहारा के दक्षिणी हिस्से पर कब्जा कर लिया था.

पोलिसारियो फ्रंट क्या है ?

ये कब्ज़ा इतना आसान नहीं था यहाँ पर पोलिसारियो फ्रंट और मोरक्को में युद्ध जैसे हालात भी बने. अब आप सोच रहे होंगे कि ये पोलिसारियो फ्रंट क्या है ? तो हम आपको बतादें कि ये पश्चिमी सहारा में आता है. पोलिसारियो फ्रंट एक स्पैनिश नाम है जिसे अंग्रेजी में पॉप्युलर फ्रंट फॉर द लिबरेशन ऑफ सेगुआ अल हमरा एंड रियो डे ओरो कहा जा सकता है. इसकी स्थापनी 1973 में हुई थी. ये एक नाम है लेकिन इसमें दो इलाके हैं.

मोरक्को ने सीमा पर बना ली दीवार

पोलिसारियो का मकसद है पश्चिमी सहारा में एक स्वतंत्र देश की स्थापना करना. लेकिन 1970 के दशक में मोरक्को के बहुत से लोग रहने के लिए उन इलाकों चले गए थे. जिसे पोलीसारियो ने सहारन अरब डेमोक्रैटिक रिपब्लिक कहा था. फिर 1975 में मोरक्को की सेना से उनका हिंसक विवाद शुरू हो गया. 1991 में दोनों पक्षों के बीच एक युद्ध विराम का ऐलान हुआ. युद्ध विराम से पहले मोरक्को ने सीमा पर एक दीवार भी बनानी शुरू कर दी थी जिस कारण खनिजों वाले ज्यादातर इलाके पर मोरक्को का कब्जा है.

-----

पोलिसारियो फ्रंट के सपोर्ट में 50 देश

मोरक्को चाहता है कि पश्चिमी सहारा का पूरा हिस्सा मेरे कब्जे में हो. पोलिसारियो फ्रंट ऐसा नहीं चाहता. अब पोलीसारियो ने जिसे सहारन अरब डेमोक्रैटिक रिपब्लिक का दर्जा दिया था उसको लगभग 50 देश मान्यता देते हैं. अफ्रीकी संघ भी उसे मानता है और इसे अक्सर ‘गैर-स्वशासी क्षेत्र’ कहा जाता है. लेकिन ये लड़ाई जारी रही. और 2017 में फिर सहारन अरब डेमोक्रैटिक रिपब्लिक के कानूनी दर्जे को लेकर अलग-अलग हल सुझाए गए.

आज भी नहीं निकला कोई हल

जिसमें कहा गया कि इसे मोरक्को के भीतर ही स्वायत्तता दे दी जाए. मतलब मोरक्को में ही शामिल कर दिया जाए. मगर संयुक्त राष्ट्र के मिशन फॉर रेफरेंडम इन वेस्टर्न सहारा को सबसे पहले तो इसी इलाके में जनमत संग्रह कराने के लिए भेजा गया था ताकि वहां के लोग अपना भविष्य खुद चुन सकें. इतनी वार्ता हुई लेकिन आज भी इस विवाद का कोई हल नहीं निकला आज भी विचार-विमर्श जारी है. दोनों की इस लड़ाई में वहां रहने वाले लोग आये दिन पलायन कर रहे हैं.

सवाल- Question- स्पेन और मोरक्को विवाद कब शुरू हुआ ? When did the Spain and Morocco dispute start?
उत्तर – Answer -स्पेन और मोरक्को विवाद 1884 में शुरू हुआ. Spain and Morocco dispute started in 1884.
सवाल- Question- पोलिसारियो फ्रंट क्या है ? What is the Polisario Front?
उत्तर – Answer -पोलिसारियो फ्रंट एक स्पैनिश नाम है जिसे अंग्रेजी में पॉप्युलर फ्रंट फॉर द लिबरेशन ऑफ सेगुआ अल हमरा एंड रियो डे ओरो कहा जा सकता है. Polisario Front is a Spanish name that can be called the Popular Front for the Liberation of Segua al Hamra and Rio de Oro in English.
सवाल- Question- कितने लोग मोरक्को से एन्क्लेव पहुंचे ? How many people reached the enclave from Morocco?
उत्तर – Answer – 8,000 लोग मोरक्को से एन्क्लेव में पहुंचे हैं. 8,000 people have arrived in the enclave from Morocco.
पूर

9 thoughts on “पूरा समुद्र में तैरकर लड़का पहुंच गया दूसरे देश, सच्ची घटना..

  • May 29, 2021 at 11:11 pm
    Permalink

    Hello pragiya ji apka bada wala fan ho..

    Reply
  • May 29, 2021 at 11:12 pm
    Permalink

    U r big wala fan…🥰

    Reply
    • May 30, 2021 at 4:14 pm
      Permalink

      धन्यवाद राजिक जी..

      Reply
  • May 30, 2021 at 6:22 pm
    Permalink

    please see my instagram story
    @ independent_prafull_bitle

    Reply
  • May 30, 2021 at 6:23 pm
    Permalink

    please see my instagram story क्रप्या मेरी इंस्टाग्राम स्टोरी देखे मेम जिसमे आपको मेंशन किया गया है
    @ independent_prafull_bitle

    Reply
  • June 2, 2021 at 1:16 pm
    Permalink

    मेम आप कभी गुजरात मे भी रिपोटिंग करो। गुजरात के बारेमे गुजरात मे क्या हो रहा है । प्लीज थोड़ा ध्यान दीजिये गया।

    Reply
    • June 5, 2021 at 6:39 pm
      Permalink

      vijay ji , mai uttar pradesh ki patrakar hu , ap logo ke pyar se desh ke har kone tak pahuch gai hun, apki bat ka adar hai gujrat zaroor aaungi

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *