राममंदिर: फैसले वाले दिन 250 लोगों को किया जायेगा नजरबंद, ये है बड़ा कारण

राममंदिर पर फैसला आने की उलटी गिनती शुरू हो गई है. और यूपी समेत पूरे देश में सबको अलर्ट कर दिया गया है. मुख्यमंत्री ने सख्त आदेश दिए हैं की गड़बड़ करने वालों को तुरंत जेल में डालें.

250 people under house arrest on ayodhya verdict day
250 people under house arrest on ayodhya verdict day

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने में अब गिनती के 4-5 दिन ही बचे हैं. लेकिन इससे पहले ही अयोध्या में पुलिस-प्रशासन सख्त हो गया है. पूरे अयोध्या जिले को आठ जोन और 31 सेक्टरों में बांटा गया है. निर्णय वाले दिन के लिए रैपिड एक्शन फोर्स, आरआरएफ और पीएसी की दस कंपनी मांगी गई हैं. कोई व्यक्ति तेजाब, पत्थर, कंकड़, कांच के टुकड़े, खाली बोतलें या अन्य कोई विस्फोटक सामग्री लेकर नहीं निकलेगा. सार्वजनिक स्थानों पर मांसाहार के बचे अवशेष फेंकने पर पाबंदी होगी.

खबर ये भी आ रही है की जिस दिन सुप्रीम कोर्ट फैसला सुनाएगा, उस दिन बसपा के पूर्व विधायक योगेश वर्मा सहित करीब 250 लोगों को नजरबंद कर दिया जाएगा. योगेश वर्मा दो अप्रैल 2018 को भारत बंद के दौरान मेरठ में हिंसा फैलाने के आरोपी हैं. हिंसा की फाइल पुलिस ने दोबारा खोल ली है. इसमें जितने भी लोग जेल गए थे, उन सभी को नजरबंद करने की तैयारी है. पुलिस और प्रशासन के अधिकारी फैसले वाले दिन इंटरनेट सुविधा बंद कराने पर भी विचार कर रहे हैं, ताकि लोग कोई भड़काऊ मैसेज वायरल न करने पाएं.

अयोध्या जिले में रहने वाले लोगों से कहा गया है कि वे सोशल मीडिया जैसे कि वाट्सऐप, ट्विटर, टेलिग्राम और इंस्टाग्राम जैसे प्लेटफॉर्म पर भगवान को लेकर दो महीने तक किसी भी तरह की अपमानजनक टिप्पणी न करें. आदेश का उल्लंघन करने वालों पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 188 के तहत मामला दर्ज किया जाएगा. सरकारी अधिकारियों को छोड़कर सभी व्यक्तियों के लाइसेंसी हथियार ले जाने पर रोक लगाई हुई है. अगर किसी को हथियार लेकर चलना है तो उसे जिला प्रशासन से इसकी इजाजत लेनी होगी.

अयोध्या प्रकरण को लेकर शहर में ही हर थाना क्षेत्र में 40 से ज्यादा मीटिंग रोजाना हो रही हैं. इसके साथ पूरे जिले में 75 से ज्यादा स्थानों पर अयोध्या प्रकरण को लेकर मीटिंग हो रही हैं. सभी थानेदार और सीओ को हर रोज अलग-अलग वर्ग की बैठक करने का निर्देश दिया गया है.

392 total views, 5 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *