UP: जेल में बंद ये अपराधी बन गए करोड़पति, इनका गिरोह करता है लूट, डकैती, हत्या

कानून को और कोई माने या न माने मगर गुंडे, बदमाश, डकैत, चोर, रेपिस्ट बल्कि सभी तरह के अपराधी कानून को बहुत ही अच्छा मानते हैं. फिल्मों में भी कई बार सुनने को मिलता है कि इंडिया की जेल सबसे सेफ जगह है. आइये जानते हैं ऐसा क्यों…

17 criminals turned millionaires in jail
17 criminals turned millionaires in jail

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 17 बदमाश ऐसे हैं जो जेल में रहते हुए करोड़पति बन गए हैं. इन सभी अपराधियों के गिरोह जेल के बाहर सक्रिय हैं. और ये जेल में रहते हुए अपने गिरोह से हत्या, लूट, डकैती, अपहरण, फिरौती वसूलने जैसे अपराध कराकर करोड़ों की संपत्ति बना ली है. प्रशासन भी इन अपराधियों की अवैध संपत्ति जब्त करने का अभियान चला कर 2-3 दिन में ही फ्लॉप हो गया.

बड़ी बात तो ये है कि जेल में बंद ये बदमाश खुद को वहां सुरक्षित मान रहे हैं. इतना ही नहीं कई मुकदमों में बरी होने बावजूद भी जमानत पर बाहर आने को तैयार नहीं है. उनको अपने घर जाना ही नहीं है. ये बदमाश जेल में रहकर बड़ी आसानी से अवैध संपत्ति अपने परिचितों या परिजनों के नाम कर रहे हैं.

17 शातिर बदमाशों में सुनील राठी, धर्मेंद्र, संजीव जीवा, सुशील मूंछ, योगेश भदौड़ा, उधमसिंह भूपेंद्र बाफर, मुकीम काला, सारिक, फाईक, भूपेंद्र बाफर, मीनू, अनिल दुजाना, सुंदर भाटी, सिंहराज भाटी, रणदीप भाटी, उमेश पंडित हैं, जो जेल में भी सक्रिय हैं. इनमें से कई अपराधी तो ऐसे हैं जो दस साल से भी ज्यादा समय से जेल में हैं और अब करोड़पति बन गए हैं.

इधर पुलिस-प्रशासन ने गैंगेस्टर एक्ट के तहत बागपत में सुनील राठी, धर्मेंद्र किरठल, मेरठ में योगेश भदौड़ा और शराब माफिया रमेश प्रधान की करीब चार करोड़ की संपत्ति जब्त की है. और कई बदमाशों की संपत्ति जब्त करने की प्रक्रिया जारी होना बताया गया है.

बतादें कि उत्तर प्रदेश में योगी सरकार बनने के बाद से मेरठ जोन में 75 बदमाश मुठभेड़ में ढेर हुए हैं. 1730 से ज्यादा बदमाशों के पैरों में गोली लगी है. जबकि 5 हजार से ज्यादा बदमाश गिरफ्तार हुए हैं. लेकिन इसके बावजूद भी अपराध का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है. मेरठ, बागपत, मुजफ्फरनगर समेत पश्चिम के कई जिलों में में लूट, डकैती, हत्या की वारदात हो रही हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *