हाथरस पीड़िता के गांव पहुंची सीबीआई टीम लेगी घटनास्थल की पूरी जानकारी

हाथरस केस की बागडोर अब सीबीआई को सौंप दी गयी है। अब सीबीआई आज हाथरस पहुँचकर पीड़िता के गांव की पूरी जांच करेगी। केंन्द्रीय जांच एजेंसी की फॉरेंन्सिक टीम चंदपा थाने से रवाना हो चुकी है।

जांच ऐजेंसी के मुताबिक सीबीआई जांच के लिए यहां एक अस्थाई कार्यालय भी बना सकती है। वहीं सीबीआई के आने से पहले हाथरस पुलिस ने घटनास्थल को अपने घेरे में ले लिया है।

आमलोगों को घटनास्थल पर ले जाया जा रहा है। कई पुलिस वाले मौजूद हैं वहां पर मैं आपको बता दूं कि सीबीआई की टीम घटना स्थल पर पहुंचकर फॉरेंसिक जांच करने वाले हीं हैं।

वहीं पीड़ित का परिवार कड़ी सुरक्षा के बीच लखनऊ से हाथरस लौट आया है। वहीं घर लौटने के बाद परिवार ने कहा की जबतक उन्हें न्याय नहीं मिल जाता तब तक वो लोग अपनी बेटी की अस्थियों कि विसर्जन नहीं करेंगें।

पीड़ित के परिवार ने कहा कि हमने कोर्ट में भी इस बात को उठाया कि हमारी बिना इजाजत बेटी के शव को जलाया गया है। दरअसल, इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ बेंच में हाथरस मामले को लेकर सोमवार को सुनवाई हुई. इस दौरान कोर्ट में हाथरस केस के पीड़ित परिवार के लोगों के साथ अधिकारियों ने भी अपना पक्ष रखा.

कोर्ट में पीड़ित परिवार ने बेटी के शव को रात में अंतिम संस्कार को लेकर नाराजगी जताते हुए कहा कि उन्हें नहीं पता कि किसका अंतिम संस्कार किया गया है. वहीं, पीड़ित परिवार की वकील सीमा कुशवाहा के मुताबिक, परिवार ने कोर्ट से मांग की है कि सीबीआई की रिपोर्ट को गोपनीय रखी जाए, और इस केस को यूपी के बाहर ट्रांसफर किया जाए और जब‍ तक मामला पूरी तरह से खत्म नहीं हो जाता तब तक परिवार को सुरक्षा प्रदान की जाए.

पीड़िता के परिवार के बयान के बाद हाईकोर्ट हाथरस के डीएम ने कहा था कि पीड़िता का रात में अंतिम संस्कार का फैसला वहां के प्रशासन का था। ऊपर से अंतिम संस्कार को लेकर कोई निर्देश नहीं दिया गया था। कानून व्यवस्था बिगड़ने की आशंका को लेकर ही यह फैसला लिया गया था।

आपको बता दें कि कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच पीड़ित का परिवार हाथरस से लखनऊ के लिए रवाना हुए। और दोपहर को इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच पहुँचे थे।

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *