हाथरस कांड में पीड़िता के भाई का कहना है कि मुझे कॉल रिकॉर्डिंग पर भरोसा नहीं है

हाथरस गैंगरेप में पुलिस जहां पीड़िता और आरोपियों के मोबाइल नंबर की कॉल डिटेल को एक अहम सबूत मान रही है। वहीं पीड़ित का भाई ने कॉल डिटेल को मानने से इंकार कर दिया है। जबकि कॉल डिटेल के आधार पर पुलिस ने पीड़ित परिवार के और मुख्य आरोपी संदीप के बीच बातचीत होने की बात कही लेकिन इस बात से पीड़ित के भाई ने साफ इंकार कर दिया है।

पीड़ित के भाई ने एक टीवी चैनल से बात करते हुए कहा कि आरोपी से उसकी कभी बातचीत नहीं हुई है। पीड़ित के भाई ने यह आरोप लगाया है कि उनपर दबाव और बदनाम करने की साजिश की जा रही है। और ये भी कहा कि मेरी बहन तो अनपढ़ थी फोन कहां से चलाती अगर बात हुई है तो कॉल रिकॉर्डिंग सुनाई जाए।

पीड़िता के भाई ने अपने बयान में यह भी कहा है कि वह तो गाजियाबाद में रहते थे इस घटना की जानकारी मिलने पर ही अलीगढ़ आए थे। और तबसे तो अस्पतालों के चक्कर काट रहें हैं और उसने ये आरोप भी लगाया है कि उनपर हर तरफ से दबाव बनाया जा रहा है आरोपियों को बचाने की कोशिश की जा रही है।

सूत्रों के अनुसार जांच एजेंसियों चारों आरोपियों कि कॉल डिटेल के साथ-साथ पीड़ित के परिवार की सीडीआर निकलवाई है। पुलिस जांच में जुटी हुई है कि वारदार वाले दिन पीड़ित के परिजनों कि लोकेशन कहां-कहां थी। पुलिस अब इस बात का पता लगाने में जुटी है कि जब दोनों के परिवार के बीच इतनी घनिष्ठता थी तो आखिर इस घटना के पीछे का कारण क्या था।

सूत्रों के अनुसार कॉल डिटेल इस मामले में अहम किरदार निभाएगी। वहीं दूसरी तरफ देखा जाए तो हाथरस के एसपी विनीत जायसवाल का कहना है कि दोनों पक्षों कि कॉल डिटेल के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है।

हाथरस कांड की जांच कर रही स्पेशल इनवेस्टीगेशन टीम (एसआईटी) को जांच के लिए 10 दिन का और वक्त दे दिया है। एसआईटी अब 10 दिन बाद अपनी रिपोर्ट सौंपेगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कहने पर पीड़ित के परिवार को कड़ी सुरक्षा दी गई है। परिवार के सभी सदस्यों के लिए सुरक्षा का घेरा तैयार किया गया है। कुछ जगह पर परिवार की सहमति के बाद कैमरे लगाए गए हैं अब किसी को भी जांच के बाद ही पीड़ित के घर में प्रवेश कि अनुमति दी जाएगी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *