स्वास्थय मंत्री ने कहा दो डोज वाली कोरोना वैक्सीन होती है ज्यादा प्रभावी

कोरोना महामारी देश और दुनिया में लगातार बढ़ती जा रही है। भारत में रोजाना नए हजारों के तादाद में मरीज निकल रहें हैं। कोरोना वायरस को लेकर नए-नए रिसर्च लगातार होते रहते हैं।

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने आज कहा कि किसी भी महामारी को नियंत्रित करने में दो खुराक वाली वैक्सीन ज्यादा प्रभावी साबित होती है और उन्होंने वैक्सीन को लेकर कई अहम सवालों के जवाब भी दिए। वैक्सीन की पहली खुराक व्यक्ति में अपेक्षित मात्रा में रोगप्रतिरोधक क्षमता का निर्माण नहीं कर पाती है जबकि दूसरी खुराक देने पर अपेक्षित मात्रा में रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाती है।

उन्होने कहा कि सरकार का लक्ष्य है कि अगले साल तक करीब 20-25 करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन का टीका लग जाए। सरकार कोरोना वैक्सीन की 40-50 खुराक हासिल व उसके इस्तेमाल को लेकर जुटी हुई है। स्वास्थय मंत्री ने कहा कि कोरोना वैक्सीन को काबू करने के लिए ये अच्छा होगा की लोगों को वैक्सीन की एक ही डोज दी जाए।

साथ- ही कहा की कभी-कभी ऐसा होता है कि वैक्सीन की एक खुराक से उतनी इम्यूनिटी नहीं मिल पाती जितनी मिलनी चाहिए। ऐसे में वैक्सीन की 2 डोज देने की जरूरत पड़ सकती है। ताकि पूरी इम्यूनिटी मिल सके। सभी ट्रायल मानकों के तहत होते हैं। जिससे हल्के-फुल्के साइड-इफेक्ट्स हो सकते हैं। लेकिन वैक्सीन को लेकर कोई खतरा नहीं है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *