विकास दुबे एनकाउंटर में UP पुलिस को मिली क्लीन चिट

कानपुर एनकाउंटर का मास्टरमाइंड और गैंगेस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस को बड़ी राहत मिली है. कमेटी को यूपी पुलिस के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिले हैं.

supreme court up police got clean chit in vikas dubey encounter

यूपी पुलिस के खिलाफ कोई सबूत नही

कुख्तात अपराधी विकास दुबे के एनकाउंटर केस की जांच करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने रिटायर्ड जस्टिस बीएस चौहान की एक कमेटी गठित की थी. जाँच में कमेटी को यूपी पुलिस के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला है. कमेटी ने कई पुलिसकर्मियों से पूछताछ की थी, लेकिन पुलिसकर्मियों के खिलाफ एक भी पुख्ता सबूत नहीं मिले. जिसके बाद यूपी पुलिस को क्लीन चिट दे दी गई है. रिटायर्ड जस्टिस बीएस चौहान कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि यूपी पुलिस के खिलाफ कोई सबूत नही मिले हैं.

-----

क्या था मामला ?

-----

2 जुलाई 2020 की रात कानपुर के बिकरू गांव में गैंगेस्टर विकास दुबे को पकड़ने गए पुलिस की टीम पर उसने हमला कर दिया था और आठ पुलिसवालों की निर्मम हत्या कर दी गई थी. इसके बाद आरोपी विकास दुबे वहां से फरार हो गया था. इस कांड से पूरे देश में दहशत हो गई थी. यूपी पुलिस हाई एलर्ट पर थी सभी बॉर्डर सील कर दिए गए थे. उस पर ईनाम भी घोषित कर दिया गया था.

एक हफ्ते छानबीन के बाद पता चला कि गैंगेस्टर विकास दुबे मध्य प्रदेश में है और अगले ही दिन पुलिस ने उसे उज्जैन से गिरफ्तार कर लिया. विकास दुबे को यूपी एसटीएफ और यूपी पुलिस की टीम उज्जैन से यूपी कार के जरिए ला रही थी. तेज बारिश हो रही थी और कानपुर में एंट्री के दौरान काफिले की एक गाड़ी पलट गई. जिसके बाद विकास दुबे पुलिसवालों के हथियार छीन कर भागने लगा. जब पुलिस ने उसे घेरा तो उसने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी. जवाबी कार्यवाही में पुलिस के जवानों ने आत्मरक्षा में गोली चलाई और विकास दुबे मारा गया था.